loader

ट्रंप की नौटंकी का अंत, जमकर हुई आलोचना

नरेंद्र मोदी जैसे ट्रंप के घनिष्ठ मित्रों ने भी संसद भवन पर हमले की निंदा की है। ऐसे में अब ट्रंप 20 जनवरी के बाद भी अपने पद पर टिके रहने का दुस्साहस नहीं करेंगे। लेकिन कुछ सीनेटरों ने मांग की है कि ट्रंप को 20 जनवरी के पहले ही बर्खास्त किया जाए। यह अमेरिकी संविधान के 25वें संशोधन के तहत संभव है। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी संसद पर जो नौटंकी रचाई थी, उसका अंत तो हो चुका है और उन्होंने यह भी मान लिया है कि 20 जनवरी को डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता जो बाइडन और कमला देवी हैरिस राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति की शपथ ले सकेंगे। दूसरे शब्दों में डोनाल्ड ट्रंप राष्ट्रपति की कुर्सी खाली कर देंगे। 

अब दूसरा सवाल यह है कि वे राष्ट्रपति भवन (व्हाइट हाउस) भी खाली करेंगे या नहीं? पिछले माह ऐसा माना जा रहा था कि वे व्हाइट हाउस में डटे रहेंगे और उन्हें वहां से निकालने के लिए फौज को बुलाना पड़ेगा लेकिन अब हुई नौटंकी में वे इतनी बुरी तरह से पिट चुके हैं कि अपने आप भाग खड़े होंगे। 

ताज़ा ख़बरें

पहली बात तो यह कि अमेरिकी कांग्रेस (संसद) के दोनों सदनों ने अपनी संयुक्त बैठक में बाइडन-हैरिस की जोड़ी पर मोहर लगा दी है। यह संवैधानिक दस्तक है कि ट्रंपजी आप सिंहासन खाली करो। दूसरा, ट्रंप की अपनी पार्टी के सांसदों ने ट्रंप के विरोध में भाषण और वोट दिए हैं। तीसरा, ट्रंप और उनके समर्थकों ने कई उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय में याचिकाएं लगा रखी हैं लेकिन उनका सबका अंजाम अधर में ही लटका हुआ है। 

चौथा, ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी को सीनेट के चुनाव में जाॅर्जिया प्रांत ने उल्टा लटका दिया है। दोनों सीटें डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जीत गए हैं। उनमें से एक अश्वेत हैं। पांचवाँ, सारी दुनिया में ट्रंप की इस नौटंकी पर थू-थू हो रही है। 

us capitol violence trump criticised worldwide - Satya Hindi

नरेंद्र मोदी जैसे ट्रंप के घनिष्ठ मित्रों ने संसद भवन पर हमले की निंदा की है। ऐसे में अब ट्रंप 20 जनवरी के बाद भी अपने पद पर टिके रहने का दुस्साहस नहीं करेंगे। लेकिन कुछ सीनेटरों ने मांग की है कि ट्रंप को 20 जनवरी के पहले ही बर्खास्त किया जाए। यह अमेरिकी संविधान के 25वें संशोधन के तहत संभव है। इसके चौथे अनुच्छेद के मुताबिक़ उप-राष्ट्रपति और आधे से ज्यादा मंत्री ऐसा प्रस्ताव पारित करें, तभी ट्रंप को हटाया जा सकता है। उप-राष्ट्रपति माइक पेंस ट्रंप की पार्टी के हैं। 

विचार से और ख़बरें
इसके अलावा शेष 7-8 दिन में ट्रंप क्या कर लेंगे? कुछ लोगों को डर यह है कि परमाणु हथियारों का खटका राष्ट्रपति के हाथ में ही होता है। पता नहीं वे उसे कब और क्यों दबा डालें? मैं समझता हूं कि ट्रंप चाहे जैसे भी चालू आदमी हों, वे इतनी बड़ी मूर्खता नहीं करेंगे। उन्हें शांतिपूर्वक विदा होने दें। आशिक का जनाज़ा है, जरा धूम से निकले।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें