loader

संसद घेरने पहुंचे युवक कांग्रेसी, राहुल ने बोला सरकार पर हमला

पेगासस जासूसी मामले, किसान आंदोलन, बेरोज़गारी सहित कई मुद्दों को लेकर युवक कांग्रेस ने गुरूवार को संसद का घेराव किया। इसमें देश भर के कई राज्यों से कार्यकर्ता पहुंचे और अपनी आवाज़ बुलंद की। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी युवा पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचे और मोदी सरकार पर जमकर हमले किए। 

राहुल ने कहा कि मोदी सरकार की साझेदारी छोटे उद्योगपतियों, युवाओं और आम लोगों के साथ नहीं है। उसकी साझेदारी सिर्फ और सिर्फ 2-3 उद्योगपतियों के साथ है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने सिर्फ उनके फोन के अंदर नहीं, आप सभी के, हर युवा के फोन के अंदर पेगासस हथियार डाल दिया है। 

राहुल ने कहा कि बीजेपी का लक्ष्य हिंदुस्तान के युवाओं की आवाज को दबाने का है। जिस दिन देश के युवा सच्चाई बोलने लगेंगे उस दिन ये सरकार गिर जाएगी। 

राजनीति से और ख़बरें

पेगासस जासूसी के मामले को लेकर कांग्रेस सड़क से संसद तक मोदी सरकार पर हमलावर है। संसद के दोनों सदनों में भी इस मुद्दे को कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने जोर-शोर से उठाया है। 

Youth congress Sansad Gherao on pegasus issues - Satya Hindi
कुछ दिन पहले भी युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के नेतृत्व में जोरदार प्रदर्शन किया था। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने हाथ में पोस्टर भी लिए हुए थे, जिनमें लिखा था चौकीदार ही जासूस है। श्रीनिवास बीवी ने कहा था कि ये जासूसी कांड सरकार के कफ़न में आखिरी कील साबित होगा। 
राजनीति से और ख़बरें

सक्रिय है कांग्रेस नेतृत्व

लगातार दो लोकसभा चुनाव में करारी हार और कई राज्यों में पस्त होने के बाद कांग्रेस को पेगासस जासूसी मामले और किसान आंदोलन से खासी उम्मीद है। इसलिए पार्टी ने इन मुद्दों को जोर-शोर से उठाया है। विपक्षी दलों में कांग्रेस विशेषकर खासी मुखर है। राहुल गांधी ने विपक्षी दलों को एकजुट कर मोदी सरकार तक संदेश पहुंचाया है कि वह इन मुद्दों से उसे बचकर नहीं निकलने देंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें