loader

क्या केंद्र सरकार में मंत्री बने रहेंगे नक़वी और आरसीपी सिंह?

सभी की निगाहें इस ओर हैं कि केंद्र सरकार के दो मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी और आरसीपी सिंह क्या केंद्रीय कैबिनेट में बने रहेंगे या दोनों इस्तीफ़ा देंगे। दोनों ही नेताओं का राज्यसभा का कार्यकाल 7 जुलाई को समाप्त हो रहा है जबकि 6 जुलाई यानी बुधवार को कैबिनेट की बैठक है। 

मुख्तार अब्बास नक़वी को बीजेपी ने जबकि आरसीपी सिंह को इस बार जेडीयू ने राज्यसभा में नहीं भेजा। 

अगर दोनों ही नेताओं को केंद्रीय कैबिनेट में बने रहना है तो उन्हें 7 जुलाई को कार्यकाल खत्म होने के 6 महीने के भीतर फिर से सांसद के रूप में चुन कर आना होगा। हालांकि 6 महीने तक वे अपने पद पर बने रह सकते हैं।

Mukhtar Abbas Naqvi and RCP Singh finish their Rajya Sabha terms - Satya Hindi
आरसीपी सिंह कुछ दिन पहले तेलंगाना में हुई बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल हुए थे। यह कयास लग रहे हैं कि आरसीपी सिंह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। जबकि मुख्तार अब्बास नक़वी के बारे में ऐसी चर्चा है कि पार्टी उन्हें उपराष्ट्रपति के चुनाव में अपना उम्मीदवार बना सकती है। हालांकि इस पद के लिए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के नाम की भी जोरदार चर्चा है।
राजनीति से और खबरें

यह भी चर्चा है कि मुख्तार अब्बास नक़वी को किसी राज्य में राज्यपाल या फिर केंद्र शासित प्रदेश में एलजी बनाकर भेजा जा सकता है।

राष्ट्रपति के द्वारा राज्यसभा में मनोनीत किए जाने वाले सांसदों की 7 सीटें खाली हैं। राष्ट्रपति चुनाव के बाद इन सीटों को भरा जाना है। देखना होगा कि क्या मुख्तार अब्बास नक़वी और आरसीपी सिंह को राष्ट्रपति राज्यसभा सांसद के रूप में मनोनीत करेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें