loader

राहुल से मिले हरीश रावत, बोले- 2-3 दिन में जाऊंगा पंजाब 

पंजाब कांग्रेस में फिर से खड़े हुए सियासी बवाल के बीच राज्य में पार्टी के प्रभारी हरीश रावत ने शनिवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष हरीश रावत से मुलाक़ात की है। रावत शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिले थे और उन्हें पंजाब कांग्रेस में चल रहे ताज़ा घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी थी। 

बीते कुछ दिनों में जहां एक बार फिर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के ख़िलाफ़ बग़ावत तेज़ हुई है तो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाए गए नवजोत सिंह सिद्धू और उनके सलाहकारों के बयानों ने हाईकमान को हलकान किया हुआ है। 

राहुल गांधी के साथ हुई मुलाक़ात में भी हरीश रावत ने पंजाब कांग्रेस के बाग़ी विधायकों-मंत्रियों के रूख़ के बारे में जानकारी दी है। मुलाक़ात के बाद हरीश रावत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वे दो-तीन दिन के अंदर पंजाब जाएंगे और वहां जाकर पार्टी के नेताओं से मुलाक़ात करेंगे। उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष से ज़रूर मुलाक़ात करेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

ख़बरों के मुताबिक़, रावत ने हाईकमान से अनुरोध किया है कि उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटने के लिए उन्हें पंजाब के प्रभारी पद से मुक़्त कर दिया जाए। 

‘ईंट से ईंट बजा दूंगा’

उधर, सिद्धू गुरूवार को अमृतसर में आयोजित एक कार्यक्रम में अपनी रौ में जो कुछ बोल गए, उसे हज़म कर पाना शायद कांग्रेस हाईकमान के लिए भी आसान नहीं होगा। 

Harish rawat met Rahul Gandhi on Punjab congress crisis - Satya Hindi

सिद्धू ने कहा था, “आज भी मैं हाईकमान से यह बात कहकर आया हूं कि अगर मैं इस पंजाब मॉडल पर, लोगों की आशाओं पर खरा उतरा तो 20 साल तक कांग्रेस को जाने नहीं दूंगा, अगर आप मुझे फ़ैसले नहीं लेने देंगे तो मैं ईंट से ईंट बजा दूंगा।” सिद्धू ने एक नहीं दो बार इस बात को कहा कि वे ईंट से ईंट बजा देंगे। उन्होंने कहा कि दर्शनी घोड़ा बने रहने से कोई फ़ायदा नहीं है। 

मनीष तिवारी का तंज 

सिद्धू के इस बयान पर पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कांग्रेस हाईकमान पर तंज कसा है। पंजाब की आनंदपुर साहिब सीट से सांसद मनीष तिवारी ने ट्वीट कर कहा है, “हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम, वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती।” उन्होंने सिद्धू के बयान का वीडियो भी पोस्ट किया है। 

अमरिंदर विरोधियों को संदेश 

हरीश रावत ने अमरिंदर के ख़िलाफ़ मोर्चा खोलने वाले नेताओं को साफ संदेश देते हुए कहा था कि कांग्रेस 2022 का विधानसभा चुनाव कैप्टन की क़यादत में ही लड़ेगी। रावत के बयान से साफ हो गया था कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पुरजोर विरोध के बाद भी नवजोत सिंह सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाने वाला हाईकमान इस बार कैप्टन के साथ है। साथ ही वह सिद्धू से ख़फ़ा है, यह बात भी साफ हो गई थी। 

Harish rawat met Rahul Gandhi on Punjab congress crisis - Satya Hindi
मलविंदर सिंह माली।

माली का इस्तीफ़ा 

नवजोत सिंह सिद्धू के पूर्व सलाहकार मलविंदर सिंह माली की कुछ हालिया फ़ेसबुक पोस्ट को लेकर जबरदस्त विवाद हुआ था और बीजेपी ने इसे मुद्दा बना लिया था। इसके अलावा सिद्धू के एक और सलाहकार प्यारे लाल गर्ग के बयान को लेकर भी विवाद हुआ था और इसके बाद हरीश रावत ने सख़्त होते हुए कहा था कि सिद्धू को इन सलाहकारों को हटा देना चाहिए और ज़रूरत पड़ी तो वे इन्हें हटाने का निर्देश देंगे। अगले ही दिन माली ने इस्तीफ़ा दे दिया था। सिद्धू ने हाल ही में चार सलाहकार नियुक्त किए थे। 

पंजाब से और ख़बरें

अमरिंदर का शक्ति प्रदर्शन 

सिद्धू को घिरता देख अमरिंदर ने भी गुरूवार को चंडीगढ़ में अपनी सियासी ताक़त का मुज़ाहिरा किया और कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी के आवास पर रखे गए डिनर में 58 विधायकों और 8 सांसदों को जुटा लिया। बता दें कि बीते कुछ दिनों में एक बार फिर अमरिंदर के ख़िलाफ़ बग़ावत तेज़ हुई है और बग़ावती नेताओं का कहना है कि उनके साथ 46 विधायकों का समर्थन है। 

लेकिन अमरिंदर ने उनकी बात को ग़लत साबित कर दिया है। अमरिंदर के गुट की ओर से इस डिनर की तसवीरें और वीडियो भी जारी किए गए हैं। इस डिनर में अमरिंदर की कैबिनेट के 8 मंत्री भी शामिल रहे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें