loader

कांग्रेस नेतृत्व पर पूरा भरोसा, हर आदेश का पालन करूंगा: सिद्धू

पंजाब कांग्रेस में खासी उथल-पुथल मचाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू गुरूवार शाम को पार्टी के दिल्ली स्थित राष्ट्रीय दफ़्तर में पहुंचे। यहां सिद्धू पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत और पार्टी के महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल के सामने पेश हुए। 

पेशी के बाद सिद्धू ने पत्रकारों से कहा, “मैंने पंजाब को लेकर, पंजाब कांग्रेस को लेकर जो मेरी चिंताएं थीं, उन्हें पार्टी हाईकमान को बताया है। मुझे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी पर पूरा भरोसा है। मुझे पूरा भरोसा है कि वे जो भी फ़ैसला लेंगे, वो पंजाब के हित में होगा। 

क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू ने कहा कि वह पार्टी हाईकमान के हर आदेश का पालन करेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

सिद्धू के साथ बैठक के बाद हरीश रावत ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, “सिद्धू अपनी बात साफ कह चुके हैं कि वे कांग्रेस नेतृत्व के आदेश का पालन करेंगे और आदेश साफ है कि सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष के तौर पर अपना काम पूरी ताक़त के साथ करें।” रावत ने यह भी कहा कि शुक्रवार को इस मामले में बड़ी सूचना दी जाएगी। 

सिद्धू पंजाब के लिए अपने 18 बिंदुओं वाले एजेंडे की बात करते रहे हैं। मुलाक़ात से पहले उन्होंने एक इंटरव्यू का वीडियो ट्वीट किया था। इस वीडियो में सिद्धू ने पंजाब से जुड़े कई मसलों पर खुलकर बात की थी। 

हक़ीक़त लिखकर शेयर किए गए इस वीडियो में सिद्धू ने कहा था कि वे पार्टी हाईकमान के समर्थन के लिए उसके शुक्रगुजार हैं लेकिन वह किसी तरह का समझौता नहीं करेंगे। 

टल गई मुसीबत?

बहरहाल, सिद्धू ने अब जब इस बात को कहा है कि वह कांग्रेस नेतृत्व के आदेश का पालन करेंगे और हरीश रावत ने भी उनसे पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष के तौर पर पूरी ताक़त के साथ काम करने के लिए कहा है तो माना जाना चाहिए कि सिद्धू के इस्तीफ़े के बाद पंजाब कांग्रेस पर आई बड़ी मुसीबत अब टल गई है और सिद्धू पद पर रहकर पूरी सक्रियता से पार्टी के लिए काम करेंगे। 

पंजाब से और ख़बरें

कांग्रेस हाईकमान ने पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के लाख विरोध के बाद सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया था। लेकिन सिद्धू ने हाईकमान को जोर का झटका पिछले महीने तब दिया, जब उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया। इससे हाईकमान की ख़ासी किरकिरी हुई और साथ ही अमरिंदर सिंह ने भी पार्टी से पूरी तरह किनारा कर लिया। 

कांग्रेस नहीं चाहती कि पंजाब उसके हाथ से निकल जाए, इसलिए वह काफी फूंक-फूंक कर क़दम रख रही है और सिद्धू की तमाम हरक़तों को नज़रअंदाज करने के लिए भी मजबूर है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें