loader

पाकिस्तान की बड़ी साजिश है करतारपुर साहिब कॉरिडोर खोलने का फ़ैसला?

बेशक भारत ने करतारपुर गलियारा खोलने की पाकिस्तान की पेशकश को ठुकरा दिया है, लेकिन तय साजिश के तहत पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है। एकबारगी फिर साफ़ हो गया है कि पाकिस्तान, भारत को दिक्क़त में डालने का कोई भी मौका नहीं छोड़ता है।

क़रार का उल्लंघन

पाकिस्तान 29 जून को शेर-ए-पंजाब महाराजा रंजीत सिंह की पुण्यतिथि के मौके पर करतारपुर गलियारा खोलना चाहता है। इसके लिए महज 2 दिन पहले भारत सरकार को सूचित किया गया है।
पंजाब से और खबरें
द्विपक्षीय क़रार के अनुसार, यात्रा की तारीख से 7 दिन पहले दोनों देशों को एक-दूसरे को सूचित करना अनिवार्य है ताकि पंजीकरण की प्रक्रिया सुचारु रूप से शुरू हो सके। 
पाकिस्तान ने अब तक वादे के मुताबिक़ रावी नदी पर बाढ़ की आशंका के मद्देनज़र पुल भी नहीं बनाया है। मानसून सिर पर है और उस पार जा रहे भारतीयों की सुरक्षा खतरे में है।

भारत पर दबाव

गलियारा खोलने की घोषणा को दुनिया भर के कट्टरपंथी सिख संगठन भारत के ख़िलाफ़ इस्तेमाल कर सकते हैं। शातिर पाकिस्तान बखूबी इस पहलू से वाकिफ़ है। करतारपुर साहिब कॉरिडोर खुलने के बाद भारत सरकार पर दबाव रहेगा कि वह वह डेरा बाबा नानक की ओर से इस रास्ते को खोले, ताकि सिख श्रद्धालु दर्शनार्थ जा सकें।
कोरोना वायरस के पंजाब में हो रहे ज़बरदस्त फैलाव के चलते यह फ़ौरी तौर पर नामुमकिन है। लॉकडाउन और कर्फ़्यू के चलते सिखों के सर्वोच्च धार्मिक स्थल अमृतसर स्थित श्री हरमंदिर साहिब के कपाट भी आम श्रद्धालुओं के लिए बंद कर दिए गए थे और अब भी वहाँ जाने वालों की तादाद बहुत कम है।

नहीं आ रहे श्रद्धालु!

बाबा बकाला में बहुत सारे श्रद्धालु दूरबीन के जरिए गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के दर्शन करते हैं, लेकिन इन दिनों यह सिलसिला भी रुका हुआ है। एक अधिकारी ने बताया कि पहले की अपेक्षा न के बराबर श्रद्धालु बाबा बकाला आ रहे हैं। 
पाकिस्तान के विदेश मंत्री महमूद कुरैशी ने ट्वीट में यह जानकारी दी कि उनका मुल्क़ करतारपुर गलियारा खोलने जा रहा है, इसलिए भी कि दुनिया भर के पूजा स्थल खुल गए हैं। 29 जून को महाराजा रंजीत सिंह की पुण्यतिथि है और श्रद्धालु आ सकते हैं।

एसजीपीसी की वेबसाइट बंद

पाकिस्तान के विदेश मंत्री की घोषणा के बावजूद गुरुद्वारा करतारपुर साहिब की अग्रिम बुकिंग के लिए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) की वेबसाइट बंद है।
एसजीपीसी हर साल महाराजा रंजीत सिंह की बरसी पर श्रद्धालुओं के जत्थे पाकिस्तान भेजती रही है। कोविड-19 की वजह से एसजीपीसी ने इस बार जत्थे पाकिस्तान नहीं भेजने का फैसला किया था। बरसी मनाने के लिए एसजीपीसी की ओर से अमृतसर में अखंड पाठ चल रहे हैं।

कोरोना का कहर!

भारत और पाकिस्तान दोनों ही कोरोना वायरस के गंभीर हालात के दरपेश हैं। दोनों सरकारों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा अटारी-वाघा पर स्थित प्रवेश रास्तोंं को बंद कर दिया था। दोनों देशों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर होने वाली रिट्रीट सेरेमनी भी आम दर्शकोंं के लिए बंद की हुई है। तभी से करतारपुर कॉरिडोर भी बंद है।
एकतरफा तौर पर करतारपुर साहिब कॉरिडोर खोलने की घोषणा करने वाला पाकिस्तान कहीं न कहीं आग में घी डाल रहा है।

पाकिस्तान की नीयत में खोट?

ग़ौरतलब है कि करतारपुर गलियारा खोलने से पहले दोनोंं देशों के बीच उच्चस्तरीय समझौता हुआ था। इसके तहत दोनों देशों को 7 दिन पहले श्रद्धालुओं की सूची जारी करनी होती है। भारत सरकार की और से भेजी गई इस सूची के बाद पाकिस्तान श्रद्धालुओं की स्क्रीनिंग करके एक हफ्ते के बाद गुरुद्वारा साहिब के दर्शन की अनुमति देता है।
अहम सवाल यह है कि किस आधार पर पाकिस्तान सरकार 27 जून को करतारपुर गलियारा खोलने की घोषणा कर सकती है?
महज दो दिन में श्रद्धालुओं का रजिस्ट्रेशन कैसे होगा और शेष औपचारिकताएं कैसे पूरी होंगी? शीशे की मानिंद साफ है कि पाकिस्तान की नीयत में खोट है।

भारत को विश्वास में नहीं लिया

भारत सरकार को कॉरिडोर खोलने की बाबत 'आकस्मिक सूचित' किया गया है, विश्वास में नहीं लिया गया और समझौते के अनुसार परामर्श तक नहीं किया गया।  

एसजीपीसी के मुख्य सचिव डॉक्टर रूप सिंह कहते हैं, ‘शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी इस संबंध में भारत सरकार का फ़ैसला मानेगी, पाकिस्तान का नहीं।’
मुख्यमंत्री के क़रीबी सूत्रों के मुताबिक़, वह इन हालात में श्री करतारपुर साहिब गलियारा खोलने के हक में नहीं हैं। वैसे भी, कैप्टन अमरिंदर सिंह 27 जून को कह चुके हैं कि कोरोना की स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो सूबे में सख़्त लॉकडाउन लागू होगा।  

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमरीक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें