loader
फ़ोटो क्रेडिट- @BCCI

ब्रिसबेन: टीम इंडिया की महानतम टेस्ट सीरीज़ जीत!

साल 2020 के अंत में जब टीम इंडिया ने बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को मात दी तो मुझे ये कहने में बिलकुल हिचकिचाहट नहीं हुई कि लाल गेंद की क्रिकेट में विदेशी ज़मीं पर भारत की ये सबसे उम्दा जीत थी। उन्हीं तर्कों का सहारा लेते हुए मैंने साल की शुरुआत में सिडनी टेस्ट को अंसभव प्रयास से ड्रॉ होते देखा तो इसे विदेशी ज़मीं पर सबसे शानदार ड्रॉ नतीजा कहने में मुझे ज़रा भी संकोच नहीं हुआ। 

इन दोनों आकलन के पीछे मूल तर्क था कि आखिर इतने अहम खिलाड़ियों के बग़ैर टीम इंडिया तो टेस्ट क्रिकेट में कभी अपने घर पर भी नहीं उतरी है, विदेश में खेलना और वो भी ऑस्ट्रेलिया में जीतना और ड्रॉ कराने तक का ख़्याल भी ज़ेहन में आना मुश्किल था।

ताज़ा ख़बरें

ऐसे में ब्रिसबेन एक चमत्कार के बजाय ऐसा लग रहा था कि ये मैच एंटी-क्लाइमैक्स ना साबित हो जाए। मतलब ब्रिसबेन में तो चमत्कार की गुंजाइश ना के ही बराबर थी क्योंकि जो पिछले 33 सालों में एक से बढ़कर एक दिग्गज टीम ना कर पाई तो इस टीम की क्या बिसात थी? लेकिन, यहीं पर अंजिक्य रहाणे और उनके साथियों ने कंगारुओं को और सभी आलोचकों को हतप्रभ किया। 

ऑस्ट्रेलिया में लगातार दो सीरीज़ जीतने का कमाल सिर्फ इंग्लैंड, वेस्टइंडीज़ और साउथ अफ्रीका ने किया था। अगर पिछली बार यानी कि 2017 में घर में टेस्ट सीरीज़ को भी जोड़ दिया जाए तो लगातार तीन सीरीज़ में ऑस्ट्रेलिया को हराने का कमाल इतिहास में पहली बार हुआ है। सिर्फ 3 मौके इससे पहले रहे जब किसी विदेशी टीम ने पहला टेस्ट ऑस्ट्रेलिया में गंवाने के बाद सीरीज़ जीती थी। ये काम रहाणे और उनके साथियों ने किया।

india wins brisbane cricket match - Satya Hindi

किसी भी लिहाज़ से इस टीम को कमज़ोर टीम नहीं कहा जा सकता है। कंगारु टीम में दो बल्लेबाज़ ऐसे हैं जिनका टेस्ट औसत सिर्फ डॉन ब्रैडमैन से कम है। अगर मार्नस लाबुशेन फिलहाल सर्वकालीन बेहतरीन औसत के मामले में नंबर 2 (62 का औसत 18 टेस्ट में) और स्टीव स्मिथ (61.85 का औसत 77 मैच), जवाब में भारतीय आक्रमण पर नज़र दौड़ायें तो इसके पास इतने टेस्ट विकेट भी नहीं थे जितने कि पार्ट-टाइमर लाबुशेन के पास थे। कहने का मतलब है कि दोनों टीमों के बीच फासला कितना गहरा था। 

देखिए, इस जीत पर वीडियो- 

ऐसे में कोई ये कहता कि रहाणे की टीम गाबा में ऑस्ट्रेलियाई अश्वमेघ (31 टेस्ट से अपराजित जिसमें 24 जीत और 7 ड्रॉ थे) को रोकेगी तो हर कोई हंस पड़ता। ठीक 1 महीने पहले एडिलेड में 36 रन पर सिमटने वाली टीम अगर चौथी पारी में अपने इतिहास का तीसरा सबसे लंबा चेज़ (328) हासिल करेगी तो उससे बड़ा आशावादी दुनिया में भला कौन हो सकता था? 

पिछले 90 साल में सिर्फ 1 टीम को छोड़ दिया जाए (414 रनों के लक्ष्य का पीछा 2008/09 में) साउथ अफ्रीका ने किया था तो आपको महसूस होगा कि आखिर वाकई में ब्रिसबेन में हुआ तो क्या हुआ है। 

खेल से और ख़बरें

बहरहाल, अब बहस होगी तो सिर्फ इस बात पर कि क्या मौजूदा सीरीज़ की जीत पिछली बार ऑस्ट्रेलिया में 2-1 की जीत से ज़्यादा बढ़ी है। मेरे ख्याल से ज़रूर है। तुलना होगी तो 2001 में भारतीय ज़मीं पर कंगारुओं के लगातार 16 टेस्ट जीत के रथ को कोलकाता के इडेन गार्डेन्स में रोकने से। 

अगर उस सीरीज़ ने द्रविड़-लक्ष्मण को भारतीय क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर के बराबरी वाला सम्मान दिलाया तो इस सीरीज़ ने दिखाया है कि रहाणे-पुजारा को भी कोहली जैसा ही सम्मान मिलना चाहिए। अगर उस सीरीज़ में अनिल कुंबले की भरपाई युवा हरभजन सिंह ने पूरी की थी तो यहां ईशांत शर्मा-मोहम्मद शमी के अनुभव को युवा मोहम्मद सिराज के जोश ने पूरा कर दिया। इस जीत का स्वाद भारतीय क्रिकेट की महानतम जीतों में से किसी के भी स्वाद से कम नहीं है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
विमल कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

खेल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें