loader

बीजेपी आलाकमान का सिरदर्द बढ़ाएंगी वसुंधरा और उमा भारती?

पांच राज्यों के चुनावी समर में कूदने जा रही बीजेपी एक ओर किसान आंदोलन से परेशान है तो दूसरी ओर उसके भीतर भी थोड़ा-बहुत अशांति का माहौल है। यह अशांति का माहौल दो पूर्व महिला मुख्यमंत्रियों की वजह से बन रहा है। इनके नाम उमा भारती और वसुंधरा राजे हैं। दोनों ही दिग्गज राजनेता हैं और क्रमश: मध्य प्रदेश और राजस्थान की मुख्यमंत्री रही हैं। पहले बात वसुंधरा राजे की करते हैं। 

दमदार राजनेता वसुंधरा राजे 

राजस्थान में बीजेपी की अंदरुनी सियासत गर्म है क्योंकि वसुंधरा राजे के समर्थकों ने 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में राजे को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने को लेकर आलाकमान पर दबाव बनाया हुआ है। इन समर्थकों ने वसुंधरा राजे समर्थक मंच राजस्थान का गठन किया है और इसे लेकर राज्य बीजेपी के बड़े नेताओं ने आलाकमान से मुलाक़ात की है और एतराज जताया है।  

राजे समर्थकों का कहना है कि स्थानीय निकाय के चुनावों में राजस्थान में बीजेपी को 90 नगर पालिकाओं में से सिर्फ 37 पर ही जीत मिली है जबकि कांग्रेस लगभग 50 सीटें जीती है। ऐसे में राजे के हाथ में कमान देनी बहुत ज़रूरी है।

राजे समर्थकों ने एलान किया है कि वे 8 मार्च से प्रदेश भर में देव दर्शन यात्रा निकालेंगे। राजे के कुछ समर्थक इस दिन गोवर्धन यात्रा भी निकालने जा रहे हैं। इस दिन राजे का जन्मदिन होता है। पूर्व मुख्यमंत्री के समर्थकों की पूरी कोशिश आलाकमान पर दबाव बनाने की है। 

ताज़ा ख़बरें

पूनिया से हैं नाराज़!

वसुंधरा राजस्थान बीजेपी में उनके विरोधियों को अहम पद दिए जाने से नाराज़ हैं। वह सतीश पूनिया को अध्यक्ष बनाए जाने से ख़ुश नहीं थीं। इसके अलावा जयपुर के राजघराने की पूर्व राजकुमारी दिया कुमारी और विधायक मदन दिलावर को प्रदेश महामंत्री बनाए जाने से भी वह नाराज़ बताई जाती हैं। 

वसुंधरा राजे राजस्थान बीजेपी में हैवीवेट नेता हैं। एक ओर राजे हैं और दूसरी ओर प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, कहा जाता है कि ये सब मिलकर भी राजे के सामने नहीं टिक पाते।

राजस्थान से आने वाले अन्य केंद्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल और कैलाश चौधरी, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया भी राजे के सामने ठहरते नहीं दिखाई देते।  

बीते साल कांग्रेस में जब सचिन पायलट व अशोक गहलोत खेमे के बीच तलवारें खिंची थीं तो राजे चुप रही थीं, तब राज्य बीजेपी के नेताओं ने आलाकमान को बताया था कि राजस्थान की सियासत में अशोक गहलोत और वसुंधरा राजे एक-दूसरे के मददगार हैं। 

14 फरवरी को कोटा में राजे समर्थक विधायकों और कार्यकर्ताओं की बैठक हुई और फ़ैसला लिया गया कि राजे को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करवाने को लेकर केंद्रीय नेतृत्व पर दबाव बनाया जाएगा। उनका कहना है कि सिर्फ महारानी ही प्रदेश में बीजेपी को फिर से खड़ा कर सकती हैं। 

Vasundhara Raje and Uma Bharti next Political move  - Satya Hindi

उमा भारती का क्या संदेश?

अब बात करते हैं उमा भारती की। राम मंदिर आंदोलन से निकलकर बीजेपी में अपनी जगह बनाने वालीं उमा भारती ने एलान किया है कि वे शराब बंदी की मांग को लेकर 8 मार्च से पूरे मध्य प्रदेश में यात्रा निकालेंगी। उमा ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से अपील की है कि जहां भी बीजेपी की सरकारें हैं उन राज्यों में पूर्ण शराबबंदी की तैयारी करिए। 

ऐसा लगता है कि उमा इस यात्रा के जरिये पूरे प्रदेश में अपने समर्थकों को फिर से एकजुट करना चाहती हैं और इससे वह हाईकमान तक भी संदेश पहुंचाना चाहती हैं कि उनमें राजनीतिक दम-खम बाक़ी है।

शिवराज पर बढ़ेगा दबाव

राजनीतिक जानकारों के मुताबिक़, शराबबंदी की मांग को लेकर उमा का पूरे प्रदेश के दौरे पर इस वक़्त निकलना शिवराज सरकार पर दबाव बनाने की कोशिश है क्योंकि बीते कुछ महीनों के भीतर मध्य प्रदेश में शराब के कारण दो जगहों पर 40 लोगों की मौत हो चुकी है। इस वजह से शिवराज सिंह चौहान पहले से ही दबाव में और विपक्ष के निशाने पर हैं। 

Vasundhara Raje and Uma Bharti next Political move  - Satya Hindi

बीजेपी को सत्ता में लाईं

यहां याद रखना होगा कि ये उमा भारती ही थीं, जिन्होंने 2003 में दिग्विजय सिंह की 10 साल पुरानी सरकार को उखाड़कर बीजेपी को सत्ता दिलाई थी लेकिन 8 महीने बाद ही उनके नाम एक वारंट जारी होने के बाद उन्हें इस्तीफ़ा देना पड़ा था। उसके बाद से उमा ने बहुत कोशिश की कि वे फिर से राज्य की मुख्यमंत्री बन सकें लेकिन बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व इसके लिए राजी नहीं हुआ। 

राजनीति से और ख़बरें

अपनी पार्टी भी बनाई 

उमा ने 2008 के विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनशक्ति नाम से पार्टी भी लांच की लेकिन वह ख़ुद की सीट भी नहीं बचा सकीं। बीजेपी के आगे झुकते हुए उन्होंने पार्टी का विलय कर लिया। उसके बाद वह केंद्रीय मंत्री भी बनीं लेकिन शायद वह बनना मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री ही चाहती थीं लेकिन इस पद पर लौट नहीं सकीं। 

फरवरी, 2018 में सक्रिय राजनीति से तीन साल का संन्यास लेने का एलान करने वालीं उमा अब क्या करेंगी, इस पर सभी की नज़र है, क्योंकि यह अवधि ख़त्म हो रही है और उमा मध्य प्रदेश की यात्रा पर निकल रही हैं।

यूपी में भी है जनाधार 

उमा के सक्रिय होने से बीजेपी आलाकमान परेशान ज़रूर होगा क्योंकि उमा भारती की छवि हिंदू नेता की है और मध्य प्रदेश के साथ ही राम मंदिर आंदोलन के कारण उत्तर प्रदेश में भी उनका असर है। ऐसे में अगर उन्होंने शराबबंदी की मांग को लेकर बड़ा आंदोलन खड़ा कर दिया तो बीजेपी को इसका जवाब देना मुश्किल हो जाएगा। उमा ने चमोली में हुए हादसे को लेकर भी मोदी सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा था कि उन्होंने मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में जल संसाधन मंत्री रहते हुए गंगा पर पावर प्रोजेक्ट्स बनाने का विरोध किया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें