loader

कांग्रेस में संकट: खुर्शीद की नसीहत, ख़ुद के अंदर झाँकें सिब्बल

कांग्रेस में संगठन, नेतृत्व में बदलाव, चुनावी प्रदर्शन जैसे मुद्दों को लेकर उठा विवाद बढ़ता ही जा रहा है। कपिल सिब्बल ने चुनावी हार को लेकर कांग्रेस में जो ताज़ा हलचल पैदा की उसकी आग बुझती नहीं दिख रही है। एक के बाद एक कांग्रेसी नेता आपस में ही बयानबाज़ी कर रहे हैं। पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कपिल सिब्बल पर निशाना साधा था और अब बिना नाम लिए ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने आलोचना की है। 

बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के कमज़ोर प्रदर्शन को लेकर पार्टी के ही वरिष्ठ नेता कपिल सिब्‍बल ने एक इंटरव्यू में कांग्रेस नेतृत्व पर निशाना साधा था और सांगठनिक स्तर पर अनुभवी और राजनीतिक हकीकत को समझने वाले लोगों को आगे लाने की पैरवी की थी। इसी के संदर्भ में कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद का ताज़ा बयान लगता है।

ख़ास ख़बरें

खुर्शीद ने सोशल मीडिया पर अपनी बात रखी है। ट्विटर और फ़ेसबुक दोनों जगहों पर। फ़ेसबुक पर तो उन्होंने काफ़ी लंबी चौड़ी टिप्पणी लिखी है। उन्होंने अपनी टिप्पणी की शुरुआत आख़िरी मुगल शासक बहादुर शाह जफर की लाइन के साथ अपनी बात रखी। उन्होंने लिखा- 

'न थी हाल की जब हमें अपने ख़बर रहे देखते औरों के ऐब ओ हुनर

पड़ी अपनी बुराइयों पर जो नज़र तो निगाह में कोई बुरा न रहा।'

इस फ़ेसबुक पोस्ट में उन्होंने साफ़ तौर पर लिखा है कि आलोचना करने वालों को पहले अपने अंदर की कमियों को देखना चाहिए। उन्होंने सलाह दी कि सफलता का कोई 'शॉर्टकट' नहीं होता है। 

उन्होंने फ़ेसबुक पोस्ट में लिखा है, 'अगर मतदाताओं का मूड उन उदारवादी मूल्यों के ख़िलाफ़ है जिन्हें हमने अपनाया है... हमें सत्ता में वापस आने के लिए शॉर्टकट संघर्षों को देखने के बजाय लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहना चाहिए।' उन्होंने तो यहाँ तक लिखा कि जिसको काम नहीं आता है वह अपने औजार को ही दोष देता है। यानी 'नाच न जाने आँगन टेढ़ा'। 

कुछ ऐसी ही टिप्पणी उन्होंने ट्विटर पर की है और लिखा है कि दूसरों की बुराई तो देखना आसान है, लेकिन अपने ख़ुद के अंदर की बुराई को कोई नहीं देखता है।

फ़ेसबुक पोस्ट में उन्होंने लिखा, 'समय-समय पर पुनर्मूल्यांकन और नई रणनीति बनाने की ज़रूरत होती है, लेकिन उन्हें मीडिया के माध्यम से नहीं सामने लाया जा सकता ताकि विपक्षी हमें तुरंत मात दे दें।'

उन्होंने आगे लिखा, 'सत्‍ता से बाहर किया जाना सार्वजनिक जीवन में आसानी से स्‍वीकार नहीं किया जा सकता लेकिन यदि यह मूल्‍यों की राजनीति का परिणाम है तो इसे सम्‍मान के साथ स्‍वीकार किया जाना चाहिए...।' 

सलमान खुर्शीद ने यहाँ तक कहा कि यदि हम सत्‍ता हासिल करने के लिए अपने सिद्धांतों के साथ समझौता करते हैं तो इससे अच्‍छा है कि हम ये सब छोड़ दें।
salman khurshid criticises kapil sibal congress criticism - Satya Hindi

बता दें कि कपिल सिब्बल ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए इंटरव्यू में कहा था, ‘हम में से कुछ लोगों ने बताया कि कांग्रेस में आगे क्या किया जाना चाहिए। लेकिन हमारी बात सुनने के बजाय उन्होंने हमसे मुंह फेर लिया। अब हम रिजल्ट्स देख सकते हैं। केवल बिहार के ही लोग नहीं, बल्कि जहां-जहां उपचुनाव हुए हैं, स्वाभाविक रूप से वहां के लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते।’

वीडियो चर्चा में देखिए, क्या कांग्रेस का कोई भविष्य नहीं?

सिब्बल का संदेश साफ़ है। सिब्बल आलाकमान को चेताना चाहते हैं कि वह पार्टी में स्थायी अध्यक्ष के मसले और सीडब्ल्यूसी में चुनाव कराए जाने को गंभीरता से ले। उनका यह भी संदेश है कि जो लोग पार्टी में रहकर सुधारों की आवाज़ उठा रहे हैं, वे ऐसा पार्टी के भले के लिए ही कर रहे हैं और पार्टी उन्हें अपना दुश्मन ना समझे। 

ऐसा ही कुछ महीने पहले भी हुआ था जब 23 वरिष्ठ नेताओं ने चिट्ठी लिखकर पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे। उन्होंने जब आंतरिक चुनाव कराने की माँग की थी तो पार्टी ने सख़्त रूख़ अपनाते हुए कुछ नेताओं के पर कतर दिए थे। इनमें लंबा सियासी तजुर्बा रखने वाले ग़ुलाम नबी आज़ाद भी थे, जिन्हें पार्टी ने कांग्रेस महासचिव के पद से हटा दिया था। याद दिला दें कि सिब्बल भी चिट्ठी लिखने वालों में शामिल थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें