loader

एक-दूसरे की ज़मीन पर क्रिकेट खेलें भारत-पाक

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच का इंतजार दोनों देशों के लोग बेसब्री से करते हैं। सीमा पर जारी तनाव के कारण काफी समय तक मैच हो ही नहीं पाता। क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान ख़ान के पीएम बनने के बाद ऐसा लगा था कि दोनों देशों के बीच हालात बेहतर होंगे लेकिन ऐसा होता नहीं दिखाई देता क्योंकि सीमा पर हालात ठीक नहीं हुए हैं।
भारत, पाकिस्तान के साथ कोई भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेलने से इनकार नहीं कर सकता। यदि वह ऐसा करता है तो वह किसी भी ऐसी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रतियोगिता में भाग ही नहीं ले पाएगा जिसमें पाकिस्तान भी हिस्सा ले रहा हो। यह भी ध्यान देने लायक बात है कि किसी भी क्रिकेट प्रतियोगिता का शेड्यूल इस बात को ध्यान में रखकर नहीं बनाया जा सकता कि उस प्रतियोगिता में भारत और पाकिस्तान हिस्सा ले रहे हैं या नहीं।
या फिर भारत खुद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को इस बारे में बता दे कि वह अंतरराष्ट्रीय मैचों में पाकिस्तान के साथ नहीं खेलना चाहता। ऐसे में वह आईसीसी की ओर से कराई जाने वाली किसी भी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले पाएगा और विश्व चैंपियन बनने की दौड़ से खुद ही बाहर हो जाएगा। यह भी अहम बात है कि पाकिस्तान ने भारत के साथ मैच खेलने से इनकार नहीं किया है।

सियासत की भी है भूमिका

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच को लेकर राजनीति का भी अहम रोल है। भारत में आम धारणा यह है कि जब तक पाकिस्तान सीमा पर आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद नहीं करता, तब तक उसके साथ मैच नहीं खेला जाना चाहिए। ऐसा मानने वालों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के समर्थक ज़्यादा हैं। इसलिए भारत सरकार सीमा पर हालात बेहतर होने तक पाकिस्तान के साथ मैच खेलने की अनुमति नहीं दे सकती। 2019 के आम चुनाव से पहले ऐसा होना बेहद मुश्किल लगता है हालांकि नवंबर में भारत में होने वाले हॉकी के सबसे बड़े टूर्नामेंट 2018 हॉकी वर्ल्ड कप में पाकिस्तान भी खेलेगा।
India and Pakistan should play each other - Satya Hindi

मैच खेलने का किया था विरोध

हाल ही में भारत के कई क्रिकेट खिलाड़ियों ने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट मैच खेले जाने का खुलकर विरोध किया था। इनमें भारत के स्टार बल्लेबाज गौतम गंभीर से लेकर पूर्व कप्तान कपिल देव भी शामिल थे। इसके विपरीत, दोनों ही देशों में एक ऐसा वर्ग भी है जो यह मानता है कि खेल को राजनीति से दूर रखा जाना चाहिए।
एक सवाल यह भी है कि क्या क्रिकेट खेलने से वाक़ई दोनों देशों के रिश्ते बेहतर हुए हैं। अतीत में ऐसा कई बार हुआ है कि जब दोनों देशों ने आपसी रिश्तों को बेहतर करने के लिए क्रिकेट का सहारा लिया है। यह ज़रूर कहा जा सकता है कि क्रिकेट खेलने से रिश्ते बेहतर नहीं हुए तो ख़राब भी नहीं हुए हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

खेल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें