loader
फ़ाइल फ़ोटो।

कृषि क़ानून वापस: कांग्रेस ने मनाया ‘किसान विजय दिवस’ 

कृषि क़ानूनों के वापस होने पर कांग्रेस ने शनिवार को देश भर में ‘किसान विजय दिवस’ मनाया। किसान आंदोलन के दौरान सभी विपक्षी राजनीतिक दलों विशेषकर कांग्रेस ने किसानों की आवाज़ को पुरजोर तरीक़े से उठाया। 

‘किसान विजय दिवस’ के दौरान कांग्रेस की राज्य व जिला-शहर इकाइयों की ओर से देश भर में मार्च निकाले गए और बैठकें भी की गईं। कांग्रेस ने कहा था कि जीत किसान की हुई है लेकिन उसने कष्ट बहुत सहे हैं। इसलिए वह आज के दिन को किसान विजय दिवस के रूप में मना रही है। एआईसीसी की ओर से इस संबंध में राज्य इकाइयों को आदेश जारी किया गया था। 

ताज़ा ख़बरें
बीते महीनों में राहुल गांधी ने कई बार कहा कि ये तीनों कृषि क़ानून दो-तीन उद्योगपतियों के फ़ायदे के लिए लाए गए हैं और सरकार को ये क़ानून वापस लेने ही पड़ेंगे। राहुल ट्रैक्टर चलाकर संसद भी पहुंचे थे। किसान आंदोलन के कारण मोदी सरकार और बीजेपी भी बुरी तरह घिर गई थी। 
Congress observe Kisan Vijay Diwas on Farm laws repealed - Satya Hindi

सहयोगी दलों ने छोड़ा था साथ 

शिरोमणि अकाली दल ने भी कृषि क़ानूनों के मुद्दे को लगातार उठाया। अकाली दल के सांसदों ने बीते संसद सत्र के दौरान लगातार प्रदर्शन कर सरकार से इन क़ानूनों को वापस लेने की मांग की थी। किसानों की नाराज़गी को देखते हुए ही शिरोमणि अकाली दल और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने एनडीए से नाता तोड़ लिया था जबकि हरियाणा में बीजेपी के साथ रहने की वजह से दुष्यंत चौटाला लगातार किसानों के निशाने पर थे।

राजनीति से और ख़बरें

किसानों की जीत बताया 

कृषि क़ानून वापस लेने के केंद्र सरकार के फ़ैसले को विपक्षी दलों ने किसानों की जीत बताया है। कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा था कि टूट गया अभिमान, जीत गया मेरे देश का किसान। एनसीपी ने कहा था कि इससे यह संदेश गया है कि देश एकजुट हो तो सरकार को झुकाया जा सकता है। आरजेडी नेता मनोज झा ने कहा कि वे किसानों और पूरे देश को बधाई देते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें