loader

कश्मीर हमला : राजनाथ पहुँचे श्रीनगर, शहीदों के शव को कंधा दिया

पुलवामा हमले के बाद तेज़ी से बदलते घटनाक्रमों के बीच गृह मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर पहुँचे। राज्यपाल सत्यपाल मलिक, सुरक्षा बलों के आला अफ़सरों के साथ राजनाथ सिंह ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने शहीदों के शव को कंधा दिया। बता दें कि शहीदों के शव को दिल्ली लाया जा रहा है। 

इसके साथ ही राजनाथ सिंह ने श्रीनगर में राज्यपाल सत्यपाल मलिक और अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में हमले के बाद बनी सुरक्षा की स्थिति और राज्य में सुरक्षा बलों की तैनाती पर चर्चा की गई। इस बीच राजनाथ सिंह ने दिल्ली में शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। गृह मंत्री ने यह भी कहा है कि इस हमले से सुरक्षा बलों का मनोबल नहीं गिरेगा, वे कमज़ोर नही होंगे। 

5 परमाणु संपन्न देशों से बातचीत

भारत ने एक बड़ा कूटनीतिक कदम उठाते हुए पांच परमाणु संपन्न देशों के राजनयिकों से बात की है। अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और ब्रिटेन के राजनयिकों को विदेश मंत्रालय बुला कर बात की गई है। समझा जाता है कि भारत ने उन्हें पुलवामा हमले के बारे में विस्तार से बताया है। तेजी से बदलते घटनाक्रम में गृह मंत्री ने यह भी कहा है कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गुटों को समर्थन दिया जा रहा है, पैसे दिए जा रहे हैं। इसे हर कीमत पर रोका जाना चाहिए। 

पाक में अपने उच्चायुक्त को भारत ने दिल्ली बुलाया

आतंकी हमले को देखते हुए पाकिस्तान में अपने उच्चायुक्त अजय बिसारिया को भारत ने बातचीत के लिए भारत बुलाया है। बिसारिया आज रात ही दिल्ली के लिए रवाना हो जाएँगे। शनिवार को यहाँ उनकी उच्चाधिकारियों के साथ बैठक होगी। इससे पहले दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद को भारतीय विदेश मंत्रालय ने तलब किया। विदेश मंत्रालय ने महमूद के सामने कड़ा विरोध दर्ज कराया।

बता दें कि प्रधानमंत्री ने साफ़ शब्दों में कहा है कि आतंकी संगठन बहुत बड़ी ग़लती कर चुके हैं, उनको बहुत बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ेगी। इधर, राहुल गाँधी ने कहा कि आतंकवाद के ख़िलाफ़ कार्रवाई पर कांग्रेस सरकार के साथ है। ऐसे माना जा रहा है कि सर्वदलीय बैठक में कोई बड़ा फ़ैसला लिया जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पुलवामा हमला से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें