loader

हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेता, पुलिस थाने में मिलने पहुंचीं प्रियंका

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी को ईडी के समन के बाद पार्टी के प्रदर्शन को लेकर राजधानी दिल्ली का माहौल गर्म है। दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इनमें राष्ट्रीय महासचिव और सांसद रणदीप सुरजेवाला, सांसद अधीर रंजन चौधरी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा, कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित कई वरिष्ठ नेता शामिल हैं। 

वरिष्ठ नेताओं को हिरासत में लिए जाने की सूचना पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा तुगलक रोड थाने में पहुंचीं। वहां उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की। इस दौरान कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने थाने के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया। 

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस के जवानों ने उनके साथ अभद्रता की है और इस मामले में कार्रवाई की जानी चाहिए।

ED summoned rahul gandhi Congress protests in delhi - Satya Hindi

इससे पहले राहुल गांधी कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ ईडी के दफ्तर पहुंचे। उनके साथ पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह, प्रमोद तिवारी, पी. चिदंबरम सहित तमाम बड़े नेता और कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

कांग्रेस ने सोमवार को अपने तमाम आला नेताओं को पार्टी के मुख्यालय में बुलाया था और वहां से मार्च निकाला गया। लेकिन दिल्ली पुलिस ने मार्च से पहले ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया। 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व सांसद राहुल गांधी को नेशनल हेराल्ड अखबार से जुड़े मनी लांड्रिंग के मामले में पेशी के लिए ईडी ने बुलाया था। सोनिया गांधी बीते दिनों कोरोना से संक्रमित हो गई थीं जबकि राहुल गांधी विदेश में थे। 

इसलिए राहुल गांधी को ईडी की ओर से नया समन जारी कर 13 जून को जांच एजेंसी के सामने बुलाया गया था जबकि सोनिया से 23 जून को आने के लिए कहा गया था। कोरोना से संक्रमित होने की वजह से सोनिया सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें