loader

कोरोना संकट के कारण टला कांग्रेस के अध्यक्ष पद का चुनाव 

कोरोना संकट के कारण कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव टल गया है। सोमवार को पहले यह ख़बर आई कि कांग्रेस आलाकमान ने एलान किया है कि 23 जून को पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराया जाएगा और इसके लिए 7 जून तक नामांकन किए जा सकेंगे। पार्टी में फ़ैसले लेने वाली सर्वोच्च संस्था कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में यह फ़ैसला लिया गया। लेकिन थोड़ी ही देर बाद ख़बर आई कि सीडब्ल्यूसी के अधिकांश सदस्यों ने इसका विरोध किया और उसके बाद जून में अध्यक्ष पद पर चुनाव कराने का फ़ैसला टालना पड़ा।

लोकसभा चुनाव 2019 के बाद से स्थायी अध्यक्ष चुने जाने और आंतरिक चुनाव की मांग को लेकर पार्टी में जबरदस्त घमासान हो चुका है। सोनिया गांधी अस्वस्थता के बावजूद अध्यक्ष पद संभाले हुए हैं लेकिन ताज़ा हालात में जब असम, बंगाल, केरल, पुडुचेरी में पार्टी का प्रदर्शन बेहद ख़राब रहा है तो अध्यक्ष पद की मांग नए सिरे से उठने की संभावना को देखते हुए आलाकमान ने यह फ़ैसला लिया था। 

ताज़ा ख़बरें
सीडब्ल्यूसी की अध्यक्षता करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी को अपनी विफलताओं को लेकर गंभीर होना होगा। उन्होंने हालिया समय में हुए चुनावों में पार्टी को मिली हार को लेकर चिंता जताई। सोनिया ने कहा, “हमारा प्रदर्शन अपेक्षा के अनुरूप क्यों नहीं रहा। ये नतीजे हमें बताते हैं कि हमें घर को संभालने की ज़रूरत है। मैं इन सारे पहलुओं को देखने के लिए एक छोटा समूह बनाना चाहती हूं जो जल्दी से जल्दी रिपोर्ट दे।” 
राजनीति से और ख़बरें

शांति सम्मेलन के बाद बिगड़ी बात 

पार्टी में चल रहा घमासान फरवरी में तब और बढ़ गया था जब बाग़ी नेताओं के गुट G-23 ने जम्मू में शांति सम्मेलन का आयोजन किया था। इसके जरिये पार्टी नेतृत्व को संदेश दिया गया था कि वे ग़ुलाम नबी आज़ाद के साथ खड़े हैं। इन बाग़ी नेताओं की ओर से बीते साल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी गई थी और उसके बाद पार्टी में भूचाल आया था। 

G-23 गुट के जो नेता जम्मू पहुंचे, उनमें ग़ुलाम नबी आज़ाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, राज बब्बर, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा सहित कुछ और नेता भी शामिल रहे। हैरानी की बात यह रही कि इन सभी नेताओं ने भगवा पगड़ी पहनी हुई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें