loader

जल्द ही तृणमूल कांग्रेस में जा सकते हैं शत्रुघ्न सिन्हा!

बिहारी बाबू यानी शत्रुघ्न सिन्हा के टीएमसी में शामिल होने की चर्चा कोलकाता से लेकर दिल्ली तक के राजनीतिक गलियारों में है। कहा जा रहा है कि टीएमसी की मुखिया और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बिहारी बाबू को राज्यसभा भेज सकती हैं। 

हाल ही में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने भी टीएमसी का दामन थाम लिया था। माना जा रहा है कि ममता बनर्जी की कोशिश उत्तर भारत में टीएमसी के आधार को बढ़ाने की है और इसीलिए वे नामी चेहरों को अपनी पार्टी में शामिल कर रही हैं। 

कुछ वक़्त पहले बिहारी बाबू के एक बार फिर से बीजेपी में जाने की चर्चा चली थी लेकिन अब इस बात को लगभग तय माना जा रहा है कि वह टीएमसी के साथ जाएंगे। 

ताज़ा ख़बरें
पीटीआई के मुताबिक़, कोलकाता के कुछ टीएमसी नेताओं का भी कहना है कि सिन्हा के टीएमसी में शामिल होने को लेकर चल रही बातचीत काफ़ी आगे पहुंच चुकी है। उन्होंने कहा है कि सिन्हा के ममता बनर्जी से हमेशा से ही बेहतर रिश्ते रहे हैं। कहा जा रहा है कि 21 जुलाई को एक कार्यक्रम में सिन्हा टीएमसी का दामन थाम सकते हैं। 
अलग अंदाज में ‘ख़ामोश’ कहने वाले बिहारी बाबू सिन्हा ममता बनर्जी की दिल खोलकर तारीफ़ भी कर चुके हैं। सिन्हा ने बंगाल चुनाव में जीत के बाद ममता बनर्जी को असली बंगाल टाइगर बताया था और कहा था कि उन्होंने बंगाल चुनाव में प्रोपेगेंडा और पैसे की ताक़त को हरा दिया है।

दो सीटें हैं खाली 

टीएमसी में राज्यसभा की दो सीटें खाली हुई हैं। एक सीट पूर्व केंद्रीय मंत्री दिनेश त्रिवेदी और दूसरी सांसद मानस भुनिआया के इस्तीफ़े से खाली हुई है। सांसद मानस भुनिआया ने बंगाल में विधानसभा का चुनाव लड़ा था और अभी वे ममता सरकार में मंत्री हैं। माना जा रहा है कि इनमें से किसी एक सीट से ममता बनर्जी बिहारी बाबू को राज्यसभा भेज सकती हैं। 

2024 की तैयारी में दीदी

2024 के चुनाव से पहले देश में एंटी बीजेपी फ्रंट या थर्ड फ्रंट को लेकर जो तैयारियां चल रही हैं, उसे लेकर ममता बनर्जी, शरद पवार और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर काफी सक्रिय हैं। ममता बनर्जी के बंगाल चुनाव में बीजेपी को शिकस्त देने के बाद विपक्षी दलों के एकजुट होकर एक प्लेटफ़ॉर्म पर आने की संभावनाओं को बल मिला है। 

बीते दिनों हुई राष्ट्र मंच की बैठक हो या फिर शरद पवार और प्रशांत किशोर की मुलाक़ातें हों, इससे बीजेपी के ख़िलाफ़ बनने वाले मोर्चे की चर्चाओं को बल मिला है और ममता बनर्जी की कोशिश ऐसे बड़े चेहरों को जोड़ने की है, जो टीएमसी के सियासी विस्तार में तो काम ही सकें, बीजेपी के ख़िलाफ़ बनने वाले गठबंधन में भी अहम रोल निभा सकें। 

राजनीति से और ख़बरें

मोदी सरकार के आलोचक हैं सिन्हा

नरेंद्र मोदी सरकार के आलोचक रहे सिन्हा ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का हाथ थामा था और पटना साहिब सीट से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के ख़िलाफ़ चुनाव लड़ा था। लेकिन वह हार गए थे। राजनीति में जाना-पहचाना चेहरा होने के बाद भी सिन्हा को कांग्रेस में कोई बड़ी जिम्मेदारी नहीं दी गई। 

शत्रुघ्न सिन्हा फ़िल्म इंडस्ट्री का जाना-माना चेहरा हैं। शत्रुघ्न को बीजेपी ने कई राज्यों में चुनाव प्रचार के लिए भेजा था और दूसरों को ‘ख़ामोश’ कर देने वाली उनकी आवाज़ से वोट भी बटोरे थे। सिन्हा ने मोदी और शाह की जोड़ी पर हमला बोलते हुए बीजेपी को वन मैन पार्टी और टू मैन आर्मी कहा था। सिन्हा दो बार सांसद रहे हैं और अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें