loader

फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप में भी छंटनी: रिपोर्ट

वॉल स्ट्रीट जर्नल ने रिपोर्ट दी है कि मेटा के सीईओ मार्क ज़ुकरबर्ग ने अधिकारियों से पुष्टि की है कि कंपनी बुधवार सुबह कर्मचारियों की छँटनी शुरू कर देगी।

ज़ुकरबर्ग ने मंगलवार सुबह कंपनी के सैकड़ों अधिकारियों को संबोधित करते हुए बड़ी कटौती का संकेत दिया। रिपोर्ट के अनुसार, ज़ुकरबर्ग ने समूहों के रूप में भर्ती और व्यावसायिक टीमों का ज़िक्र किया, जो छँटनी का काम देखेंगे। कंपनी की छँटनी योजनाओं की आंतरिक घोषणा जल्द होने की संभावना है।

ताज़ा ख़बरें

मेटा प्लेटफॉर्म्स के तहत आने वाले फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप में कर्मचारियों की छंटनी की यह योजना तब आई है जब मुनाफे के संदर्भ में उनका निराशाजनक प्रदर्शन रहा है और बिक्री में गिरावट आई है। माना जा रहा है कि इसी को देखते हुए कंपनी ने लागत में कटौती की रणनीति बनाई है और छंटनी इसी योजना का हिस्सा है।

सितंबर के अंत में मुख्य कार्यकारी अधिकारी यानी सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने कर्मचारियों को बताया था कि मेटा ने ख़र्च कम करने और टीमों को पुनर्गठित करने की योजना बनाई है। बता दें कि कुछ समय पहले ही कंपनी ने नयी भर्ती पर रोक लगा दी थी। रिपोर्टों में कहा गया है कि मेटा की योजना है कि 2022 की तुलना में 2023 में कर्मचारियों की संख्या कम हो।

अधिकारियों को छँटनी के लिए तैयार करने के लिए जुकरबर्ग ने 8 नवंबर को उनके साथ बात की और कहा कि प्रभावित कर्मचारियों को 9 नवंबर से इस मामले में जानकारी दी जाने लगेगी।

सोशल मीडिया से और ख़बरें

मेटा की बैठक में शामिल लोगों ने वाल स्ट्रीट जर्नल को बताया कि जुकरबर्ग ने कहा है कि वह कंपनी में आई मंदी के लिए जवाबदेह हैं। अख़बार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि मेटा के मानव संसाधन प्रमुख लोरी गोलर ने कहा है कि जिन कर्मचारियों की नौकरी जाएगी उन्हें कम से कम चार महीने का वेतन दिया जाएगा।

फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप की मूल कंपनी मेटा ने सितंबर के अंत में कहा है कि उसके 87,000 से अधिक कर्मचारी हैं। कंपनी को उम्मीद है कि कटौती उसके कर्मचारियों की संख्या के लगभग 10% तक होगी। 

कहा जा रहा है कि 2004 में फ़ेसबुक की स्थापना के बाद से पहली बार ऐसी कटौती की जा रही है। ऐसा डिजिटल विज्ञापन राजस्व में भारी कमी को देखते हुए किया जा रहा है। 

ख़ास ख़बरें

मेटा में छँटनी की यह ख़बर तब आई है जब कुछ दिन पहले ट्विटर ने बड़े पैमाने पर अपने कर्मचारियों को बाहर निकाला है। रिपोर्ट तो यह है कि इसने 90 फ़ीसदी भारतीय कर्मचारियों को छुट्टी कर दी है और अब बस कुछ गिनती भर कर्मचारी रह गए हैं। कहा जा रहा है कि दुनिया भर में ट्विटर के क़रीब आधे कर्मचारियों की छंटनी की जा रही है।

ट्विटर को खरीदने के बाद से ही एलन मस्क ट्विटर में नये कर्मचारियों की टीम बनाने के काम में लगे हुए हैं, ऐसी ख़बरें लगातार आ रही हैं। इससे पहले कई मीडिया रिपोर्टों में कहा गया था कि ट्विटर क़रीब आधे स्टाफ की कटौती करना चाहता है। कंपनी में तब क़रीब 7500 कर्मचारी काम कर रहे थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें