loader

बीजेपी को राष्ट्रवादी लगने लगे 'टुकड़े-टुकड़े गैंग' के नारे, कांग्रेस ने भी की नक़ल

चुनावी घमासान में बीजेपी और कांग्रेस, दोनों एक-दूसरे की नक़ल पर उतारू हैं। दोनों ही प्रचार की एक जैसी शैली अपना रहे हैं। और इस लड़ाई में सबसे दिलचस्प यह है कि बीजेपी को अब उस तथाकथित ‘टुकड़े-टुकड़े’ गैंग के नारे भी ‘राष्ट्रवादी’ लगने लगे हैं, जिसके ख़िलाफ़ बीजेपी ने कभी आसमान सिर पर उठा लिया था। और जेएनयू को बदनाम करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी। 

बीजेपी ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में अपनी बात लोगों तक पहुँचाने के लिए उसने ‘टुकड़े-टुकड़े’ गैंग के ‘आज़ादी’ के नारों का सहारा लिया है। अब इसमें एक ख़ास बात यह है कि कांग्रेस ने भी ‘आज़ादी’ की थीम पर ठीक ऐसा ही अपना वीडियो बनाया है। 

यही नहीं, दोनों पार्टियों के वीडियो में एक और समानता है। दोनों ही वीडियो गली ब्वॉय के पॉपुलर रैप साँग पर बनाए गए हैं। दोनों ही वीडियो अपने-अपने रैप साँग में लगभग एक तरह की ही लाइनों पर एक-दूसरे पर राजनीतिक हमले कर रहे हैं। 

बीजेपी कहती रही देशद्रोही

बीजेपी के वीडियो को देखने के बाद आप भी यह सवाल पूछने के लिए मज़बूर होंगे कि जिन नारों को लेकर बीजेपी जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों को ‘देशद्रोही’ बताती रही, इसके बदले कथित राष्ट्रवाद के नाम पर चुनावी फ़सल काटती रही, आख़िरकार लोकसभा चुनाव से ठीक पहले उसे ‘टुकड़े-टुकड़े’ गैंग के ‘आज़ादी’ के नारे को इस्तेमाल करने की क्या ज़रूरत पड़ गई? 

बीजेपी के वीडियो की शुरुआत ही जेएनयू के छात्रों के ‘आज़ादी’ के नारे से की गई है। इसमें ख़ासतौर पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को निशाना बनाया गया है। 

‘आज़ादी’ के नारों पर हुई ख़ूब राजनीति

आपको याद दिला दें कि 9 फरवरी, 2016 को जेएनयू परिसर में हुए एक कार्यक्रम में कन्हैया और उनके साथियों ने ‘आज़ादी’ के नारे लगाए थे। लेकिन बीजेपी ने इसे इस तरह से प्रचारित किया कि ये छात्र देश से आज़ादी की माँग कर रहे हैं। यह भी आरोप लगाया गया था कि इस कार्यक्रम में कथित तौर पर देश विरोधी नारे लगाए गए थे। 

इन आरोपों के चलते जेएनयू छात्रसंघ के तत्कालीन अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उनके दो साथियों उमर ख़ालिद और अनिर्बन को गिरफ़्तार कर लिया गया था। 

ज़ेल से बाहर आने के बाद कन्हैया ने अपने भाषण में कहा था, ‘हम भारत से आज़ादी नहीं चाहते हैं। हम भुखमरी, जातिवाद, अत्‍याचार से आज़ादी चाहते हैं। हम फ़र्जी ट्वीट करने वाले आरएसएस के लोगों से आज़ादी चाहते हैं।’ 
उधर, कांग्रेस ने भी ‘आज़ादी’ के नारे के सहारे बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार किया है। 
कांग्रेस के वीडियो में जस्टिस लोया की मौत का मुद्दा उठाने के साथ ही मोदी को मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस पर मेहरबान बताया गया है। रफ़ाल घोटाले पर राहुल गाँधी के ‘चौकीदार चोर है’ के नारे को वीडियो में दिखाते हुए अमित शाह के बेटे जय शाह को ‘स्टार’ बनाने की बात कही गई है। 
कांग्रेस के वीडियो में दलितों पर अत्याचार, मॉब लिंचिंग की घटनाओं को दिखाते हुए गौरी लंकेश की मौत का भी ज़िक्र किया गया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें