loader

क्या कांग्रेस में शामिल होंगे चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर?

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की मंगलवार को कांग्रेस नेताओं सोनिया, राहुल और प्रियंका से हुई मुलाक़ात के बाद राजनीतिक गलियारों में एक सवाल तेज़ी से घूम रहा है। सवाल यह है कि क्या प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल होंगे। 2024 के आम चुनाव को देखते हुए प्रशांत किशोर को बतौर रणनीतिकार के रूप में कांग्रेस में शामिल किया जा सकता है। 

लगातार दो लोकसभा चुनाव और कई राज्यों के विधानसभा चुनावों में शिकस्त खा चुकी कांग्रेस के लिए अब और मौक़े नहीं बचे हैं। उसे 2022 में सात राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में दम-ख़म भी लगाना होगा और जीत भी हासिल करनी होगी, जिससे वह 2024 में ख़ुद को मजबूत विपक्षी दल के रूप में पेश कर सके। 

ताज़ा ख़बरें
क्योंकि दूसरी ओर, ममता बनर्जी, शरद पवार भी एक एंटी बीजेपी फ्रंट या थर्ड फ्रंट की कवायद में जुटे हैं और शुरुआत में इसमें कांग्रेस को नज़रअंदाज करने की भी ख़बरें आई थीं। हालांकि बाद में शिव सेना और शरद पवार ने कहा कि ऐसा कोई भी फ्रंट अगर बनेगा तो उसमें कांग्रेस तो निश्चित रूप से होगी। 

बताया जा रहा है कि सोनिया, राहुल और प्रियंका के साथ पहले भी प्रशांत किशोर की मुलाक़ात हो चुकी है। एनडीटीवी के मुताबिक़, यह मुलाक़ात सिर्फ़ पंजाब और उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र नहीं हुई बल्कि 2024 के आम चुनाव के मद्देनज़र हुई है। 

क्यों अहम हैं प्रशांत किशोर?

प्रशांत किशोर की कंपनी का नाम इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (आई-पैक) है और यह कई राज्यों में अलग-अलग राजनीतिक दलों के लिए चुनावी रणनीति बना चुकी है। प्रशांत किशोर ने हाल ही में पश्चिम बंगाल के अलावा तमिलनाडु के विधानसभा चुनाव में भी रणनीति बनाने का काम किया और बंगाल में ममता के अलावा वहां डीएमके प्रमुख स्टालिन को जीत मिली। 

किशोर 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के लिए ‘चाय पर चर्चा’ कार्यक्रम सहित 2015 में एनडीए महागठबंधन, 2020 में आम आदमी पार्टी सहित कई दलों के लिए काम कर चुके हैं। उनका ट्रैक रिकॉर्ड शानदार रहा है।

प्रशांत किशोर पहले भी कांग्रेस के लिए काम कर चुके हैं। 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उन्होंने कांग्रेस-समाजवादी पार्टी के गठबंधन के लिए चुनावी रणनीति बनाने का काम किया था हालांकि तब इस गठबंधन को अच्छी सफलता नहीं मिली थी। लेकिन पंजाब में भी प्रशांत किशोर ही रणनीतिकार थे और वहां उन्होंने पार्टी को जीत दिलाई थी। 

राजनीति से और ख़बरें

कांग्रेस के सामने मुश्किल वक़्त 

प्रशांत किशोर कुछ वक़्त पहले कांग्रेस को आत्ममंथन करने की सलाह भी दे चुके हैं। लेकिन अगर, उन्हें कांग्रेस में कोई बड़ी जिम्मेदारी मिलती है तो यह निश्चित रूप से पार्टी के लिए संजीवनी की तरह होगा क्योंकि पार्टी को 2022 में कई चुनावी राज्यों में उतरना है और इस बात को साबित करना है कि वह राज्यों में अभी जिंदा है, वरना ख़राब प्रदर्शन की सूरत में थर्ड फ्रंट या एंटी बीजेपी फ्रंट में उसकी सियासी हैसियत बहुत कम हो जाएगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें