loader

कुनाल कामरा को लेकर बंटा सोशल मीडिया, हुई जोरदार बहस

पत्रकार अर्णब गोस्वामी को ‘व्यक्तिगत आज़ादी’ के आधार पर जमानत देने के बाद सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले की जमकर आलोचना हो रही है। आलोचना करने वालों में सबसे मुखर हैं कॉमेडियन कुनाल कामरा। कामरा के ट्वीट्स के ख़िलाफ़ अदालत से शिकायत की गई और अदालत ने उन पर अवमानना का मुक़दमा चलाये जाने की मंजूरी दे दी। 

लेकिन लगता है कि कामरा इससे झुकने वाले नहीं हैं। कामरा ने एलान-ए-जंग करते हुए कहा है कि  वह न तो वकील हायर करेंगे, न ही माफ़ी मांगेंगे और न जुर्माना भरेंगे। कामरा के मुताबिक़, उन्होंने जो कहा है वह उससे पीछे नहीं हटेंगे। 

ताज़ा ख़बरें
इसके बाद हालिया प्रशांत भूषण मामले की भी याद लोगों को ताज़ा हो आई है। प्रशांत भूषण ने अपने ट्वीट्स को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बताते हुए माफ़ी मांगने से इनकार कर दिया था और सुप्रीम कोर्ट को उन्हें एक रुपये के जुर्माने पर छोड़ना पड़ा था। 
देखिए, इस विषय पर वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार की टिप्पणी- 

लेकिन कामरा जब ये कहते हैं कि वह कोई जुर्माना भी नहीं भरेंगे तो इसका मतलब साफ है कि यह मामला और तूल पकड़ेगा। आइए, देखते हैं कि ट्विटर पर लोगों का कुनाल के ट्वीट्स और उन पर अवमानना का मुक़दमा चलाने को लेकर क्या कहना है। 

कुनाल के माफ़ी न मांगने वाले ट्वीट पर साकेत राय नाम के यूजर लिखते हैं कि हमें तुम पर गर्व है। 

एडवोकेट अब्दुल हन्नान लिखते हैं कि वे कुनाल कामरा के बयान का समर्थन नहीं करते लेकिन साथ ही वह अर्णब गोस्वामी की भाषा को लेकर सवाल भी उठाते हैं। 

एडवोकेट बजरंग राठौर कहते हैं कि ईश्वर कुनाल को थोड़ा समझ दे। 

रेखा मीणा सुप्रीम कोर्ट की निष्पक्षता पर सवाल उठाती हैं। 

एडवोकेट वंदना जोशी पूछती हैं कि कुनाल कामरा पर अवमानना का केस क्यों किया गया है?

दिनेश भारद्वाज नाम के ट्विटर यूजर कहते हैं कि कुनाल कामरा ने जो कहा है, वो बात देश की सारी जनता कहना चाहती है, कह नहीं पाई वो बात अलग है। 

मोहम्मद अली लिखते हैं, ‘अफसोस जो आवाज़ इस देश के पत्रकारों को उठानी चाहिए थी वो आवाज एक स्टैंड अप कॉमेडियन कुनाल कामरा को उठानी पड़ रही है।’

‘व्यक्तिगत आज़ादी’ पर भी सवाल 

शीर्ष अदालत की ‘व्यक्तिगत आज़ादी’ वाली टिप्पणी भी सोशल मीडिया पर बहस का मुद्दा बनी हुई है। लोगों का कहना है कि क्या वरवर राव, उमर खालिद व कुछ अन्य लोगों की कोई व्यक्तिगत आज़ादी नहीं है। सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के फ़ोटो वायरल कर या उनका जिक्र कर अदालत से पूछा जा रहा है कि आख़िर इन लोगों के लिए व्यक्तिगत आज़ादी वाला क़ानून या अधिकार लागू क्यों नहीं होता। 

इनमें पत्रकार सिद्दीक़ी कप्पन, सामाजिक कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज, 79 वर्षीय वरवर राव, 83 साल के स्टेन स्वामी, यूएपीए के तहत गिरफ़्तार उमर खालिद, जेएनयू के छात्र शरजील इमाम, जामिया के छात्र मीरान हैदर सहित कुछ और लोगों के नाम हैं। विक्रम नाम के यूज़र ने ऐसा ही एक ट्वीट किया।

आवाज़ को दबाने की कोशिश?

कुनाल कामरा के मामले में सोशल मीडिया साफ तौर पर बंटा दिखता है। बीजेपी और दक्षिणपंथी विचारधारा के समर्थक कुनाल कामरा के ख़िलाफ़ कड़ी से कड़ी कार्रवाई किए जाने की मांग करते हैं। वहीं, दूसरी ओर सत्ता के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने वाले लोगों का कहना है कि कामरा ने जो कुछ कहा है, वह अभिव्यक्ति की आज़ादी के हक़ के तहत कहा है और उन पर अदालत की अवमानना का मुक़दमा चलाना आलोचना की आवाज़ को दबाने की कोशिश है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें