loader
मायावती के साथ भतीजा आकाश आनंद

बीएसपी की कार्यकारिणी भंग, यूपी के लिए 3 कोऑर्डिनेटर

बीएसपी प्रमुख मायावती ने आज पार्टी में नई जान फूंकने के लिए कई बड़े फैसले लिए। पार्टी आलाकमान ने रविवार को प्रदेश अध्यक्ष, विधानसभा अध्यक्ष और जिलाध्यक्ष के पदों को छोड़कर पार्टी की पूरी कार्यकारिणी को भंग कर दिया। मायावती ने अपने भतीजे आकाश आनंद को पार्टी का नैशनल कोऑर्डिनेटर बनाया है। बीएसपी में मायावती के राष्ट्रीय अध्यक्ष के अलावा दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पद नैशनल कोऑर्डिनेटर ही है।तीन मुख्य कोऑर्डिनेटर को मनोनीत किया गया है जो राज्य के प्रभारी भी होंगे। ये हैं; मेरठ से मुनकाद अली, बुलंदशहर से राजकुमार गौतम और आजमगढ़ से विजय कुमार।
ताजा ख़बरें
पार्टी ने विधानसभा चुनाव में हार के बाद 27 मार्च को लखनऊ में समीक्षा बैठक बुलाई थी। अभी और कई बड़े फेरबदल की उम्मीद जताई जा रही है। संगठन में डिवीजन स्तर पर नए चेहरों को जगह मिल सकती है। पार्टी का काडर बहुत दिनों से निचले स्तर पर पार्टी में फेरबदल की मांग कर रहा था। कार्यकर्ताओं का कहना था कि नए चेहरों को जगह दी जाए।
BSP's executive dissolved, 3 coordinators for UP - Satya Hindi
शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली, आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में बीएसपी प्रत्याशी होंगे
गुड्डू जमाली लौटे और प्रत्याशी बनेआजमगढ़ से एआईएमआईएम टिकट पर मुबारकपुर विधानसभा चुनाव लड़ने वाले शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को मायावती ने बीएसपी में फिर से वापस ले लिया है। उनकी वापसी होते ही मायावती ने उन्हें आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में बीएसपी प्रत्याशी घोषित कर दिया है। आजमगढ़ लोकसभा सीट अखिलेश यादव के इस्तीफे से खाली हुई है।

गुड्डू जमाली एआईएमआईएम के एकमात्र प्रत्याशी थे, जिनकी जमानत विधानसभा चुनाव में बच गई थी। एआईएमआईएम ने यूपी में सौ प्रत्याशी खड़े किए थे। जिनमें से इन्हीं की जमानत बची थी। एआईएमआईएम से चुनाव लड़ने से पहले जमाली बीएसपी में ही थे लेकिन वो चुनाव लड़ने वहां चले गए थे। बहरहाल, अब उनकी घर वापसी हो गई है।

राजनीति से और खबरें

हालांकि बीएसपी के मुस्लिम कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया के जरिए बीएसपी प्रमुख से सवाल किया है कि पार्टी ने गुड्डू जमाली के लिए विधान परिषद बनाने के बारे में क्यों नहीं विचार किया। अगर पार्टी सपा के साथ तालमेल बिठाती तो विधान परिषद चुनाव में ही गुड्डू आसानी से एमएलसी बन जाते है। विधान परिषद चुनाव ऐसा मौका था, जब सपा और बीएसपी चुनावी तालमेल कर सकते थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें