loader

राजस्थान: वेणुगोपाल ने मंत्रियों को चेताया- बयानबाजी की तो हटाए जाएंगे

राजस्थान कांग्रेस में चल रहे सियासी संकट को सुलझाने के लिए कांग्रेस के महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल जब मंगलवार को जयपुर पहुंचे तो उन्होंने बयानबाजी करने वाले नेताओं के साथ ही मंत्रियों को भी सख्त चेतावनी दी। केसी वेणुगोपाल 4 दिसंबर को राजस्थान में प्रवेश करने जा रही भारत जोड़ो यात्रा की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए राज्य के दौरे पर पहुंचे थे। 

जयपुर में उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट से अलग-अलग बंद कमरे में बातचीत की और उन्हें कांग्रेस नेतृत्व के संदेश के बारे में भी बताया। 

बताना होगा कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट के खेमों के बीच पिछले ढाई साल से सियासी अदावत चल रही है। कुछ दिन पहले गहलोत के सचिन पायलट के द्वारा साल 2020 में की गई बगावत को गद्दारी का नाम दिए जाने के बाद यह अदावत फिर तेज हो गई है। 

rajasthan congress crisis bharat jodo yatra - Satya Hindi

हालांकि पार्टी के महासचिव जयराम रमेश अशोक गहलोत की टिप्पणी को अप्रत्याशित और आश्चर्यजनक बता चुके हैं। जयराम रमेश ने कहा था कि अशोक गहलोत को कुछ शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था। 

कांग्रेस ने इस बात का भी संकेत दिया है कि वह पार्टी के हित में कोई बड़ा फैसला लेने से नहीं चूकेगी। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को इंदौर में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कहा था कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों ही कांग्रेस के लिए एसेट हैं। 

rajasthan congress crisis bharat jodo yatra - Satya Hindi

कांग्रेस नेतृत्व नहीं चाहता कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट की लड़ाई का कोई असर राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा पर पड़े। पार्टी नेताओं का पूरा ध्यान इस यात्रा को सफल बनाने पर है और क्योंकि राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है और यहां अगले साल विधानसभा के चुनाव भी होने हैं, इसलिए पार्टी इस यात्रा को कामयाब देखना चाहती है। 

बहरहाल, द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, भारत जोड़ो यात्रा की समीक्षा बैठक के दौरान केसी वेणुगोपाल ने कड़े शब्दों में चेतावनी दी कि पार्टी नेताओं की ओर से किसी भी तरह की और बयानबाजी अब नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर कोई मंत्री भी इस तरह की बयानबाजी करते हुए पाया गया, तो उसे कैबिनेट से हटाया जा सकता है। केसी वेणुगोपाल ने कहा कि यह बात सभी के लिए लागू होगी। 

याद दिला दें कि पिछले कुछ दिनों में सचिन पायलट के समर्थक मंत्रियों हेमाराम चौधरी, राजेंद्र गुढ़ा के साथ ही राज्य कृषि उद्योग बोर्ड की उपाध्यक्ष सुचित्रा आर्य ने सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की खुलकर मांग की। सोशल मीडिया पर भी पायलट समर्थक सक्रिय हो गए थे। खुद पायलट ने भी कहा कि राजस्थान में अनिश्चितता का माहौल अब खत्म होना चाहिए। 
कांग्रेस नेतृत्व चाहता है कि राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान अशोक गहलोत और सचिन पायलट राहुल गांधी के साथ-साथ दिखें।

सब कुछ ठीक?

समीक्षा बैठक के बाद केसी वेणुगोपाल ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट के हाथ खड़े कर यह दिखाने की कोशिश की है कि राजस्थान कांग्रेस के भीतर सब कुछ ठीक है। यह सभी जानते हैं कि पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के समर्थक अपने नेता को मुख्यमंत्री के पद पर देखना चाहते हैं लेकिन अशोक गहलोत ने कुछ दिन पहले एनडीटीवी को दिए इंटरव्यू में साफ कर दिया था कि वह किसी भी सूरत में सचिन पायलट को मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं करेंगे।

गहलोत समर्थकों ने साल 2020 में की गई बगावत को मुद्दा बना लिया है।  सितंबर में जब कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई थी तब भी गहलोत समर्थक विधायक उस बैठक में नहीं पहुंचे थे और उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा था कि पार्टी के साथ गद्दारी करने वालों को मुख्यमंत्री नहीं बनाया जाना चाहिए। 

राजस्थान से और खबरें

राजस्थान में कांग्रेस के पास 108 विधायक हैं और माना जाता है कि उसमें से लगभग 90 विधायकों का समर्थन अशोक गहलोत के पास है।

द इंडियन एक्सप्रेस ने कांग्रेस के सूत्रों के हवाले से कहा था कि पार्टी नेतृत्व इस मामले में राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा के निकल जाने के बाद ही कोई फैसला लेगा। 

ऐसे में राजनीतिक विश्लेषकों और कांग्रेस नेताओं को राजस्थान के संकट के पूरी तरह ख़त्म होने का इंतजार है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें