loader

चुनावी तैयारियों में जुटी बीजेपी, शाह ने वॉर रूम में किया मंथन

पांच महीने के भीतर देश के पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा के चुनाव के लिए बीजेपी अपनी तैयारियों को रफ़्तार दे रही है। प्रचंड किसान आंदोलन के बीच होने जा रहे इन चुनावों में बीजेपी को अपने अहम सूबे उत्तर प्रदेश को लेकर सबसे ज़्यादा चिंता सता रही है। 

पांच चुनावी राज्यों में उत्तर प्रदेश, गोवा, मणिपुर, पंजाब और उत्तराखंड शामिल हैं जबकि 2022 के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भी चुनाव होने हैं। 

इन पांच में से चार राज्यों में बीजेपी की सरकार है। पंजाब में किसान आंदोलन के बेहद मज़बूत होने और शिरोमणि अकाली दल के अलग होने के कारण बीजेपी को वहां से उम्मीद कम ही है। 

ताज़ा ख़बरें

मिश्रा को लेकर फंसी सरकार 

किसान आंदोलन और लखीमपुर खीरी की घटना के बाद किसानों और विपक्ष ने जिस आक्रामक अंदाज में मोदी सरकार पर हमला बोला है, उससे बीजेपी निश्चित रूप से परेशान है। पार्टी की सबसे बड़ी मुश्किल यह है कि वह केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को लेकर क्या फ़ैसला करे क्योंकि मिश्रा के इस्तीफ़े से उसे ब्राह्मण समुदाय की नाराज़गी का डर है तो मिश्रा को कैबिनेट में बनाए रखने से किसान आंदोलन और विपक्ष को सियासी ताक़त मिल रही है। 

किसानों और विपक्ष का साफ कहना है कि अजय मिश्रा के पद पर रहते हुए लखीमपुर खीरी की घटना में मारे गए किसानों को इंसाफ़ नहीं मिल सकता। किसान इस मामले में रेल रोको आंदोलन और लखनऊ में महापंचायत करने जा रहे हैं।

उत्तर प्रदेश को पार्टी किसी क़ीमत पर नहीं खोना चाहती क्योंकि यह प्रदेश दिल्ली का रास्ता तय करता है। 2022 में अगर बीजेपी को यहां चुनावी हार मिली तो इसके बाद एंटी बीजेपी फ्रंट बनाने में जुटे नेताओं को ताक़त मिलेगी और बीजेपी के ख़िलाफ़ एक बड़ा गठबंधन भी तैयार हो सकता है। 

Bjp gears for 2022 elections in five states  - Satya Hindi

इसलिए बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में ओबीसी से लेकर दलित और बाक़ी वर्गों को साधने की दिशा में काम शुरू कर दिया है। बीजेपी उत्तर प्रदेश में अगले 100 दिनों में 100 कार्यक्रम करने जा रही है। 

इस दौरान बीजेपी के नेता और कार्यकर्ता अलग-अलग जातियों और समुदायों के लोगों के बीच जाएंगे, डोर टू डोर प्रचार करेंगे और योगी व केंद्र सरकार की योजनाओं के बारे में आम लोगों को बताएंगे। 

अमित शाह पांच राज्यों में पार्टी की तैयारियों को परखने के लिए वॉर रूम पहुंचे और कई घंटों तक पार्टी नेताओं के साथ मंथन करते रहे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर रहते हुए अमित शाह ने कई राज्यों में बीजेपी का परचम लहराया था।

उत्तराखंड में भी होगा असर 

किसान आंदोलन का असर उत्तर प्रदेश के साथ ही उत्तराखंड के चुनाव पर भी होना तय है। कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य के पार्टी छोड़ने के कारण बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। हालांकि बीते कुछ महीनों में उसने तीन विधायकों को पार्टी की सदस्यता भी दिलाई है। लेकिन किसान आंदोलन से तराई और मैदानी इलाक़ों में बीजेपी के वोट बैंक में सेंध लगेगी, ऐसा माना जा रहा है। 

Bjp gears for 2022 elections in five states  - Satya Hindi

मणिपुर: तैयारियों में जुटने का निर्देश 

इसी तरह मणिपुर में बीजेपी ने चुनावी तैयारियों को धार दी है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने हाल ही में राज्य का दौरा किया है। यहां मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह के ख़िलाफ़ विधायकों में नाराज़गी की ख़बरों के कारण पार्टी ज़रूर चिंतित है। पार्टी ने अपने नेताओं को तमाम मतभेदों को भुलाकर चुनावी तैयारियों में जुटने के लिए कहा है। 

राजनीति से और ख़बरें

गोवा में बीजेपी को वापसी की उम्मीद है। पिछली बार वहां उसने कांग्रेस के विधायकों में सेंध लगाई थी। गोवा के 15 से 10 कांग्रेस विधायक बीजेपी में शामिल हो गए थे। इस बीच, अमित शाह ख़ुद गोवा जा रहे हैं और वह वहां पार्टी नेताओं से मिलेंगे। पार्टी ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को गोवा का प्रभारी बनाया है। 

सर्वे से लिया फ़ीडबैक

बीजेपी इन पांचों राज्यों में नमो एप के जरिये सर्वे कराया है। इससे मिले फ़ीडबैक से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी को चुनाव के दौरान रणनीति बुनने में मदद मिलेगी। पार्टी और संघ परिवार जानते हैं कि 2024 के चुनाव नतीजे तय करने में 2022 की बड़ी भूमिका है, इसलिए चुनावों में पूरी ताक़त के साथ उतरा जाए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें