loader

नीतीश की हमारे साथ वापसी बीजेपी के लिए तमाचा: तेजस्वी

क्या अब विपक्षी एकता की नये सिरे से शुरुआत हुई है? आख़िर सोनिया गांधी से मुलाक़ात के बाद नीतीश कुमार के महागठबंधन में जुड़ने को लेकर तेजस्वी यादव बीजेपी के ख़िलाफ़ आक्रामक क्यों दिखे? कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात के बाद उत्साह से लबरेज बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा है कि बीजेपी को बड़ा झटका लगा है।

उन्होंने कहा है कि नीतीश कुमार की 'समाजवादी परिवार' में वापसी बीजेपी के मुंह पर तमाचा है। तेजस्वी ने कहा कि क्षेत्रीय दलों को डराने या खरीदने की बीजेपी की कोशिश का उद्देश्य पिछड़े वर्गों और दलितों की राजनीति को ख़त्म करना है, क्योंकि ज्यादातर ऐसी पार्टियाँ समाज के ऐसे वर्गों का प्रतिनिधित्व करती हैं।

ताज़ा ख़बरें

तेजस्वी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाक़ात के बाद दिल्ली में मीडिया से बात कर रहे थे। इससे पहले उन्होंने वामपंथी नेताओं सीताराम येचुरी और डी राजा से मुलाकात की थी।

उन्होंने कहा कि 'बिहार में भाजपा के खिलाफ सभी दल अब एक ही पक्ष में हैं। नीतीश जी ने सही समय पर सही फैसला लिया। यह अब पूरे भारत में होगा।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने भी राजद के साथ गठबंधन में वापस आने के निर्णय के साथ 'अपनी विचारधारा को बचा लिया'।
तेजस्वी यादव ने गुरुवार को भी भारतीय जनता पार्टी पर जोरदार हमला किया था। उन्होंने कहा कि केंद्रीय जाँच एजेंसियों से डरने की बजाय, वह उन्हें अपने घर पर कार्यालय खोलने के लिए तैयार हैं।

राजद नेता ने दावा किया कि केंद्र सरकार लगातार अपने इशारे पर केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई से उनके खिलाफ कार्रवाई करवा रही है, लेकिन आज तक कुछ भी नहीं मिला है।

राजनीति से और ख़बरें

उन्होंने कहा था, 'सीबीआई को हमारे घर में ही एक कार्यालय खोलना चाहिए। मैं उन्हें खुद जगह दूंगा।' राजद नेता ने अपनी मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के घर पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा के राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोपों का ज़िक्र किया। बता दें कि हाल के समय में शिवसेना, एनसीपी, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस जैसे दलों के कई नेताओं के ख़िलाफ़ केंद्रीय एजेंसियाँ कार्रवाई करती रही हैं।

तेजस्वी यादव ने कल कहा था, 'केंद्रीय एजेंसी भाजपा पार्टी के सेल की तरह काम कर रही है।' बहरहाल, उनके ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के कई मामले हैं। अब तक सीबीआई ने राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी, तेजस्वी यादव और अन्य के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए हैं। राजद प्रमुख द्वारा देश के रेल मंत्री के रूप में एक कंपनी को दिए गए कथित फेवर के संबंध में ये मामले दर्ज किए गए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें