loader

नागरिकता विधेयक : क्या ख़राब हो रहे हैं बीजेपी- जद (यू) के रिश्ते?

क्या एक बार फिर जनता दल यूनाइटेड और बीजेपी के रिश्ते ख़राब हो रहे हैं? यह सवाल इसलिए उठ खड़ा हुआ है कि क्योंकि जद (यू) ने कहा है कि वह राज्यसभा में नागरिकता विधेयक का विरोध करेगी। इसके अलावा जद (यू) अपने दो वरिष्ठ नेताओं को असम में इस विधेयक के विरोध में होने वाले प्रदर्शन में शामिल होने के लिए भी भेजेगी। बता दें कि लोकसभा में भी जद (यू) ने नागरिकता विधेयक के लिए हुई वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया था और उससे पहले तीन तलाक विधेयक का भी विरोध किया था। 

नागरिकता विधेयक का विरोध करने का फ़ैसला पटना में हुई जद (यू) की एक बैठक में लिया गया। जद (यू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता के. सी. त्यागी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि यह विधेयक असम के लोगों की अस्मिता के ख़िलाफ़ है, इसलिए हमने इसका विरोध करने का फ़ैसला किया है। पार्टी ने त्यागी और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर को 27 जनवरी को गुवाहाटी भेजने का फ़ैसला किया है। अहम बात यह है कि इस बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे।

जद (यू) प्रवक्ता त्यागी ने कहा कि हमने इस बारे में अभी फ़ैसला नहीं लिया है कि हम असम में उम्मीदवार उतारेंगे या नहीं। उन्होंने साफ़ कहा कि हम एक आज़ाद दल हैं और अपना स्टैंड ख़ुद ले सकते हैं। 

इस ख़बर के सामने आने के बाद से ही राजनीतिक गलियारों मे यह सवाल पूछा जा रहा है कि क्या बीजेपी और जद (यू) के रिश्तों में खटास आ चुकी है? यहाँ एक बात और अहम है कि आख़िर जद (यू) इस मामले में इतना सख़्त रवैया क्यों अपना रही है। असम में उसका कोई जनाधार नहीं है, नागरिकता विधेयक से उसकी बिहार की राजनीति पर कोई ख़ास असर नहीं पड़ने । बावजूद इसके इस मामले में खुलकर विरोध और अपने दो वरिष्ठ नेताओं को असम भेजने का यही मतलब है कि जद (यू) और बीजेपी के रिश्तों में खटास आ चुकी है। 

2013 में अलग हुए थे दोनों दल

इससे पहले साल 2013 में जद (यू) ने बीजेपी के साथ कई सालों से चला आ रहा गठबंधन तोड़ दिया था। तब जद (यू) को यह आशंका थी कि बीजेपी, गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को 2014 में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर सकती है।

इसके बाद जद (यू) ने राजद के साथ गठबंधन किया और 2017 का विधानसभा चुनाव दोनों पार्टियों ने साथ लड़ा। लेकिन राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के साथ भी नीतीश कुमार की दोस्ती ज़्यादा नहीं चली और दो साल से कम समय में ही यह गठबंधन टूट गया। एक बार फिर नीतीश, बीजेपी के साथ आए और वर्तमान में दोनों दल बिहार में मिलकर सरकार चला रहे हैं। लेकिन नागरिकता विधेयक पर कड़ा स्टैंड लेते हुए जद (यू) ने बीजेपी को एक तरह से चेतावनी दी है। 

लोकसभा में नागरिकता विधेयक 8 जनवरी को पास हो चुका है और इसे अभी राज्यसभा में पेश किया जाना है। लेकिन जद (यू) का इसे लेकर कड़ा स्टैंड और पूरे पूर्वोत्तर में इस विधेयक के विरोध में हो रहे आंदोलन से 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की सियासी राह ज़रूर मुश्किल होने जा रही है। 

बता दें कि सिटिज़नशिप विधेयक की वजह से असम और उत्तर-पूर्व के राज्यों में बीजेपी के ख़िलाफ़ काफ़ी गुस्सा है। इस विधेयक के ख़िलाफ़ लोग लामबंद हैं और उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें