loader
प्रदर्शन के दौरान मंगलवार को युवक कांग्रेस के अध्य़क्ष का बाल नोचती हुई दिल्ली पुलिस

शर्मनाकः राजनीतिक प्रदर्शन में अब नेताओं के बाल नोचे जाते हैं!

कांग्रेस के प्रदर्शन को छिन्न-भिन्न करने के लिए मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने तमाम हथकंडे अपनाए। कांग्रेस के प्रदर्शनों में अक्सर आगे-आगे रहने वाले युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.वी. श्रीनिवास के साथ दिल्ली पुलिस ने काफी दुर्व्यवहार किया। इस संबंध में एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है।

वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है कि दिल्ली पुलिस कार में श्रीनिवास को धकेल रही है और इस दौरान बेरहमी से उनके सिर के बाल नोचे जा रहे हैं। नेशनल हेराल्ड केस के सिलसिले में मंगलवार को जब ईडी ने दूसरी बार सोनिया गांधी को पूछताछ के लिए बुलाया तो कांग्रेस नेता, कार्यकर्ता और समर्थक सड़कों पर उतर आए। लेकिन दिल्ली पुलिस ने इस राजनीतिक विरोध प्रदर्शन को दबाने की पूरी कोशिश की।

ताजा ख़बरें
श्रीनिवास जब वह वहां मौजूद मीडिया से बात करने की कोशिश कर रहे थे तो पुलिस को उनकी कार के अंदर धक्का-मुक्की करते देखा गया। वीडियो में रैपिड एक्शन फोर्स के कुछ कर्मियों को कार का दरवाजा बंद करते हुए भी दिखाया गया है क्योंकि श्रीनिवास बाहर निकलने का प्रयास करते नजर आते हैं। जैसे ही वो कार में बैठते हैं, अधिकारियों में से एक, श्रीनिवास को कार में रखने के प्रयास में, उन्हें गर्दन से पकड़ लेता है।

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के वायरल होने पर लोगों ने दिल्ली पुलिस की इस हरकत की आलोचना की। लोगों ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि पहले भी राजनीतिक दलों के प्रदर्शन होते रहे हैं। खुद बीजेपी जब विपक्ष में थी तो उसने भी प्रदर्शन किए हैं, लेकिन क्या उस समय पुलिस ने विपक्षी नेताओं के साथ ऐसा सलूक किया था। लोगों ने याद दिलाया है कि श्रीनिवास अक्सर पुलिस अधिकारियों के दुर्व्यवहार के शिकार हो जाते हैं। पुलिस अधिकारी उनको पहचानते हैं और सबसे पहले उन्हें ही पकड़ा जाता है।
राजनीति से और खबरें
इस घटना से पहले दिन में राहुल गांधी महंगाई और अपनी मां सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ के विरोध में संसद के पास विजय चौक पर बैठ गए। बाद में उन्हें कई कांग्रेस सांसदों के साथ पुलिस ने हिरासत में लिया, जो केंद्र द्वारा जांच एजेंसियों के कथित दुरुपयोग की ओर राष्ट्रपति का ध्यान आकर्षित करने के लिए राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च करने के लिए एकत्र हुए थे।

जैसे ही उन्हें एक पुलिस बस में बिठाया गया और एक अज्ञात स्थान पर ले जाया गया, राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भारत एक पुलिस राज्य है और "मोदी राजा हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें