loader

किसी भी वैकल्पिक गठबंधन के लिए कांग्रेस की ज़रूरत होगी: शरद पवार

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि बीजेपी से मुक़ाबला करने के लिए किसी वैकल्पिक मोर्चे के लिए कांग्रेस की ज़रूरत पड़ेगी। उन्होंने कहा है कि ऐसे मोर्चे के लिए कांग्रेस को नहीं छोड़ा जा सकता है। उनका यह बयान दिल्ली में उनके घर पर एक बैठक के कुछ दिनों बाद ही आया है। इस बैठक में यह कयास लगाए जा रहे थे कि यह तीसरे मोर्चे के गठन के लिए विरोधी दलों को एकजुट करने का प्रयास है जिसे बाद में यह कहकर खारिज किया गया था कि यह सिर्फ़ मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा के लिए बैठक आयोजित की गई थी। 

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार ने कहा कि राष्ट्र मंच की बैठक में गठबंधन पर चर्चा नहीं हुई थी, लेकिन अगर एक वैकल्पिक मोर्चा खड़ा करना है तो यह कांग्रेस को साथ लेकर ही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 'हमें उस तरह की शक्ति की ज़रूरत है और मैंने उस बैठक में यह कहा था।' उन्होंने किसी भी मोर्चे पर विचार करने के लिए 'सामूहिक नेतृत्व' का भी आह्वान किया। 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि दिल्ली में शरद पवार के घर पर राष्ट्र मंच की बैठक को लेकर काफ़ी अटकलबाज़ियाँ चली थीं। उसमें विपक्षी दलों के नेता भी शामिल हुए थे। लेकिन कांग्रेस का कोई नेता शामिल नहीं था। हालाँकि बैठक का कोई ख़ास नतीजा नहीं निकला था। तृणमूल कांग्रेस के नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा की अगुआई में एक कमेटी गठित की गई थी जो समान विचारों वाले दलों और नेताओं को एक मंच पर लाने का काम करेगी।

बैठक के बाद भारतीय मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता नीलोत्पल बसु ने पत्रकारों से कहा था कि इस बैठक में कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई, सिर्फ़ बेरोज़गारी, महंगाई और पेट्रोलियम उत्पादों की बेतहाशा बढ़ती क़ीमतों पर बातचीत की गई। पर्यवेक्षकों का कहना था कि यह बैठक नाकाम रही।

यशवंत सिन्हा ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा था कि यह विपक्षी दलों के तीसरे मोर्चे की बैठक नहीं थी, यह राष्ट्र मंच की बैठक थी और इसमें किसी भी राजनीतिक मुद्दे पर कोई चर्चा नहीं हुई।
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के मजीद मेमन ने कहा था कि यह बैठक भले ही शरद पवार के घर हुई थी, लेकिन बैठक उन्होंने नहीं बुलाई थी। यह बैठक यशवंत सिन्हा ने बुलाई थी। उन्होंने कहा था, 'यह बात कही जा रही थी कि यह तीसरे मोर्चे की बैठक थी, पर यह सच नहीं है। हमने समान विचार वाले सभी लोगों को बुलाया था, किसी तरह का भेदभाव नहीं किया गया था।'
राजनीति से और ख़बरें
शरद पवार के घर हुई उस बैठक में मौजूद रहने वालों में प्रमुख लोग थे- नेशनल कॉन्फ्रेंस के उमर अब्दुल्ला, आरएलडी के जयंत चौधरी, समाजवादी पार्टी के घनश्याम तिवारी, सीपीआईएम के नीलोत्पल बसु, आम आदमी पार्टी के सुशील गुप्ता और सीपीआई के विनय विश्वम। ग़ैर राजनीतिक शख़्सियतों में जस्टिस ए. पी. शाह, गीतकार जावेद अख़्तर, पूर्व राजदूत के. सी. सिंह, वरिष्ठ वकील के. टी. एस. तुलसी, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस. वाई. क़ुरैशी और वरिष्ठ वकील कोलिन गोंजाल्विस भी इस बैठक में शरीक हुए थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें