loader

सपा ने शिवपाल व राजभर से कहा- आप जाने के लिए आजाद हैं

समाजवादी पार्टी के सब्र का बांध आखिरकार टूट ही गया। मार्च में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही बागी तेवर दिखा रहे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के संबंध में सपा ने पत्र जारी कर दिया है। अलग-अलग जारी किए गए पत्र में दोनों ही नेताओं से कहा गया है कि अगर उन्हें लगता है कि उन्हें कहीं ज्यादा सम्मान मिलेगा तो वह वहां जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

ओमप्रकाश राजभर को दो दिन पहले ही वाई श्रेणी की सुरक्षा दी गई थी। बताना होगा कि शिवपाल सिंह यादव अखिलेश यादव के चाचा भी हैं। 

निश्चित रूप से समाजवादी पार्टी ने खुला खत जारी कर शिवपाल सिंह यादव और ओमप्रकाश राजभर की ओर से की जा रही बयानबाजी के बाद पलटवार किया है। 

ताज़ा ख़बरें

शिवपाल सिंह यादव को लिखे गए पत्र में जहां एक लाइन लिखी गई है कि अगर आपको लगता है कि कहीं ज्यादा सम्मान मिलेगा तो वहां जाने के लिए स्वतंत्र हैं तो ओमप्रकाश राजभर को लिखे पत्र में उन पर बीजेपी से गठजोड़ करने का आरोप लगाया गया है। 

राजभर से कहा गया है कि आप लगातार बीजेपी को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं।

अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव में शिवपाल सिंह यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया), जयंत चौधरी के राष्ट्रीय लोक दल, ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, केशव देव मौर्य के महान दल, कृष्णा पटेल के अपना दल (कमेरावादी) के साथ मिलकर एक मजबूत गठबंधन बनाया था। लेकिन यह गठबंधन विधानसभा चुनाव में जीत हासिल नहीं कर सका था।

विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद ही यह खबर आई थी कि ओमप्रकाश राजभर और शिवपाल सिंह यादव सपा गठबंधन से अलग होकर बीजेपी के साथ जा सकते हैं। दोनों नेताओं की बीजेपी के बड़े नेताओं के संपर्क में होने की बात भी सामने आई थी।
विधान परिषद चुनाव में टिकट के बंटवारे को लेकर ओमप्रकाश राजभर की नाराजगी देखने को मिली थी। रामपुर और आजमगढ़ के उपचुनाव में सपा की हार के बाद राजभर ने अखिलेश पर कई बार तंज कसा था। 
Samajwadi Party letter to Shivpal Yadav Om Prakash Rajbhar - Satya Hindi

अखिलेश एसी वाले नेता 

कुछ दिन पहले उन्होंने कहा था कि अखिलेश को एसी कमरों से बाहर निकलना चाहिए। राजभर ने कहा था कि वह सपा के साथ गठबंधन को खत्म करने की दिशा में खुद कोई कदम नहीं उठाएंगे और अखिलेश यादव के द्वारा तलाक दिए जाने का इंतजार करेंगे। अब अखिलेश यादव ने उन्हें तलाक़ दे दिया है। 

पूर्वांचल में है असर

ओम प्रकाश राजभर अपनी बुलंद आवाज़ और अलग तेवरों के लिए जाने जाते हैं। 2017 में योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री बनने वाले ओम प्रकाश राजभर आए दिन सरकार से पिछड़ों के आरक्षण के बंटवारे को लेकर भिड़ते रहे और बाद में योगी सरकार से बाहर निकल गए थे। राजभर का पूर्वांचल के कुछ जिलों में अच्छा असर है और इसीलिए बीजेपी उन्हें एक बार फिर से अपने साथ लाना चाहती है।  

सपा गठबंधन के एक और सहयोगी केशव देव मौर्य भी विधान परिषद चुनाव में टिकट के बंटवारे को लेकर नाराजगी जता चुके हैं और गठबंधन से दूरी बनाए हुए हैं।
जबकि शिवपाल सिंह यादव ने वरिष्ठ नेता आज़म खान की रिहाई के मसले से लेकर कई और मामलों में अखिलेश यादव पर हमला बोला था। पहले तो यह भी चर्चा थी कि बीजेपी शिवपाल सिंह यादव को राज्यसभा भेज सकती है या फिर वह बीजेपी के टिकट पर आजमगढ़ उपचुनाव में उतर सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं हुआ।
Samajwadi Party letter to Shivpal Yadav Om Prakash Rajbhar - Satya Hindi

भतीजे संग सियासी तकरार

शिवपाल और अखिलेश के बीच में साल 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले सियासी तकरार शुरू हुई थी और उसके बाद शिवपाल ने अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) का गठन किया था। सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के मनाने के बाद शिवपाल ने इस विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश के साथ गठबंधन किया था। 

शिवपाल चुनाव में अखिलेश से 100 सीटें मांग रहे थे लेकिन उन्हें सिर्फ एक सीट ही दी गई।

राजनीति से और खबरें

शिवपाल और ओम प्रकाश राजभर अगर बीजेपी के साथ जाते हैं तो यह उत्तर प्रदेश में विपक्षी गठबंधन के लिए बड़ा झटका होगा। शिवपाल उत्तर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री रहने के साथ ही सपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं और यादव बेल्ट में उनके समर्थकों की अच्छी-खासी संख्या है।

बीजेपी की कोशिश उत्तर प्रदेश में 2024 के लोकसभा चुनाव में 80 में से 75 सीटें जीतने की है। बीजेपी को उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में यादव बेल्ट में खासा नुकसान हुआ है और 2024 के लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए वह इसकी भरपाई करना चाहती है। ऐसी स्थिति में शिवपाल और ओम प्रकाश राजभर दोनों ही उसके लिए मुफीद साबित हो सकते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें