loader

राजस्थान: राज्यपाल ने तीसरी बार लौटाया सत्र बुलाने का प्रस्ताव, बढ़ सकता है टकराव

राजस्थान में राजभवन और सरकार के बीच टकराव और बढ़ सकता है क्योंकि राज्यपाल कलराज मिश्रा ने गहलोत सरकार की ओर से विधानसभा सत्र बुलाने के लिए भेजे गए प्रस्ताव को लौटा दिया है। यह तीसरा मौक़ा है, जब प्रस्ताव लौटाया गया है। गहलोत सरकार ने मंगलवार को राज्यपाल को तीसरी बार प्रस्ताव भेजा था और कहा था कि वह हर हाल में 31 जुलाई को विधानसभा का सत्र बुलाना चाहती है। 

बीएसपी पहुंची हाई कोर्ट

उधर, बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय को रद्द करने की मांग वाली याचिका लेकर बीएसपी हाई कोर्ट पहुंच गयी है। बीजेपी की ओर से भी इस मामले में विधायक मदन दिलावर की ओर से दायर की गई है। 

इससे पहले सोमवार को राज्यपाल ने बयान जारी कर कहा था कि सैद्धांतिक रूप से वह विधानसभा सत्र बुलाए जाने के विरोध में नहीं हैं। उन्होंने कोरोना संकट का ज़िक्र करते हुए तीन शर्तें रखी थी। इन शर्तों के अनुसार विधानसभा सत्र तीन हफ़्ते तक नहीं बुलाया जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

राज्यपाल ने कहा था कि विधायकों को कोरोना संकट के बीच इतने शॉर्ट नोटिस पर बुलाना मुश्किल होगा तो क्या उन्हें नोटिस के लिए 21 दिन का समय नहीं दिया जाना चाहिए? उन्होंने सवाल उठाया था कि फ़िजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कैसे किया जाएगा? 

राज्यपाल ने पूछा था, ‘क्या मुख्यमंत्री विश्वास मत लाना चाहते हैं, क्योंकि प्रस्ताव में इसका ज़िक्र नहीं है और लोगों के बीच मुख्यमंत्री बयान दे रहे हैं कि वह विश्वास मत लाना चाहते हैं?’ 

उखड़ गए थे राज्यपाल 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस बयान पर कि ‘जनता विधानसभा को घेर लेगी’ राज्यपाल उखड़ गए थे। राज्यपाल ने पत्र लिखकर कहा था कि वह गहलोत के बयान से आहत हैं। महामहिम राज्यपाल ने लिखा था, ‘मैंने अपने लंबे राजनीतिक जीवन में किसी भी मुख्यमंत्री का इस तरह का बयान नहीं सुना और चुने हुए विधायकों द्वारा राज्यपाल के आवास के अंदर धरना देना गलत परंपरा एवं दबाव की राजनीति की शुरुआत तो नहीं है?’ 

राजस्थान से और ख़बरें

विधानसभा सत्र बुलाए जाने की मांग को लेकर कांग्रेस राजभवन में विधायकों की नारेबाज़ी से लेकर तमाम क़दम उठा चुकी है। कांग्रेस जानती है कि विधायकों को लंबे समय तक होटल में रखना संभव नहीं है, ऐसे में सत्र बुलाकर तुरंत विश्वास मत हासिल किया जाए। 

विधायकों के पाला बदलने का डर

राजस्थान की सियासत में गहलोत और पायलट गुट एक-दूसरे पर मनोवैज्ञानिक दबाव तो बना ही रहे हैं, दोनों के सामने अपने विधायकों को साधे रखने की भी चुनौती है। इसीलिए कांग्रेस बार-बार कहती है कि पायलट अपने विधायकों के साथ आकर पार्टी नेतृत्व से बात करें। लेकिन बाग़ी नेता पायलट को भी इस बात का डर है कि अब तक उनके साथ रहे विधायक होटल से बाहर निकलने के बाद कहीं पलटी न मार दें। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें