loader

उपचुनाव नतीजे: जालंधर में आप, स्वार में बीजेपी के सहयोगी की जीत

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जहाँ कांग्रेस ने रिकॉर्ड जीत दर्ज की वहीं अन्य जगह पर हुए उपचुनावों में आप, बीजेपी, बीजेडी जैसे दलों की जीत हुई है। जालंधर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार सुशील कुमार रिंकू विजयी हुए। ओडिशा की झारसुगुडा विधानसभा सीट के उपचुनाव में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल यानी बीजेडी की उम्मीदवार दीपाली दास ने जीत हासिल की। मेघालय में यूडीपी विजयी हुई। यूपी में बीजेपी गठबंधन ने दोनों सीटों पर कब्जा जमाया। इसमें वह आजम ख़ान के परिवार से जुड़ी स्वार सीट भी शामिल है।

निर्वाचन आयोग की वेबसाइट से मिली जानकारी के अनुसार, मिर्जापुर की छानबे (अनुसूचित जाति) सीट पर बीजेपी के सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) की रिंकी कोल जीत गई हैं। रामपुर की स्वार सीट पर अपना दल (सोनेलाल) के शफीक अहमद अंसारी ने समाजवादी पार्टी की अनुराधा चौहान को शिकस्त दी है। शफीक अहमद अंसारी ने 8,824 वोटों से जीत दर्ज की है। शफीक अहमद अंसारी को 68,513 वोट मिले, जबकि सपा प्रत्याशी अनुराधा चौहान को 59689 मत मिले।

ताज़ा ख़बरें

इस उपचुनाव में सपा को बड़ा झटका लगा है। आजम खान के हाथ से स्वार सीट निकल गई है। बात दें कि मुरादाबाद की कोर्ट से छजलैट प्रकरण में दो साल कैद की सजा मिलने के बाद सपा नेता आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम की विधायकी चली गई थी। यूपी की इन दोनों सीटों के लिए 10 मई को मतदान हुआ था।

इधर, जालंधर लोकसभा सीट पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार को 34.05 फीसदी वोट मिले हैं, जबकि आम आदमी पार्टी के बाद सबसे ज्यादा वोट कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार को (27.44 फीसदी) मिले हैं। इस सीट पर बीजेपी को 15.19 फीसदी वोट मिले हैं।

राजनीति से और ख़बरें

ओडिशा में एक सीट पर हुए विधानसभा उपचुनाव में बीजेडी को जीत मिली है। बीजेडी को यहां 60.93 फीसदी वोट मिला है, जबकि 33.24 फीसदी वोट बीजेपी को मिला है। कांग्रेस को इस सीट पर महज 2.56 फीसदी वोट मिले।

मेघालय में एक सीट पर हुए विधानसभा उपचुनाव में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी यानी यूडीपी के उम्मीदवार सिन्शर कुपर रॉय लिंगदोह थबाह ने सोहियोंग विधानसभा सीट जीत ली। थबाह ने नेशनल पीपुल्स पार्टी यानी एनपीपी उम्मीदवार को 3,422 मतों से हराया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें