loader

शिंदे आधी रात गुजरात में देवेंद्र फडणवीस से मिले थे: रिपोर्ट

शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे और बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस के बीच मुलाक़ात की ख़बरें हैं। मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि एकनाथ शिंदे ने शुक्रवार रात को गुजरात का दौरा किया था। रिपोर्टों के अनुसार वह वडोदरा पहुँचे थे और कल रात ही बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस भी उसी शहर में थे। एक अन्य रिपोर्ट में तो यह भी कहा गया है कि गृह मंत्री अमित शाह भी शुक्रवार रात वडोदरा में ही थे।

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि शिंदे ने कल रात गुजरात के वडोदरा में फडणवीस से मुलाक़ात की और महाराष्ट्र में संभावित सरकार गठन पर चर्चा की। इंडिया टुडे ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शुक्रवार रात 10 बजे से शनिवार सुबह तक गुजरात के वडोदरा में थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि शिंदे और देवेंद्र फडणवीस अमित शाह से मिले या नहीं, इस पर अभी कोई स्पष्टता नहीं है।

ताज़ा ख़बरें

एनडीटीवी ने रिपोर्ट दी है कि शिंदे शुक्रवार रात असम के गुवाहाटी से एक विशेष विमान से वडोदरा पहुँचे थे। फडणवीस के साथ बातचीत के बाद शिंदे फिर से असम लौट गए, जहाँ क़रीब 40 बागी विधायक एक पांच सितारा होटल में रुके हैं। उनका दावा है कि असम में ठहरे विधायक उनका समर्थन कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में चल रहा यह सियासी संघर्ष अब काफी आगे बढ़ चुका है और एकनाथ शिंदे गुट ने अपनी नई पार्टी बनाने का एलान कर दिया है। बताया जा रहा है कि इस पार्टी का नाम बालासाहेब शिवसेना रखा जाएगा। 

लेकिन शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में हुई शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा कि कोई और बालासाहेब ठाकरे के नाम का इस्तेमाल नहीं कर सकता। इस मामले में शिवसेना ने चुनाव आयोग जाने की भी बात कही है।
शिवसेना से बगावत करने वाले 16 विधायकों को महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर ने उन्हें अयोग्य ठहराने वाला नोटिस शनिवार को भेज दिया गया है। सभी विधायकों को उनका लिखित जवाब दाखिल करने के लिए 27 जून शाम 5.30 बजे तक का वक्त दिया गया है।

उधर, शिवसेना ने भी पार्टी से बगावत करने वाले 16 विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। यह नोटिस पार्टी के व्हिप सुनील प्रभु की ओर से बुलाई गई बैठक से गैरहाजिर रहने के लिए जारी किया गया है। सभी विधायकों से कहा गया है कि वह अपने समर्थन में जो भी दस्तावेज हैं उन्हें 27 जून शाम 5 बजे तक जमा करा दें।

राजनीति से और ख़बरें

बता दें कि शिंदे कांग्रेस और एनसीपी के साथ शिवसेना के गठबंधन को बेमेल गठबंधन क़रार दे रहे हैं और कह रहे हैं कि महाराष्ट्र के हित में इससे निकलना ज़रूरी है।

तीन दिन पहले ही शिंदे ने ट्वीट किया था, 'पिछले ढाई साल में एमवीए सरकार ने केवल घटक दलों (कांग्रेस, एनसीपी) को फायदा पहुंचाया और शिवसैनिकों को भारी नुक़सान हुआ। पार्टी और शिवसैनिकों के अस्तित्व के लिए अप्राकृतिक गठबंधन से बाहर निकलना जरूरी है। अब महाराष्ट्र के हित में निर्णय लेने की ज़रूरत है।'

पहले सूत्रों के हवाले से ख़बर आई थी कि एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को तीन सूत्रीय प्रस्ताव भेजा था। इस प्रस्ताव में एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मांग की  और पहली शर्त रखी कि बीजेपी के साथ सरकार बनाई जाए। दूसरी शर्त में कहा था कि देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाया जाए और तीसरी शर्त में खुद एकनाथ शिंदे ने अपने आप को उपमुख्यमंत्री बनाने का प्रस्ताव महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को भेजा। 

रिपोर्टों में कहा गया था कि शिंदे के करीबी विधायक संजय राठौड़ यह प्रस्ताव लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास वर्षा बंगला पर गए थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें