loader

राहुल ने किया पलटवार, कहा, पर्रिकर जी मोदी के दबाव में हैं

राहुल गाँधी की मनोहर पर्रिकर से हुई मुलाक़ात के बाद राजनीतिक बवाल खड़ा हो गया है। राहुल ने कहा है कि पर्रिकर से मुलाक़ात के दौरान रफ़ाल मामले पर बात हुई थी लेकिन पर्रिकर ने जवाब दिया कि कांग्रेस अध्यक्ष झूठ बोल रहे हैं। 
इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष ने भी जवाबी पलटवार किया और कहा कि पर्रिकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दबाव में हैं। राहुल ने पर्रिकर को दो पन्नों का पत्र लिखा है।
राहुल ने ट्वीट किया, ‘मुझे पर्रिकर जी से पूरी सहानुभूति है और मैं चाहता हूँ कि वह स्वस्थ हो जाएँ। गोवा में हुई हमारी मुलाक़ात के बाद से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन पर बहुत ज़्यादा दबाव बनाया हुआ है।’ राहुल ने कहा, मोदी के प्रति अपनी वफ़ादारी दिखाने के लिए ही पर्रिकर मुझ पर हमला कर रहे हैं। देखें ट्वीट -
राहुल और पर्रिकर, दोनों अपनी-अपनी बात को सही ठहरा रहे हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दोनों की लड़ाई के बीच में कूदते हुए एंट्री की है। अमित शाह ने राहुल को असंवेदनशील कहा है।
इससे पहले राहुल ने बुधवार को दिल्ली में युवक कांग्रेस के एक कार्यक्रम में कहा था, ‘मैं कल पर्रिकर जी से मिला था। पर्रिकर जी ने मुझसे कहा कि डील बदलते समय प्रधानमंत्री ने हिंदुस्तान के रक्षा मंत्री से नहीं पूछा था।’ 
इसके बाद पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर ने राहुल गाँधी को पत्र लिखकर जवाब दिया। पर्रिकर ने लिखा, ‘मैं इस बात से बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहा हूँ कि आप, मुझसे हुई अपनी मुलाक़ात का राजनीतिक फ़ायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं। आप मुझसे बस 5 मिनट के लिए मिले, न ही आपने रफ़ाल के बारे में पूछा, न ही हमने इस बारे में कोई बात की।’ देखें पत्र - 
rahul gandhi attacks rafale deal Manohar Parrikar narendra modi - Satya Hindi
rahul gandhi attacks rafale deal Manohar Parrikar narendra modi - Satya Hindi

इसके बाद अमित शाह ने ट्वीट किया और कहा कि राहुल गाँधी आप बीमारी से लड़ रहे एक आदमी के नाम पर झूठ बोल रहे हैं। भारत के लोग आपके गंदे व्यवहार से नफ़रत करने लगे हैं। देखें ट्वीट - 

अब इतना तो तय है कि राहुल और पर्रिकर, दोनों में से कोई एक ज़रूर झूठ बोल रहा है। 

पर्रिकर इन दिनों कैंसर की बीमारी से लड़ रहे हैं। उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेने के लिए राहुल ने मंगलवार को उनसे मुलाक़ात की थी। रफ़ाल मामले को लेकर राहुल गाँधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ख़ासे हमलावर हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें