loader

कंगना ने पालतू कहा तो दिलजीत बोले- हिरोइन गिरी निकल जाएगी?

कंगना रनौत फिर विवादों में हैं। किसानों के प्रदर्शन में शामिल वृद्ध महिला के बारे में ग़लत सूचना वाले ट्वीट को हटाने से शायद उन्हें लगा हो कि विवाद थम जाएगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। लोग उन्हें ग़लत ट्वीट के लिए याद दिलाते गए तो कंगना भी उलझती गईं। पंजाबी सेलिब्रिटी दिलजीत सांझ ने भी जब उन्हें उनकी ग़लती बताई तो कंगना उनसे भी भिड़ पड़ीं। दोनों के बीच 'ट्विटर वार' शुरू हो गई। कंगना ने तो उनको 'पालतू' तक कह डाला। दिलजीत सांझ ने भी कह दिया कि 'दिमाग़ ठीक है न?'।

ख़ास ख़बरें

दरअसल, इसकी शुरुआत कंगना के एक ट्वीट से हुई थी जिसमें उन्होंने किसानों के प्रदर्शन में शामिल एक वृद्धा को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने ट्वीट में शाहीन बाग़ में प्रदर्शन करने वाली 90 साल की वृद्धा बिलकिस यानी 'दादी' का ज़िक्र किया था। 

कंगना ने उस ट्वीट में दावा किया था, 'यही वह दादी है जो टाइम मैगज़ीन में सबसे शक्तिशाली भारतीय के तौर पर दिखी... और वह अब 100 रुपये में उपलब्ध है...।'  कंगना ने अधिवक्ता गौतम यादव नाम के ट्विटर हैंडल के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए यह लिखा था।

उस ट्वीट में दो तसवीरें थीं। एक में शाहीन बाग़ की 'दादी' यानी बिलकिस थीं और दूसरे में किसानों के प्रदर्शन में शामिल एक वृद्ध महिला। दोनों तसवीर की वृद्धा को बिलकिस के रूप में बताया गया। और ट्वीट में लिखा गया, 'दिहाड़ी पर दादी उपलब्ध है....।'

कंगना ने जो सूचना साझा की वह पूरी तरह ग़लत थी। फ़ैक्ट चेक करने वाली साइटों ने जब इसे ग़लत साबित कर दिया तो कंगना ने वह ट्वीट हटा लिया। लेकिन इसको लेकर लोगों में ग़ुस्सा था और उन्होंने कंगना को निशाने पर लिया। इसमें दिलजीत दोसाँझ भी शामिल हैं। 

kangana ranaut diljit dosanjh twitter war over farmers protest false tweet - Satya Hindi

दिलजीत दोसांझ ने कंगना रनौत के संदेह को दूर करते हुए इस मामले में उस वृद्धा महिला का इंटरव्यू साझा किया जो तसवीर में वायरल हुई थीं और जिनको लेकर कंगना ने पहले ट्वीट किया था। यह इंटरव्यू बीबीसी ने लिया था जिसमें महिंदर कौर कंगना रनौत को संबोधित करती हुई कहती हुई सुनी जा सकती हैं कि वह आएँ और ख़ुद देखें कि किसान कैसे काम करते हैं। उस वीडियो को शेयर करते हुए दोसाँझ ने लिखा, 'आदरणीय महिंदर कौर जी को प्रणाम! 

कंगना, सबूत के साथ इन्हें सुनिए। किसी व्यक्ति को इतना अंधा नहीं होना चाहिए। वह (कंगना) कुछ भी बोलती जाती है...।'

इस पर कंगना भड़क गईं। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, 'ओ करन जौहर के पालतू, जो दादी शाहीन बाग में अपनी सिटिज़नशिप के लिए प्रोटेस्ट कर रही थी वही बिलकिस बानो दादी जी फार्मर्स के एमएसपी के लिए भी प्रोटेस्ट करती दिखी। महिंदर कौर जी को तो मैं जानती भी नहीं। क्या ड्रामा चलाया है तूम लोगों ने? अभी तुरंत इसे बंद करो।' 

यहाँ गौर करें कि बिलकिस बानो अभी तक किसानों के प्रदर्शन में भाग नहीं ले पाई हैं। एक दिसंबर को वह प्रदर्शन में शामिल होने जा भी रही थीं तो उन्हें प्रदर्शन में शामिल नहीं होने दिया गया। जबकि कंगना का इस मामले में पुराना ट्वीट इससे भी कई दिन पहले का था। 

कंगना रनौत द्वारा पालतू वाली टिप्पणी के बाद दिलजीत ने लिखा, 'तूने क्या जितने लोगों के साथ फ़िल्म की तू उन सब की पालतू है...? फिर तो लिस्ट लंबी हो जाएगी मालिकों की...? ये बॉलीवुड नहीं है, ये पंजाब है... झूठ बोल कर लोगों को भड़काना और इमोशंस से खेलना वो तो आप अच्छे से जानती हो...।' 

दिलजीत के इस ट्वीट पर कंगना ने लिखा, 'ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज़ बजाती हूँ, ज़्यादा मत उछल, मैं कंगना रनौत हूँ तेरे जैसे चमची नहीं जो झूठ बोलूँ, मैंने सिर्फ़ और सिर्फ़ शाहीन बाग वाली प्रोटेस्टर पे कमेंट किया था, यदि कोई इसे कुछ और साबित कर दो तो मैं माफ़ी मांग लूँगी।' 

इसके जवाब में दिलजीत ने लिखा कि उन्हें किसी की माँ या बहन से बोलने की तमीज तक नहीं है। उन्होंने आगे लिखा कि वह ख़ुद महिला हैं फिर भी महिलाओं के बारे में भद्दा लिखती है। उन्होंने आगे कहा कि 'पूरे पंजाब में माँ को भगवान के बराबर का दर्जा दिया जाता है। आपने मधुमक्खी के छत्ते में हाथ डाल दिया है। पंजाबी का गूगल कर लें।'

इस पर कंगना ने जवाब दिया, 'पंजाबी समझ आती है मुझे, जिन्होंने दिल्ली में रायट्स करवाए ख़ून की नदियाँ बहाईं, दंगे करवाए उनको डिफेंड करते हुए शर्म नहीं आती? तूझे क्या शर्म आएगी, करन जौहर कैसे काम देता है सबको पता है।'
इस पर दिलजीत दोसाँझ ने लिखा,'बात किसकी हो रही और ए जा किधर रही है...? दिमाग़ ठीक है तेरा? बात को मत घूमा... सीधा जवाब दे... हमारी माँओं के बारे में जो भौंक रही है... आ के बात कर उनसे जिनको तूने 100 रुपये की दादी कही... सारी हिरोइन गिरी निकाल देंगी...।'
इस मामले में बॉक्सर विजेंदर सिंह भी कूद पड़े। उन्होंने कंगना के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा कि 'ग़लत पंगा ले लिया बहन'। 
इस पर कंगना इनसे भी उलझ पड़ीं। कंगना ने जवाब दिया, 'क्यों तू भी शिवसेना बनाएगा... भाई?'

कंगन के ट्वीट पर विजेंदर सिंह ने जवाब दिया, ' वो तो बन रखी है और काम भी अच्छा ही कर रही है।' 

बता दें कि शिवसेना का ज़िक्र शायद कंगना और और विजेंदर ने उस संदर्भ में किया है जिसमें कंगना और शिवसेना के बीच काफ़ी विवाद चला। सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में कंगना ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से कर दी थी। इस पर शिवसेना भड़क गई थी। बाद में शिवसेना के नेता और कंगना के बीच काफ़ी तू-तू मैं-मैं चली। इस बीच कंगना के बंगला के एक हिस्से को ढहा दिया गया। इस पूरे मामले को बीजेपी से भी जोड़कर देखा गया। यह विवाद अभी भी चल रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें