loader

एड में सुशांत का 'मज़ाक़ उड़ाया'? अब बिंगो का बहिष्कार

सोशल मीडिया पर 'बिंगो का बहिष्कार' ट्रेंड करता रहा। वजह थी विज्ञापन। विज्ञापन से भावनाएँ तो आहत हुईं, लेकिन वे भावनाएँ न तो धार्मिक थीं और न ही जातीय या फिर 'लव जिहाद', जैसा कि हुआ। इस बार कुछ शब्दों ने सोशल मीडिया यूज़रों को आहत कर दिया! आपत्ति है कि विज्ञापन में 'फ़ोटोन', 'अल्गोरिथम', 'पाराडॉक्स' जैसे शब्द इस्तेमाल नहीं किए जाने चाहिए थे। आरोप लगाया गया कि विज्ञापन में इन शब्दों के माध्यम से सुशांत सिंह राजपूत का मज़ाक़ उड़ाया गया। अब भावनाएँ तो भावनाएँ हैं। चाहे वे धार्मिक हों या चहेते अभिनेता के प्रति लगाव वाली। भावनाएँ आहत होने पर ब्रांड के बहिष्कार का ट्रेंड जो बन गया है! तनिष्क ज्वैलरी के विज्ञापन पर आपत्ति हो तो ज्वैलरी का बहिष्कार। चीन पर ग़ुस्सा हो तो चीनी सामानों का बहिष्कार। 

ख़ास ख़बरें

बहरहाल, ताज़ा जो मामला है उसका शिकार प्रसिद्ध चिप्स और स्नैक ब्रांड बिंगो हुआ है। इसके ब्रांड एम्बेसडर बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह हैं। रणवीर सिंह का ही एक विज्ञापन आया है। इस विज्ञापन को शीर्षक दिया गया है- 'बेटा आगे क्या प्लान है'। 

यह विज्ञापन सिर्फ़ 30 सेकंड का है। विज्ञापन देखने पर लगता है कि कोई पारिवारिक कार्यक्रम चल रहा है जिसमें क़रीबी लोग शरीक हुए हैं। विज्ञापन में एक व्यक्ति रणवीर सिंह से आगे की उनकी योजना के बारे में पूछता है- 'बेटा कॉलेज तो ख़त्म हो गया, अब आगे क्या प्लान है?' विज्ञापन में दिखाया गया है कि दूसरे कई रिश्तेदार भी उनसे यही सवाल पूछते हैं। 

फिर विज्ञापन में दिखाया गया है कि रणवीर सिंह बिंगो चिप्स खाते हैं और वह एक साँस में कुछ अटपटे तरीक़े से विज्ञान के शब्द बोलते जाते हैं- 'पाराडॉक्स, फ़ोटोन, अल्गोरिथम...'। शायद इसका मतलब निकालना मुश्किल हो। विज्ञापन में सारे रिश्तेदार सोच में पड़ जाते हैं और फिर बिंगो का विज्ञापन आता है। इसके वाइसओवर में कहा गया कि 'जब लोग आपको पकाने लगें तो लाओ डिफ़रेंट ऐंगल...'। 

विज्ञापन देखने के बाद सोशल मीडिया यूज़रों ने 'फ़ोटोन', 'अल्गोरिथम', 'पाराडॉक्स' जैसे विज्ञान के शब्दों पर यह कहते हुए आपत्ति की क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे सुशांत सिंह राजपूत पर तंज कसा गया है। सुशांत सिंह राजपूत की विज्ञान, अंतरिक्ष, तारे जैसी चीजों में रुचि थी। सुशांत के इंस्टाग्राम बायो में भी लिखा हुआ है- 'Photon in a double-slit'। सुशांत अक्सर इंटरव्यू में विज्ञान, अल्गोरिथम, अंतरिक्ष के बारे में चर्चा करते रहते थे। 

boycott bingo trended for for alleged mocking of sushant rajput in ad featuring ranveer singh - Satya Hindi

इन्हीं कारणों से ट्विटर यूज़रों ने बिंगो और रणवीर सिंह की आलोचना शुरू की। एक यूज़र ने लिखा, 'अनपढ़ लोग यह नहीं जान पाएँगे कि फ़ोटोन और न्यूट्रॉन हमारे लिए क्या मायने रखते हैं। बिंगो का हमेशा के लिए बहिष्कार करो। मुझे अभी भी याद है- Photon in a double-slit।

जस्टिस फॉर एसएसआर नाम के ट्विटर यूज़र ने लिखा है, 'इन शब्दों का उपयोग करने से आपका क्या मतलब है? आप लोग एक ऐसे व्यक्ति को क्यों निशाना बना रहे हैं जो ख़ुद का बचाव भी नहीं कर सकता है?

लेकिन हम बचाव करेंगे! SSRians, उन्हें दिखाओ!'

श्रीनवाती नाम के यूज़र ने लिखा है, 'रणवीर सिंह, मैं सिर्फ़ यह जानना चाहती हूँ कि विज्ञापन में आपके हिस्से को किसने डब किया था? मुझे यक़ीन है कि आप यहाँ एक भी शब्द का अर्थ नहीं जानते हैं! यदि कोई भी आपको पता है तो मुझे बताएँ कि अल्गोरिथम क्या है! या फोटॉन क्या है!

लेवल मायने रखता है, मज़ाक़ नहीं!'

डॉ. सन्नी दत्तागुप्ता नाम के यूज़र ने लिखा है, 'सुशांत सिंह राजपूत की शैक्षिक और वैज्ञानिक विशेषज्ञता का चिप्स ब्रांड का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति द्वारा क्रूरता से मज़ाक़ किए जाने को देखना बेहद निराशाजनक है!

उसकी शैक्षणिक योग्यता क्या है, पता नहीं है। यह देखकर दुख होता है कि सुशांत सिंह केस मामले में सीबीआई फ़ाइल के लिए सभी प्रयास व्यर्थ साबित हो रहे हैं।'

ट्विटर यूज़र द्वारा विज्ञापन हटाने की माँग किए जाने के बावजूद बिंगो ने विज्ञापन नहीं हटाया है। इसकी तरफ़ से जारी सफ़ाई में कहा गया है कि सुशांत सिंह राजपूत का मजाक नहीं उड़ाया गया है। इसकी तरफ़ से यह भी कहा गया है कि यह विज्ञापन पिछले साल ही शूट हो गया था लेकिन कोरोना लॉकडाउन की वजह से इसे जारी नहीं किया गया था। बयान के अनुसार, अब जारी किया गया है तो इसका सुशांत सिंह से कुछ लेनादेना ही नहीं है। 

तनिष्क का बहिष्कार

बता दें कि तनिष्क का विज्ञापन दो बार विवादों में रहा और उसे विज्ञापन हटाया पड़ा था। हाल में तनिष्क का दीवाली को लेकर विज्ञापन विवाद में आ गया था। इस वीडियो विज्ञापन में पटाखे नहीं जलाने और प्यार और पॉजिटिविटी से इस त्योहार को मनाने की बात कहते सुना जा सकता था। यही बात कुछ लोगों को चुभ गई और सोशल मीडिया पर पटाखे नहीं जलाने की बात का बतंगड़ बना दिया गया था। फिर तनिष्क को ट्विटर से उस को विज्ञापन हटाना पड़ा था। वैसे, हाल के दिनों में इस कंपनी का यह दूसरा विज्ञापन है जब दक्षिण पंथियों ने निशाना बनाया और कंपनी को उस विज्ञापन को हटाना पड़ा। इससे पहले 'एकत्वम' विज्ञापन को हिंदू-मुसलिम वाला और 'लव जिहाद' को बढ़ावा देने वाला कहकर निशाना बनाया गया था। जबकि उस विज्ञापन में संदेश दिया गया था- 'एक जो हुए हम, तो क्या ना कर जाएँगे।' यानी इसमें एकता की बात की गई है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें