loader

पुलवामा आतंकी हमला : आज की 10 अहम बातें

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश भर में प्रदर्शन हो रहे हैं। लोगों में आतंकी हमले के ख़िलाफ़ गुस्सा है। पुलवामा के रहने वाले आतंकी आदिल अहमद डार ने इस हमले को अंजाम दिया था। इस हमले में 40 से ज़्यादा जवान शहीद हो गए थे। रविवार को पुलवामा हमले में क्या अहम घटनाक्रम हुए, यहाँ पढ़ें - 
  • जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अलगाववादी नेताओं को मिली सुरक्षा वापस ले ली है। इन अलगाववादी नेताओं में मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़, शब्बीर शाह, हाशिम कुरैशी, बिलाल लोन और अब्दुल गनी बट शामिल हैं। इन पांचों अलगाववादी नेताओं को किसी भी तरह की सुरक्षा नहीं दी जाएगी। 
  • बेगूसराय के बरौनी में विकास योजनाओं का शिलान्यास करने पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देने के बाद एक सभा में लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘जो आग देशवासियों के दिल में लगी है वही मेरे अंदर भी धधक रही है।’
  • हमले के बाद देश के कई इलाक़ों में कश्मीरी छात्र-छात्राओं पर हमले की ख़बरें आईं। इन हमलों के ख़िलाफ़ कई लोगों ने ट्विटर पर कश्मीरी छात्रों को मदद की पेशकश की। 
  • केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ़) ने एडवाइजरी जारी करके कहा है कि कुछ शरारती तत्व पुलवामा आतंकी हमले के शहीदों के शवों के हिस्सों की फ़र्ज़ी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं। ऐसे लोग समाज में नफ़रत फैला रहे हैं। कृपया ऐसी तस्वीरें और पोस्ट शेयर या लाइक न करें। अगर आपकी नज़र में ऐसी कोई पोस्ट आती है तो उसके बारे में webpro@crpf.gov.in पर जानकारी दें। 
  • कश्मीरी लोगों की मदद के लिए सीआरपीएफ़ ने सीआरपीएफ़ मददगार नाम से ट्विवर हैंडल बनाया है। इस हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि कश्मीर से बाहर रह रहे लोग ज़रूरत पड़ने पर 24 घंटे और हफ़्ते में सातों दिन उन्हें कॉल कर सकते हैं। सीआरपीएफ़ ने टोल फ़्री नंबर भी 14411 जारी किया है। 
  • भारत ने म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में जर्मनी, अमेरिका और रूस सहित कई देशों के साथ बैठकों में पुलवामा आतंकवादी हमले का मुद्दा उठाया। सुरक्षा सम्मेलन में भारत की ओर से उप सुरक्षा सलाहकार (डिप्टी एनएसए) पंकज सरन ने हिस्सा लिया। 
  • पूर्व रॉ प्रमुख विक्रम सूद ने कहा कि पुलवामा जैसी घटनाओं के पीछे सुरक्षा इंतजामों में हुई चूक ज़िम्मेदार है। सूद ने कहा, हमले में निश्चित रूप से एक से ज़्यादा लोग शामिल रहे होंगे और उन्हें सीआरपीएफ़ के जवानों के काफिले के मूवमेंट के बारे में जानकारी रही होगी। 
  • पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, शहीद हुए ऐसे सैनिक, जिनके बच्चे नहीं हैं और इस कारण हम उन्हें नौकरी नहीं दे सकते, उनके माता-पिता को हम 12 लाख रुपये की सहायता राशि के अलावा जीवन भर 10 हजार रुपये मासिक पेंशन भी देंगे। 
  • जम्‍मू-कश्‍मीर के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने सीआरपीएफ़ के शहीद हेड कांस्‍टेबल नसीर अहमद के परिवार को 20 लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की। 
  • सलमान ख़ान के एनजीओ बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन की तरफ़ से शहीदों के परिवार वालों के लिए मदद की राशि भेजी गई है। इसके लिए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने सलमान ख़ान को धन्यवाद दिया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पुलवामा हमला से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें