loader

प्रियंका से मुलाक़ात के बाद राहुल से मिले सिद्धू, सुलह करा पाएगा आलाकमान?

बीते कुछ महीनों से पंजाब कांग्रेस में सियासी भूचाल लाने वाले पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाक़ात की। राहुल से सिद्धू की मुलाक़ात शाम को हुई जबकि प्रियंका से वह सुबह मिले थे। 

कहा जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान ने सिद्धू बनाम अमरिंदर सिंह की जंग में सुलह का फ़ॉर्मूला निकाल लिया है। पंजाब मामलों के प्रभारी और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने भी कुछ दिन पहले कहा था कि जुलाई के पहले हफ़्ते तक इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा। बता दें कि सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ मोर्चा खोला हुआ है और पार्टी आलाकमान इसका हल निकालने में जुटा हुआ है। 

इससे पहले मंगलवार को जब यह ख़बर पंजाब से लेकर दिल्ली तक के सियासी गलियारों में जोर से उड़ी कि नवजोत सिंह सिद्धू की दिल्ली में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाक़ात होनी है तो तमाम ख़बरनवीस राहुल गांधी के घर के बाहर जमा हो गए लेकिन शाम को जब राहुल ने यह कहा कि सिद्धू से मुलाक़ात का कोई शेड्यूल ही तय नहीं है तो असमंजस वाले हालात बन गए। 

ताज़ा ख़बरें
इससे सियासी गलियारों में सिद्धू की किरकिरी तो हुई ही यह मैसेज भी गया कि कांग्रेस आलाकमान सिद्धू को ज़्यादा भाव देने के लिए तैयार नहीं है। लेकिन प्रियंका और राहुल से सिद्धू की मुलाक़ात के बाद माना जाना चाहिए कि सिद्धू की बातों को पार्टी आलाकमान ने सुना है। 

बिना मिले लौट गए थे अमरिंदर 

कुछ दिन पहले जब कैप्टन अमरिंदर सिंह दिल्ली आए थे तो उनकी भी मुलाक़ात कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी या राहुल गांधी से नहीं हुई थी और कैप्टन बिना मिले ही पंजाब लौट गए थे। तब अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस आलाकमान की ओर से बनाए गए पैनल के सामने जोरदार विरोध दर्ज कराया था और कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू ने मीडिया में उनके ख़िलाफ़ बयानबाज़ी की है। 

यह साफ है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू का झगड़ा कांग्रेस आलाकमान के लिए सिरदर्द बन गया है। आलाकमान जानता है कि इस घमासान का जड़ से ख़ात्मा नहीं किया गया तो यह राज्य की सत्ता से उसकी विदाई करा देगा।

अमरिंदर सिंह नाराज़

सिद्धू ने जिस तरह कुछ मीडिया इंटरव्यू में कैप्टन को झूठा कहा है, इससे अमरिंदर सिंह बेहद नाराज़ हैं। कैप्टन ने इस बात पर एतराज जताया है कि सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का प्रधान या डिप्टी सीएम बनाया जाए। दूसरी ओर पैनल ने कैप्टन से जो वादे अधूरे रह गए हैं, उन्हें बचे हुए महीनों में पूरा किए जाने के बारे में बात की थी। इस पैनल में वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत और दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष जय प्रकाश अग्रवाल शामिल हैं। 

Punjab congress crisis Navjot sidhu met Priyanka gandhi  - Satya Hindi

क्या है नाराज़गी?

सिद्धू सहित पंजाब कांग्रेस के कुछ और नेताओं की शिकायत है कि 2015 में गुरू ग्रंथ साहिब के बेअदबी मामले और कोटकपुरा गोलीकांड के दोषियों को सत्ता में आने के साढ़े चार साल बाद भी नहीं पकड़ा जा सका है। अमरिंदर सिंह पर आरोप है कि उन्होंने बेअदबी मामले में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और उनके परिवार को बचाने की पूरी कोशिश की है और ऐसा करके जनता से धोखा किया गया है। क्योंकि 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने पंजाब में जनता से वादा किया था कि वह इस मामले के दोषियों को सजा दिलाएगी। 

इसके अलावा ज़मीन, रेत, ड्रग्स, केबल और अवैध शराब के माफ़ियाओं के ख़िलाफ़ कार्रवाई न होने का भी सवाल विधायकों ने पैनल के सामने उठाया था। विधायकों का कहना था कि अमरिंदर सिंह के कामकाज का तरीक़ा तानाशाही वाला है।

पंजाब से और ख़बरें

कुछ भी हो कांग्रेस आलाकमान को चुनाव से 8 महीने पहले शुरू हुए इस सत्ता संघर्ष को थामना ही होगा, वरना दिल्ली पहुंचे इन विधायकों-नेताओं की नाराज़गी पार्टी को भारी पड़ेगी, यह तय माना जाना चाहिए। 

अब कांग्रेस आलाकमान कौन सा ऐसा रास्ता निकाले, जिससे वह इस घमासान से पार पा सके। मुख्यमंत्री को बदलने का जोख़िम वह उठा नहीं सकता क्योंकि चुनाव नज़दीक हैं। सिद्धू के अलावा भी कई लोग नाराज़ हैं, उनकी बातों को भी नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें