loader

राज्यसभा चुनाव: हरियाणा में अजय माकन हारे, पंवार, शर्मा जीते 

राज्यसभा चुनाव में हरियाणा में एक सीट पर बीजेपी के कृष्ण लाल पंवार को जीत मिली है जबकि दूसरी सीट पर बीजेपी-जेजेपी समर्थित कार्तिकेय शर्मा ने कामयाबी हासिल की। बता दें कि मीडिया कारोबारी कार्तिकेय शर्मा के चुनाव मैदान में आने के बाद से ही कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही थीं।

इससे पहले हरियाणा और महाराष्ट्र के राज्यसभा चुनाव के लिए मतों की गिनती शुरू होने से पहले जोरदार ड्रामा हुआ। कई घंटों बाद मतगणना शुरू हो सकी और शुक्रवार देर रात को चुनाव नतीजे आए।

दूसरी ओर, कांग्रेस ने राजस्थान में अच्छा प्रदर्शन करते हुए तीनों सीटों पर जीत हासिल कर ली। एक सीट पर बीजेपी के नेता घनश्याम तिवारी जीते। 

ताज़ा ख़बरें

जून में राज्यसभा की खाली हो रही 57 सीटों के लिए चुनाव होना था जिसमें 41 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका था। बाकी बची 16 सीटों के लिए शुक्रवार को वोटिंग कराई गई। 

विधायकों में सेंधमारी की आशंका को देखते हुए ही कांग्रेस ने अपने विधायकों को दिल्ली से छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में स्थित रिजॉर्ट में भेज दिया था। लेकिन किरण चौधरी और कुलदीप बिश्नोई रिजॉर्ट में नहीं पहुंचे थे। 

राज्यसभा की सीट को जिताने की जिम्मेदारी भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर ही थी लेकिन अजय माकन को जीत नहीं मिल सकी। 

राजनीति से और खबरें
चुनाव नतीजों के बाद शनिवार तड़के हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि कांग्रेस के उम्मीदवार अजय माकन को 29 वोट मिले जबकि बीजेपी-जेजेपी के उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा को 29.6 वोट मिले।मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस विधायक कुलदीप बिश्नोई ने क्रॉस वोटिंग की जबकि कांग्रेस के एक और विधायक के वोट को अवैध घोषित किया गया। उन्होंने चुनाव में जीत के लिए सभी विधायकों का धन्यवाद किया। 

Kartikeya Sharma won in Rajya Sabha election 2022 - Satya Hindi

90 सीटों वाली हरियाणा की विधानसभा में बीजेपी के पास 40 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के पास 31 विधायक हैं। 

31 वोट चाहिए थे  

एक उम्मीदवार को जीतने के लिए 31 वोटों की जरूरत थी। बीजेपी अपने एक उम्मीदवार को आसानी से चुनाव जिता सकती थी जबकि इसके बाद उसके पास 9 वोट और थे। जेजेपी के पास 10 वोट थे। सात विधायक निर्दलीय हैं और हरियाणा लोकहित पार्टी के गोपाल कांडा और इनेलो के अभय चौटाला भी विधायक हैं। 

निश्चित रूप से कार्तिकेय शर्मा निर्दलीयों और छोटी पार्टियों के विधायकों का समर्थन जुटाने में कामयाब रहे और कांग्रेस विधायकों ने भी क्रॉस वोटिंग की है। इस वजह से अजय माकन चुनाव नहीं जीत सके।

कौन हैं कार्तिकेय शर्मा?

कार्तिकेय शर्मा हरियाणा के बड़े नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा के बेटे हैं। वह एक टेलीविजन चैनल के मालिक भी हैं। विनोद शर्मा कांग्रेस में बड़े नेता थे और वह पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दोस्त भी हैं। कार्तिकेय शर्मा के ससुर कुलदीप शर्मा भी कांग्रेस में हैं और वह विधायक भी रहे हैं। 

Kartikeya Sharma won in Rajya Sabha election 2022 - Satya Hindi

नाराज थे कुलदीप बिश्नोई

वरिष्ठ विधायक कुलदीप बिश्नोई ने यह कहकर पार्टी की चिंता बढ़ा दी थी कि वह राज्यसभा चुनाव में अपनी मर्जी से वोट डालेंगे ना कि किसी के निर्देश पर। कुलदीप बिश्नोई हरियाणा कांग्रेस का अध्यक्ष न बनाए जाने से नाराज हैं और साथ ही उन्हें राज्यसभा में भी नहीं भेजा गया, इसे लेकर भी उनके नाराज होने की खबर हरियाणा के सियासी गलियारों में है। 

कर्नाटक के नतीजे 

कर्नाटक के नतीजों की बात करें तो यहां आंकड़ों के लिहाज से बीजेपी 2 सीटें जीत सकती थी लेकिन उसे एक और सीट पर जीत मिली। इस तरह उसके तीनों उम्मीदवार जीत गए। 

यहां बीजेपी की ओर से निर्मला सीतारमण, जग्गेश, लहर सिंह सिरोया चुनाव मैदान में थे जबकि कांग्रेस की ओर से जयराम रमेश, मंसूर अली खान और जेडीएस की ओर से कुपेंद्र रेड्डी चुनाव लड़ रहे थे। 

कांग्रेस की ओर से जयराम रमेश को जीत मिली जबकि जेडीएस को कोई सीट नहीं मिली।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें