loader

नोटबंदी की एकमात्र सफलता अर्थव्यवस्था की तबाही थी: राहुल 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नोटबंदी को लेकर एक बार फिर से सरकार पर तीखा हमला किया है। वह प्रधानमंत्री मोदी के सत्ता में आने के कुछ समय बाद से ही उनकी आर्थिक नीतियों की आलोचना करते रहे हैं, लेकिन 2019 में जब बेरोजगारी के रिकॉर्ड आँकड़े आने और अर्थव्यवस्था के दूसरे संकेतकों के हालात ख़राब होने का इशारा करने पर उन्होंने हमले तेज़ कर दिए। अब उन्होंने 500 रुपये और 2000 रुपये के नकली नोटों में बेतहाशा बढ़ोतरी की रिपोर्ट को ट्वीट करते हुए कहा है कि 'नोटबंदी की एकमात्र दुर्भाग्यपूर्ण सफलता अर्थव्यवस्था की टोर्पेडिंग यानी तबाही है'।

मोदी सरकार की नीतियों पर उनका यह हमला तब हुआ है जब भारतीय रिजर्व बैंक की नकली नोटों को लेकर एक बेहद अहम रिपोर्ट सामने आई है। आरबीआई के अनुसार वित्त वर्ष 2021-22 में नकली नोटों की संख्या काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई है। केंद्रीय बैंक ने पता लगाया है कि पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 500 रुपए के नकली नोट 101.9% ज़्यादा और 2 हजार रुपए के नकली नोट 54.16% ज़्यादा हो गए हैं। 

राहुल गांधी ने अपने ट्वीट के साथ एक ख़बर का स्क्रीनशॉट साझा किया है। उस ख़बर में कहा गया है कि मूल्य के मामले में 500 रुपये और 2000 रुपये के बैंक नोटों की हिस्सेदारी 31 मार्च, 2022 तक प्रचलन में बैंकनोटों के कुल मूल्य का 87.1% थी, जबकि 31 मार्च, 2021 को यह 85.7% ही थी। 

ताज़ा ख़बरें

पिछले वर्ष की तुलना में 10 रुपये, 20 रुपये, 200 रुपये, 500 रुपये और 2000 रुपये के नोटों में क्रम: 16.4%, 16.5%, 11.7%, 101.9% और 54.6% की वृद्धि हुई है। आरबीआई ने कहा है कि 50 रुपये और 100 रुपये के मूल्य में पाए गए नकली नोटों में क्रमशः 28.7% और 16.7 फीसदी की गिरावट आई है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को रात आठ बजे अचानक देश को संबोधित करते हुए 500 और 1000 के नोटों को बंद करने की घोषणा कर दी थी। इसके बाद 500 का नोट नए फॉर्मेट में आया था और 2000 का नया नोट अस्तित्व में आया था। प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी की प्रमुख वजहों में से एक नकली नोटों पर नकेल कसना बताया था। ऐसे में आरबीआई की ही रिपोर्ट में नकली नोटों में बढ़ोतरी सरकार के नोटबंदी के फ़ैसले पर सवाल खड़ा करती है। 

राजनीति से और ख़बरें

प्रधानमंत्री की उस घोषणा के बाद से ही राहुल गांधी उस फ़ैसले को अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ने वाला बताते रहे हैं। वह दावा करते रहे हैं कि अर्थव्यवस्था से एकाएक नोटों के निकाले जाने के बाद अर्थव्यवस्था में सुस्ती आ गई। लोगों के पास खरीदने को पैसे नहीं थे और इस वजह से मांग कम हुई। कहा जाता है कि जब नोटबंदी के आघात से अर्थव्यवस्था उबर ही रही थी कि जीएसटी यानी माल एवं सेवा कर को भी सही तरीक़े से नहीं लागू किए जाने से मार पड़ी। 

इन दो झटकों से अर्थव्यवस्था उबर ही रही थी कि कोरोना महामारी का असर हुआ। इस दौरान सरकार ने अचानक से लॉकडाउन लगा दिया और इससे भी अफरा-तफरी का माहौल रहा। अब जब उन झटकों से अर्थव्यवस्था से उबर रही है तब महंगाई के बेकाबू होने की ख़बरें आ रही हैं। और इस बीच अब नोटबंदी और जीएसटी लागू किए जाने के असर की जब तब रिपोर्टें आ रही हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें