loader

राष्ट्रपति चुनाव: बीजेपी ने की अहम बैठक; एकजुट होगा विपक्ष?

राष्ट्रपति चुनाव के लिए बीजेपी ने तैयारी शुरू कर दी है। सोमवार शाम को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित तमाम आला नेताओं की 4 घंटे तक बैठक हुई। राष्ट्रपति के चुनाव जुलाई में होने हैं और बीजेपी के साथ ही विपक्ष भी अपना उम्मीदवार तय करने को लेकर सियासी कसरत कर रहा है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 25 जुलाई को समाप्त हो रहा है।

बीजेपी की इस अहम बैठक में राष्ट्रपति चुनाव के साथ-साथ जून में होने वाले 57 राज्यसभा सीटों के चुनाव को लेकर भी चर्चा हुई है।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि बीजेपी के पास देश भर के लोकसभा व राज्यसभा सांसदों और विधायकों के 48.9% वोट हैं जबकि विपक्ष के पास 51.1% वोट हैं।

बीजेपी एनडीए के सहयोगी दलों के साथ ही विपक्षी दलों जैसे ओडिशा में सरकार चला रहे बीजू जनता दल, आंध्र प्रदेश में सरकार चला रहे वाईएसआरसीपी का भी समर्थन हासिल करने की जुगत में है। इसके लिए पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेताओं को मोर्चे पर लगाया है। केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव नवीन पटनायक जबकि पार्टी के प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव जगन मोहन रेड्डी के साथ बातचीत कर रहे हैं।

नीतीश क्या करेंगे?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार क्या एनडीए के उम्मीदवार का साथ देंगे? यह सवाल इसलिए उठा है क्योंकि नीतीश इन दिनों बिहार में विपक्षी दल आरजेडी के साथ दोस्ती बढ़ा रहे हैं। नीतीश ने इससे पहले भी एनडीए में रहते हुए ही उसके राष्ट्रपति के उम्मीदवार का समर्थन नहीं किया था। हालांकि कुछ दिन पहले केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने नीतीश कुमार से मुलाकात कर उनसे राष्ट्रपति चुनाव के बारे में चर्चा की है।

BJP meet for Presidential Polls 2022 - Satya Hindi

केसीआर सक्रिय 

दूसरी ओर तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव यानी केसीआर भी एक बार फिर सक्रिय हुए हैं। माना जा रहा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले वह विपक्षी दलों का एक फ्रंट खड़ा करना चाहते हैं। हालांकि विपक्षी नेताओं से उनकी मुलाकात के दौरान राष्ट्रपति चुनाव को लेकर भी चर्चा होने की बात सामने आई है। 

केसीआर ने कुछ दिन पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, एनसीपी के मुखिया शरद पवार, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की थी और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से फोन पर बात की थी। वह जल्द ही पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से भी मुलाकात करने वाले हैं।

BJP meet for Presidential Polls 2022 - Satya Hindi

देखने वाली बात यही है कि विपक्ष एकजुट होकर उम्मीदवार उतारेगा या वह बिखरा हुआ नजर आएगा। यदि वह बिखरा तो एनडीए के उम्मीदवार की जीत तय हो जाएगी। 

कांग्रेस कमजोर, बीजेपी मजबूत 

पांच राज्यों के चुनाव में कांग्रेस की हालत बेहद पतली रही है इसलिए राष्ट्रपति के चुनाव में वह यूपीए के किसी उम्मीदवार को मजबूती से खड़ा नहीं कर पाएगी। जबकि टीएमसी, डीएमके, शिवसेना, टीआरएस विपक्षी उम्मीदवार खड़ा करने में अहम रोल निभाएंगे।

बीजेपी को चार हालिया चुनावी राज्यों में जो सफलता मिली है, इससे उसके लिए चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार को राष्ट्रपति बनाना आसान हो जाएगा।

कैसे होता है चुनाव?

भारत के राष्ट्रपति का चुनाव 776 सांसदों (543 लोकसभा और 243 राज्यसभा) और 4120 विधायकों के द्वारा किया जाता है। इन विधायकों और सांसदों के वोटों की कुल वैल्यू 10,98,903 होती है। हर सांसद के वोट की वैल्यू 708 है जबकि विधायकों के वोटों की वैल्यू हर राज्य में अलग-अलग होती है। 

राजनीति से और खबरें

उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य में हर विधायक के वोट की वैल्यू 208 है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने 273 सीटों पर जीत हासिल की है और कई राज्यों में बीजेपी की सरकार है इसलिए एनडीए के पास इस मामले में बढ़त है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा के वोटों की कुल वैल्यू 83,824, पंजाब की 13,572, उत्तराखंड की 4480, गोवा की 800 और मणिपुर की 1080 है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें