loader

साथ आएं क्षेत्रीय दल; कांग्रेस के बिना नहीं बन सकता विपक्ष : तेजस्वी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरह बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने भी 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी के ख़िलाफ़ एक संभावित फ्रंट की वकालत की है। 

तेजस्वी ने बीते साल हुए बिहार के विधानसभा चुनाव में अकेले दम पर आरजेडी की कमान संभाली थी और उनकी पार्टी ने सीटों की संख्या के मामले में बीजेपी को पीछे छोड़ दिया था। बीजेपी मामूली बहुमत से नीतीश व अन्य सहयोगी दलों के साथ राज्य में सरकार बना सकी थी। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए लंबे-चौड़े इंटरव्यू में तेजस्वी यादव ने कहा है कि आज कोई भी बीजेपी के ख़िलाफ़ बोलता है तो सीबीआई, ईडी और इनकम टैक्स की एजेंसियां उसके पीछे लग जाती हैं और जो बीजेपी से समझौता कर लेता है, उसके सारे पाप धुल जाते हैं लेकिन अब धीरे-धीरे इन लोगों का पर्दाफ़ाश होता जा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें
लालू यादव की राजनीति विरासत के उत्तराधिकारी माने जाने वाले तेजस्वी ने कहा कि केंद्र सरकार एलआईसी, बीएसएनएल, एयर इंडिया, सेल सहित कई संस्थानों को बेच रही है। 
Tejashwi Yadav attacks bjp  - Satya Hindi

विकल्प देने की जिम्मेदारी 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस का पूरे देश में आधार है और बिना कांग्रेस के साथ आए विपक्ष नहीं बन सकता है। तेजस्वी ने कहा कि लोग अब स्वीकार कर रहे हैं कि उन्होंने ग़लत पार्टी को वोद दे दिया और अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम देश के अंदर एक विकल्प दें। 

ममता बनर्जी की ही तरह तेजस्वी ने भी इस बात पर जोर दिया कि सभी को साथ आना होगा। उन्होंने कहा, “हमें देश को बचाने के लिए अपने अहंकार और मतभेदों को किनारे रखना होगा। हमें इस बात को भूल जाना चाहिए कि किसे क्या पद मिला है क्योंकि अगर देश बचेगा तो हमें भी पद मिल जाएंगे और अगर बीजेपी कुछ और वक़्त तक सत्ता में रही तो देश नहीं बच पाएगा।” 

क्षेत्रीय दलों को रखें आगे

तेजस्वी ने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियों को हटा दें तो 200 सीटों पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधा मुक़ाबला है लेकिन जहां पर क्षेत्रीय दल मज़बूत हैं, उन्हें मुक़ाबले में आगे रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसका वक़्त आ चुका है। एक सवाल के जवाब में तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी-आरएसएस का एजेंडा भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने का है। 

तेजस्वी ने कहा कि बंगाल चुनाव के नतीजों ने देश को अच्छा संदेश दिया है और इससे पता चलता है कि लोग सेक्युलरिज्म में भरोसा रखते हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियों के नेता बीच-बीच में मिलते रहते हैं, सभी लोग देश को लेकर चिंतित हैं और बहुत जल्द एक रणनीति सामने आएगी।

बिहार में नीतीश सरकार को लगातार घेरने में जुटे तेजस्वी ने कहा कि वह हमेशा इस बात को कहते हैं कि सभी को साथ आना चाहिए और इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारी बातें लोगों तक पहुंचें। उन्होंने कहा कि हमें हर राज्य में जाना चाहिए और लोगों को बताना चाहिए कि सरकार ने कौन से वादे पूरे नहीं किए। 

राजनीति से और ख़बरें

‘हम ए टू जेड पार्टी हैं’

बिहार में कई छोटे दलों के गठबंधन ने उनके वोटों में सेंध लगाई। यादव ने कहा कि उन्होंने चुनाव में रोज़गार को अहम मुद्दा बनाया और बीजेपी को मुद्दों पर बात करने के लिए मजबूर कर दिया। यादव ने कहा कि आरजेडी को मुसलमानों-यादवों की पार्टी माना जाता है लेकिन हम ए टू जेड पार्टी हैं। 

यादव ने कहा कि अब हमें आर्थिक न्याय की ज़रूरत है। उन्होंने कहा कि किसानों की हालत मजदूरों से भी बदतर है। उन्होंने चिराग पासवान को लेकर कहा कि उन्हें अपनी विचारधारा को लेकर स्थिति साफ करनी होगी। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हाल ही में दिल्ली का दौरा कर कई विपक्षी नेताओं से मुलाक़ात की थी। ममता ने भी विपक्षी दलों के नेताओं से साथ आकर फ्रंट बनाने की अपील की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें