loader

आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में सपा ने क्यों खेला दलित कार्ड?

आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव को समाजवादी पार्टी ने दिलचस्प बना दिया है। तमाम अटकलों को खारिज करते हुए उसने वहां से दलित कार्ड खेल दिया है। दलित कार्ड भी ऐसा जो बीएसपी को परेशान करने वाला है। बीजेपी ने अभी प्रत्याशी का ऐलान नहीं किया है लेकिन समझा जाता है कि वो लोक गायक निरहुआ को फिर से मैदान में उतारेगी। बीएसपी यहां से मुस्लिम प्रत्याशी उतारने जा रही है।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दलित कार्ड खेलकर आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के लिए सुशील आनंद को पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया है. चुनाव 23 जून को होना है।

ताजा ख़बरें
सुशील आनंद बामसेफ के संस्थापक सदस्यों में से एक बलिहारी बाबू के पुत्र हैं। बामसेफ वो संगठन है, जिसके सहारे स्व. कांशीराम ने बहुजन समाज पार्टी को खड़ा किया था। सबसे पहले बामसेफ भी अस्तित्व में आय़ा था।

कयास लगाए जा रहे थे कि समाजवादी पार्टी कन्नौज से पूर्व सांसद डिंपल यादव या बदायूं से पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव, आजमगढ़ से अखिलेश यादव के चचेरे भाई को मैदान में उतार सकती है। कुछ खबरों में तो यहां तक ​​कहा गया था कि सपा विधायक रमाकांत यादव भी आजमगढ़ से संसदीय चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

मैनपुरी जिले की करहल सीट से हालिया विधानसभा चुनाव जीतने के बाद आजमगढ़ से सांसद रहे अखिलेश यादव ने इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद उपचुनाव जरूरी है। उनके पास करहल या आजमगढ़ को बरकरार रखने का विकल्प था। उन्होंने अपनी विधानसभा सीट को बरकरार रखना पसंद किया और बाद में समाजवादी विधायक दल द्वारा विपक्ष के नेता के रूप में चुने गए।

राजनीति से और खबरें
राजनीतिक पंडितों का मानना ​​है कि अखिलेश ने आजमगढ़ के एक दलित को खड़ा कर दलितों को जिताने का मास्टर स्ट्रोक खेला है। डिंपल यादव और धर्मेंद्र यादव को टिकट नहीं देकर सपा नेतृत्व ने विपक्ष के आरोपों का सफलतापूर्वक जवाब दिया है कि वह एक परिवार संचालित पार्टी है।

बीएसपी ने इस सीट से शाह आलम उर्फ ​​गुड्डू जमाली को मैदान में उतारा है। जमाली दो बार के विधायक हैं और विधानसभा चुनाव से पहले एआईएमआईएम में शामिल होने के लिए बीएसपी छोड़ चुके थे। वह कुछ महीने पहले बीएसपी में लौटे और उन्हें आजमगढ़ से उम्मीदवार घोषित किया गया। 
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें
आजमगढ़ सपा का गढ़ है और उसके उम्मीदवार की जीत लगभग तय है। पार्टी ने एक दलित उम्मीदवार को टिकट देकर दलितों को लुभाने की कोशिश की है। बीएसपी तेजी से अपना जनाधार खो रही है और अगर सपा दलितों का समर्थन जीत सकती है, तो यह अपने राजनीतिक भाग्य में भारी बदलाव ला सकती है।

बीजेपी ने अभी उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं किया है। दिनेश लाल यादव उर्फ ​​निरहुआ के पार्टी प्रत्याशी होने की संभावना है। पिछले लोकसभा चुनाव में वह अखिलेश यादव से हार गए थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें