loader

केजरीवाल की रैली में जुटा पूरा विपक्ष, मोदी पर किए ज़ोरदार हमले

दिल्ली के जंतर-मंतर पर आम आदमी पार्टी की ओर से आयोजित 'तानाशाही हटाओ-लोकतंत्र बचाओ सत्याग्रह' में लगभग पूरा विपक्ष ही आ जुटा और नरेंद्र मोदी सरकार पर ज़ोरदार हमले किए। हालाँकि यह रैली कोलकाता में ममता बनर्जी की ओर से आयोजित रैली जैसी बड़ी नहीं थी, पर इसमें कुछ नेताओं को छोड़ वे सभी लोग मौजूद थे, जो कोलकाता की रैली में भाग लेने गए थे। रैली भले ही छोटी हो, पर विपक्षी एकता की दिशा में एक और कदम है, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है। 
तृणमूल कांग्रेस की नेता और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के फ़ारूक अब्दुल्ला, एनसीपी के शरद पवार, तेलगुदेशम  पार्टी के नेता एन चंद्रबाबू नायडू के अलावा बीजेपी के बाग़ी नेता शत्रुग्न सिन्हा ने भी रैली में शिरकत की। कई दूसरे दलों के नेता भी मौजूद थे। पर इस रैली की खूबी यह है कि इसमें वामपंथी दलों के नेताओं ने भी शिरकत की। हालाँकि भारतीय मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता उस समय उठ कर चल दिए जब तृणमूल की नेता ममता बनर्जी बोलने लगीं। 
केजरीवाल की रैली में ममता बनर्जी के बोलते समय सीपीएम नेताओं के उठ कर चले जाने से किसी को ताज्ज़ुब नही हुआ, क्योंकि सीपीएम और टीएमसी पश्चिम बंगाल में परस्पर विरोधी दल हैं और उनके बीच बहुत ही तीखे रिश्ते रहे हैं।
सीपीएम कांग्रेस के साथ कुछ सीटों पर तालमेल कर भी सकती है या बीजेपी को रोकने के लिए उसे समर्थन दे भी सकती है, पर टीएमसी के प्रति वह किसी तरह की नरमी नहीं दिखा सकती। यह विपक्षी एकता के अंदरूनी मतभेदों को भी ज़ाहिर करता है। 
ममता बनर्जी ने सीधे तौर पर प्रधानमंत्री को निशाने पर लिया और नरेंद्र मोदी पर खुल कर निजी हमले किए। उन्होंने कुछ तल्ख़ी से तंज कसते हुए कहा, '56 इंच का सीना तो रावण का भी था।' पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने मोदी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि 20 दिन बाद ही लोकसभा चुनाव का एलान हो जाएगा, चुनाव से जुड़ी आचार संहिता लागू हो जाएगी और उसके बाद प्रधानमंत्री कुछ नहीं कर सकते। लिहाज़ा, मोदी के मन की बातें सिर्फ़ 20 दिन तक ही चल सकती हैं।  

मोदी की तुलना पाक पीएम से

केजरीवाल ने नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि वह देश से लोकतंत्र ख़त्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'मोदी संविधान को फाड़ कर फेंक देना चाहते हैं। वह लोकतंत्र ख़त्म कर रहे हैं।' उन्होंने ममता बनर्जी का समर्थन करते हुए कहा कि 40 सीबीआई अफ़सरों का कोलकाता पहुँच कर कोलकाता के पुलिस प्रमुख के घर पर छापा मारना अलोकतांत्रिक है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने बेजेपी अध्यक्ष अमित शाह और नरेंद्र मोदी पर व्यंग्य करते हुए तंज किया, 'दिल्ली और कोलकाता पर कब्जा करने का सपना कौन देखता है? ऐसा सिर्फ़ पाकिस्तान का प्रधानमंत्री ही करता है।'  
जंतर-मंतर की रैली में बहुत ज़्यादा भीड़ नहीं थी और मीडिया ने भी इस पर बहुत अधिक ध्यान नहीं दिया। पर यह तो साफ़ है कि इसी बहाने पूरा विपक्ष फिर एक बार एक मंच पर आ गया। उन सबने सत्तारूढ़ दल बीजेपी और प्रधानमंत्री पर एक सुर में हमला किया। चुनाव के ठीक पहले इसका राजनीतिक महत्व है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें