loader

राजस्थान: खाप पंचायत ने चाची-भतीजे को सैकड़ों लोगों के सामने नहाने को मजबूर किया

खाप पंचायतें अपने कट्टर फ़ैसलों के लिए जानी जाती हैं, ये तो आज तक सभी ने सुना था। लेकिन राजस्थान के सीकर जिले की एक स्थानीय खाप पंचायत ने हाल में कुछ ऐसा किया है, जिससे पता चलता है कि इनमें शामिल लोग बेहद वहशी और क्रूर किस्म के हैं। 

शुद्धिकरण के नाम पर हैवानियत

सीकर में सांसी समुदाय से संबंध रखने वाली एक महिला और एक पुरूष को वहां की स्थानीय खाप पंचायत ने सैकड़ों लोगों के सामने कपड़े उतारकर नहाने को मजबूर किया। ये रिश्ते में चाची और भतीजे हैं। कहा गया है कि खाप पंचायत ने ऐसा इन दोनों के शुद्धिकरण के नाम पर किया। ख़बरों के मुताबिक़, चाची और भतीजे के बीच अवैध संबंध थे। महिला और पुरूष पर 31 हज़ार और 22 हज़ार का जुर्माना भी लगाया गया। 

ताज़ा ख़बरें

सोला गांव में यह घटना 21 अगस्त को हुई है। सीकर पुलिस का कहना है कि खाप पंचायत के ख़िलाफ़ लगे इन आरोपों का सिद्ध होना बाक़ी है, हालांकि इस मामले में 9 लोगों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस ने कहा है कि वह ग्रामीणों के बयान दर्ज कर रही है और उनके द्वारा घटना के बनाए वीडियो और फ़ोटो को जब्त करने की कोशिश कर रही है।

इसे लेकर सांसी समुदाय के कुछ लोगों ने सीकर जिला पुलिस को ज्ञापन भी दिया है और समाज के कुछ पंचों के ख़िलाफ़ सख़्त से सख़्त कार्रवाई की मांग की है। घटना के दौरान वहां बड़ी संख्या में स्थानीय ग्रामीण मौजूद थे, वे लोग वीडियो बनाते रहे और किसी ने भी इस वहशी फ़ैसले का विरोध नहीं किया। 

राजस्थान से और ख़बरें
महानगरों में बैठकर ऐसा लगता है कि देश बहुत आधुनिक हो गया है लेकिन गांवों, छोटे कस्बों में अभी भी खाप पंचायतों का वजूद जिंदा है और आपको जानकर हैरानी होगी कि बड़े-बड़े नेता इन खाप पंचायतों को संस्कृति को जिंदा रखने के लिए बेहद ज़रूरी बताते हैं। खाप पंचायतों के बेहूदा फ़ैसलों को सुप्रीम कोर्ट तक ले जाया चुका है लेकिन इनके आगे किसी की नहीं चलती। 
ये लोग अपने मन की अदालत चलाना चाहते हैं और जो मर्जी सजा जिसे दे दें, वह उसे माननी ही होगी। वरना उसका सामाजिक बहिष्कार कर दिया जाएगा।
ये खाप पंचायतें एक ही गोत्र में विवाह करने के ख़िलाफ़ फतवे देती हैं। इनकी वजह से ऑनर किलिंग की वारदात होना आम बात है। इनके ख़ौफ़ के कारण सैकड़ों प्रेमी जोड़े आत्महत्या कर चुके हैं। इन्होंने ऐसा माहौल बनाया हुआ है कि जो इनकी बात नहीं मानेगा, उसका ये हुक्का-पानी बंद कर देंगे और सामाजिक बहिष्कार करवा देंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें