loader

अमरिंदर सिंह की नयी पार्टी का नाम- पंजाब लोक कांग्रेस; कांग्रेस से दिया इस्तीफा

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज कांग्रेस से इस्तीफ़ा देने की औपचारिकता पूरी करने के साथ ही अपनी नयी पार्टी के नाम की घोषणा कर दी। उन्होंने अपनी नयी पार्टी का नाम पंजाब लोक कांग्रेस रखा है। हालाँकि उन्होंने यह भी कहा है कि उनका इस्तीफ़ा अभी मंजूर नहीं हुआ है और उनकी नयी पार्टी का चिन्ह बाद में मंजूर होगा। उनके पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देने के कुछ दिनों के अंदर ही यह साफ़ हो गया था कि वह कांग्रेस में नहीं रहेंगे। बाद में उन्होंने गृह मंत्री और बीजेपी नेता अमित शाह से मुलाक़ात की थी और फिर उन्होंने घोषणा की थी कि वह नई पार्टी बनाएँगे। उन्होंने यह भी साफ़ कर दिया था कि उनकी नयी पार्टी बीजेपी के साथ गठबंधन कर सकती है। 

कैप्टन ने कांग्रेस अध्यक्ष को इस्तीफ़ा सौंप दिया है। उन्होंने इसमें इस्तीफ़े का कारण तो बताया ही है, इसके साथ ही उन्होंने खुद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और उनकी बेटी प्रियंका गांधी पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने अपने इस्तीफ़े की कॉपी ट्विटर पर साझा की है। 

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा पर 'एक अस्थिर व्यक्ति' और 'पाकिस्तानी राज्य के एक सहायक' नवजोत सिद्धू को संरक्षण देने का आरोप लगाया। इसके साथ ही उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि सोनिया गांधी ने 'इस सब से आंखें मूंद लीं'।

ट्विटर पर बुलाई गई विधायक दल की बैठक का हवाला देते हुए अमरिंदर सिंह ने कहा है कि वह इस बात को समझते हैं कि 'उनका इरादा उन्हें नीचा दिखाने और अपमानित करने का था'। उन्होंने कहा कि अगली सुबह सोनिया गांधी ने उन्हें फोन किया और शीर्ष पद से उनका इस्तीफा मांगा।

ताज़ा ख़बरें
कांग्रेस अध्यक्ष को भेजे अपने इस्तीफे वाले पत्र में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लिखा है कि आपने शायद सोचा था कि यदि आपने तीसरे दर्जे का आपातकाल जैसा सर्कस लागू नहीं किया होता तो मैं विधायकों को किसी रिसॉर्ट में ले जाता। उन्होंने लिखा है, 'सार्वजनिक जीवन में 52 वर्षों तक मुझे जानने के बावजूद और वह भी एक बेहद व्यक्तिगत स्तर पर, आपने मुझे या मेरे चरित्र को कभी नहीं समझा। आपने सोचा था कि मेरी उम्र हो चली है और इसलिए मुझे जबरन हटाया जाना चाहिए।'

इस बीच, चंडीगढ़ में पार्टी के नाम का खुलासा करते हुए कैप्टन ने मंगलवार को कहा, 'चूँकि हमने पहले घोषणा की थी कि हम अपनी पार्टी बनाएंगे, इसलिए वकीलों की हमारी टीम प्रक्रिया पर काम कर रही थी और पंजीकरण के लिए भारत के चुनाव आयोग को आवेदन किया था।' उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को प्रस्तावित नाम पर कोई आपत्ति नहीं है।

उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी की औपचारिक शुरुआत बाद में की जाएगी। कैप्टन ने कहा कि पार्टी की शुरुआत के समय नीतियों, कार्यक्रमों, एजेंडे और विजन के बारे में बताया जाएगा।

पंजाब से और ख़बरें

बता दें कि पंजाब में चार महीने के अंदर विधानसभा के चुनाव होने हैं। हाल ही में उन्होंने यह भी कहा था कि अगर किसान आंदोलन का मसला हल हो जाता है तो वह बीजेपी के साथ गठबंधन करेंगे। अमरिंदर की बीते दिनों गृह मंत्री अमित शाह से मुलाक़ात भी हुई थी। 

मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद अमरिंदर सिंह ने एक अलग ही रास्ता अपनाया है। उनकी नई पार्टी की घोषणा और बीजेपी के साथ संभावित गठबंधन को कांग्रेस के लिए सीधी चुनौती के रूप में देखा जा रहा है। अमरिंदर सिंह के इस क़दम को कांग्रेस के लिए बेहद ख़तरे के तौर पर देखा जा रहा है। अगर वह कांग्रेस के ख़िलाफ़ अपनी नई पार्टी के उम्मीदवारों को खड़ा करते हैं तो वोट बंट सकता है। इधर कांग्रेस की एक और मुसीबत नजवोत सिंह सिद्धू भी हैं जो चरणजीत सिंह के ख़िलाफ़ मोर्चा खोले हुए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें