loader
भाविना पटेलफ़ोटो साभार: ट्विटर/अरविंद केजरीवाल

टोक्यो पैरालिंपिक में भाविना ने रजत पदक जीत रचा इतिहास!

टोक्यो पैरालिंपिक में भारत की भाविना पटेल ने टेबल टेनिस क्लास 4 की महिला एकल स्पर्धा में रजत पदक जीता है। वह फाइनल में चीन की झाउ यिंग के ख़िलाफ़ स्वर्ण पदक से चूक गईं। इस पैरालिंपिक खेलों में यह भारत का पहला पदक है। पैरालिंपिक में टेबल टेनिस में यह भारत का पहला पदक है। उनकी इस शानदार जीत की भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने भी तारीफ़ की है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है, '... आपके असाधारण दृढ़ संकल्प और कौशल ने भारत को गौरवान्वित किया है। इस असाधारण उपलब्धि के लिए आपको मेरी बधाई।' 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाविना की जीत को इतिहास रचने वाला प्रदर्शन क़रार दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'उत्कृष्ट भाविना पटेल ने रचा इतिहास! वह एक ऐतिहासिक रजत पदक घर ला रही हैं। इसके लिए उनको बधाई। उनकी जीवन यात्रा प्रेरित करने वाली है और अधिक युवाओं को खेलों की ओर आकर्षित करेगी।'

पहली बार पैरालिंपिक में भाग ले रहीं भाविना को पदक की दौड़ में काफ़ी पिछे माना जा रहा था क्योंकि उनके सामने एक से बढ़ कर एक दावेदार थे। भाविना पटेल ने सेमीफाइनल में चीन की मियाओ झांग को कड़े मुक़ाबले में 3-2 से हराया था। पटेल ने दुनिया की इस तीसरे नंबर की खिलाड़ी को हराकर फाइनल में प्रवेश किया था।

इससे पहले उन्होंने क्वार्टर फाइनल में 2016 रियो पैरालिंपिक की स्वर्ण पदक विजेता और दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाड़ी बोरिस्लावा पेरिच रांकोविच को हराया था। 

ताज़ा ख़बरें

राहुल गांधी ने भी भाविना के प्रदर्शन पर जमकर तारीफ़ की। उन्होंने लिखा, 'भावना पटेल को रजत पदक जीतने पर बधाई। भारत आपकी उपलब्धि की सराहना करता है। आपने देश को गौरवान्वित किया है।'

जीत के बाद एएनआई से बातचीत में भाविना ने कहा, 'मैं यह रजत पदक अपने देश को समर्पित करती हूँ। मैं अपने कोच, परिवार के सदस्यों और दोस्तों को उनके निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद देना चाहती हूँ।'

उन्होंने कहा, 'आज मैच के दौरान मैं थोड़ा नर्वस थी। मैं अपनी खेल रणनीति को ठीक से लागू नहीं कर सकी। अगली बार मैं अपना सर्वश्रेष्ठ ज़रूर दूंगी। मुझे खुशी है कि भारत ने पैरालिंपिक में टेबल टेनिस में रजत पदक जीतकर इतिहास रचा है।'

भाविना पटेल ने 13 साल पहले अहमदाबाद के वस्त्रापुर इलाके में नेत्रहीन संघ में खेलना शुरू किया था। उनके पिता गुजरात के मेहसाणा जिले में एक छोटी परचून की दुकान चलाते हैं। भाविना की जीत के बाद मेहसाणा में भाविना के परिवार वाले और आसपड़ोस के लोगों ने जमकर खुशियाँ मनाईं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

खेल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें