loader

प्रशांत किशोर का कांग्रेस में शामिल होने से इनकार

चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कांग्रेस में शामिल होने से इनकार कर दिया है। बीते कई दिनों से प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने को लेकर अटकलें जारी थी। उनकी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित पार्टी के तमाम बड़े नेताओं के साथ कई दौर की बैठक भी हो चुकी थी। 

लेकिन प्रशांत किशोर का कांग्रेस में शामिल होने से इनकार करना इस बात को बताता है कि यह बातचीत परवान नहीं चढ़ सकी। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है। उन्होंने कहा है कि प्रशांत किशोर से मिले सुझावों के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एंपावर्ड एक्शन ग्रुप 2024 का गठन किया था और प्रशांत किशोर से इस ग्रुप के सदस्य के तौर पर पार्टी में शामिल होने के लिए कहा गया था लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया है। सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस प्रशांत किशोर के प्रयासों और सुझावों की सराहना करती है।

प्रशांत किशोर ने खुद भी ट्वीट कर इस बारे में स्थिति और साफ कर दी है। 

बीते साल भी प्रशांत किशोर की कांग्रेस नेतृत्व के साथ कई दौर की बातचीत हुई थी लेकिन तब भी उनकी कांग्रेस में एंट्री का रास्ता नहीं बन सका था। पांच राज्यों के चुनाव में करारी हार के बाद प्रशांत किशोर खुद कांग्रेस के पास आए थे और उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सहित कई बड़े नेताओं को प्रजेंटेशन दिए थे। 

माना जा रहा था कि इस बार प्रशांत किशोर की कांग्रेस में एंट्री हो जाएगी और बात सही दिशा में आगे बढ़ रही थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका। 

प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल किए जाने को लेकर सोमवार को भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई थी। इसी बैठक में सोनिया गांधी ने 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए एंपावर्ड एक्शन ग्रुप 2024 का गठन किया था।
राजनीति से और खबरें
प्रशांत किशोर कुछ दिन पहले हैदराबाद जाकर टीआरएस प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव से मिले थे। इसके बाद I-PAC ने 2023 के तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिए टीआरएस के साथ अनुबंध कर लिया था। इसे लेकर कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने चिंता भी जताई थी कि I-PAC का कांग्रेस के विरोधी राजनीतिक दलों के साथ भी अनुबंध है। 

चिंतन शिविर लगाएगी पार्टी 

उधर, कांग्रेस ने कहा है कि पार्टी नव संकल्प चिंतन शिविर लगाएगी। यह शिविर 13 से 15 मई तक राजस्थान के उदयपुर में होगा और 3 दिन का होगा। शिविर में देश भर से 400 नेता शिरकत करेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें