loader

चीनी घुसपैठ पर झूठ? राहुल गाँधी ने किसको राष्ट्र-विरोधी बताया?

भारतीय ज़मीन पर कथित चीनी क़ब्ज़े पर अब तक झूठ बोलने का आरोप लगाते रहे राहुल गाँधी ने अब ऐसे लोगों को राष्ट्र-विरोधी बताया है। राहुल गाँधी ने किसी का नाम नहीं लिया है लेकिन यह साफ़ तौर पर कहा है कि चीनियों ने भारतीय भूमि पर क़ब्ज़ा कर लिया है और इस सच्चाई को छिपाना व उन्हें इसे लेने की अनुमति देना राष्ट्र-विरोधी है। उन्होंने कहा, ‘मेरे ख्याल में जो लोग झूठ बोल रहे हैं और कह रहे हैं कि चीनी भारत में नहीं घुसे हैं वो ऐसे लोग हैं जो देशभक्त नहीं हैं।’ तो सवाल है कि आख़िर राहुल गाँधी चीन के मसले पर किसे झूठा कहते रहे हैं?

ताज़ा ख़बरें
ज़ाहिर तौर पर जून महीने में चीन के साथ लगती सीमा विवाद पर ख़ूनी संघर्ष के बाद से ही कांग्रेस नेता राहुल गाँधी मोदी सरकार पर हमलावर रहे हैं। वह यह दावा करते रहे हैं कि चीन भारतीय सीमा में घुस आया है लेकिन सरकार यह बात मानने को तैयार नहीं है। अब इसी हमले को उन्होंने और तीखा किया है और इसे ‘एंटी-नेशनल’ यानी राष्ट्र-विरोधी से जोड़ा है। उन्होंने इस मामले में आज ट्वीट किया और एक वीडियो जारी किया है। उन्होंने इसमें सिलसिलेवार ढंग से आरोप लगाया है।

इसी 'एंटी-नेशनल' के हथियार से बीजेपी के नेता लंबे समय से कांग्रेस पर हमला करते रहे हैं और इसे राष्ट्र-विरोधी बताते रहे हैं। हाल ही में अप्रैल महीने में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग से उत्तर प्रदेश के पार्टी नेताओं की बैठक को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस पार्टी का 'एंटी-नेशनल नज़रिया' है। जब तब बीजेपी के नेता तो कांग्रेस के नेताओं को राष्ट्र-विरोधी क़रार देते ही रहे हैं। जवाब में कांग्रेस के नेता भी बीजेपी नेताओं पर राष्ट्र-विरोधी होने का आरोप लगाते रहे हैं। लेकिन अब इसको राहुल गाँधी ने लपका है और चीन मुद्दे पर इशारों में बीजेपी के बड़े नेताओं पर निशाना साधा है।

इस वीडियो में राहुल गाँधी राष्ट्र-विरोधी का आरोप तार्किक रूप से लगाने की कोशिश करते हैं। वह वीडियो में कहते हैं कि यह बिल्कुल साफ़ हो गया है कि चीनी हमारे इलाक़े में घुस गए हैं। वह कहते हैं, ‘यह बात मुझे परेशान करती है। इससे मेरा ख़ून खौलने लगता है। कैसे एक दूसरा देश हमारे इलाक़े में घुस आया? अब एक राजनीतिज्ञ के तौर पर चाहते हैं कि मैं चुप रहूँ और अपने लोगों से झूठ बोलूँ। जबकि मैं निश्चित रूप से जान गया हूँ, मैंने उपग्रह की तसवीरें देखी हैं, मैंने पूर्व सैन्यकर्मियों से बात की है। अगर आप चाहते हैं कि मैं झूठ बोलूँ कि चीनी इस देश में नहीं घुसे हैं, मैं झूठ नहीं बोलने वाला। साफ़ कर दूँ कि मैं ऐसा नहीं करने वाला।’

कांग्रेस नेता राहुल भले ही ख़ुद की बात करते हुए कहते हैं कि वह झूठ नहीं बोल सकते हैं, लेकिन उनका इशारा कहीं और है। क्योंकि इससे पहले राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला करते हुए कहा था कि ‘वह चीन के मुद्दे पर अभी भी झूठ बोल रहे हैं और देश को धोखा दे रहे हैं।’

दरअसल, राहुल का यह आरोप लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर है। वही लद्दाख जहाँ 15 जून की ख़ूनी झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए और उसके बाद से चीन के साथ तनाव है। हालाँकि मोदी सरकार ताज़ा चीन विवाद शुरू होने के बाद से ही कहती रही है कि भारत की ज़मीन पर किसी ने क़ब्ज़ा नहीं किया है। तब हुई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने भी कहा था, 'लद्दाख में भारत की सीमा में न तो कोई घुसा हुआ है और न ही हमारी कोई चौकी किसी दूसरे के क़ब्ज़े में है।' 

हालाँकि कई दौर की वार्ता के बाद चीन और भारत दोनों देशों की सेनाएँ पीछे हटी हैं, लेकिन कई मीडियो रिपोर्टों और सैटेलाइट इमेज में यह खुलासा हुआ है कि चीन अभी भी भारतीय ज़मीन पर बना हुआ है। इसी बात को लेकर राहुल गाँधी लगातार हमलावर रहे हैं। यह दावा करते हुए कि चीनी भारत की सीमा में घुस गए हैं आज भी राहुल ने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से जान गया हूँ, मैंने उपग्रह की तसवीरें देखी हैं, मैंने पूर्व सैन्यकर्मियों से बात की है।’

कांग्रेस नेता राहुल कहते हैं कि चीनी घुसपैठ का यह मुद्दा उठाते हुए भले ही उनका भविष्य डूब जाए, राजनीतिक जीवन ख़त्म हो जाए, वह इस मुद्दे को उठाते रहेंगे।

उन्होंने कहा, ‘मुझे फ़िक्र नहीं चाहे मेरा पूरा भविष्य डूब जाए। लेकिन मैं झूठ नहीं बोल सकता। मैं सोचता हूँ, वो लोग जो चीनियों के हमारे देश में घुसने के बारे में झूठ बोल रहे हैं वही लोग राष्ट्रवादी नहीं हैं। ...इसलिए स्पष्ट कर कहूँ तो मैं चिंता नहीं करता यदि इसकी राजनीतिक क़ीमत भी चुकानी पड़े। मैं चिंता नहीं करता चाहे मेरा राजनीतिक जीवन पूरी तरह ख़त्म हो जाए। पर जहाँ तक भारतीय क्षेत्र का संबंध है मैं केवल सच बोलूँगा।’

राजनीति से और ख़बरें

बता दें कि चीनी घुसपैठ को लेकर इससे पहले जारी एक वीडियो में राहुल ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने जिस '56 इंच का सीना' की छवि को गढ़ा है उसी छवि से चीन भारत को मात दे रहा है। वीडियो में विश्लेषण करके उन्होंने समझाया था कि कैसे प्रधानमंत्री मोदी की इस छवि को आधार बनाकर चीन भारत की ज़मीन पर क़ब्ज़ा किए बैठा है। राहुल गाँधी ने वीडियो को ट्वीट किया और उसके साथ लिखा था, 'पीएम ने सत्ता में आने के लिए एक नकली मज़बूत छवि गढ़ी। यह उनकी सबसे बड़ी ताक़त थी। यह अब भारत की सबसे बड़ी कमज़ोरी है।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें