loader

मणिपुर विधानसभा चुनाव के लिए मतदान की तारीख़ों में बदलाव क्यों हुआ?

चुनाव आयोग ने मणिपुर विधानसभा चुनाव के लिए मतदान की तारीख़ में बदलाव किया है। पहले चरण का मतदान 27 फ़रवरी की जगह अब 28 फरवरी को होगा। दूसरे चरण का मतदान 3 मार्च के बजाय 5 मार्च को होगा। नतीजे 10 मार्च को ही घोषित किए जाएंगे।

चुनाव आयोग ने कहा है कि यह निर्णय राज्य से इनपुट, जमीनी स्थितियों और इस मामले में सभी तथ्यों और परिस्थितियों पर आधारित है। बता दें कि इस मामले में बीजेपी और कांग्रेस दोनों दलों ने पिछले महीने ही राज्य में चुनाव की तारीखों को बदलने की मांग की थी।

ताज़ा ख़बरें

जनवरी के दूसरे पखवाड़े के पहले हफ़्ते में बीजेपी और कांग्रेस ने धार्मिक कारणों का हवाला देते हुए तारीख़ों में बदलाव की मांग की थी। तब चुनाव आयोग की ओर से कहा गया था कि मणिपुर में दो चरणों में 27 फरवरी और 3 मार्च को विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएँगे।

इस पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर कहा था कि 27 फरवरी को रविवार है और यह दिन ईसाई समुदाय के लिए धार्मिक महत्व का है। कांग्रेस के नेता निंगोमबम भूपेंदा मैती ने कहा था कि रविवार का दिन ईसाइयों के लिए बेहद पवित्र है और वे इस दिन चर्च जाते हैं। 

मणिपुर में बीजेपी के महासचिव देवेन लैंगपोक्लाकपाम ने भी कहा था कि वे चुनाव आयोग से इस बारे में विचार करने की अपील करेंगे। 

इसके अलावा ऑल मणिपुर क्रिश्चियन आर्गेनाइजेशन ने भी चुनाव आयोग से यही मांग की थी। इस संगठन ने एक बयान जारी कर कहा था कि वे चुनाव आयोग से अपील करते हैं कि वह ईसाइयों की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करे।

इस धार्मिक संगठन की ओर से कहा गया था कि अगर 27 फरवरी को मतदान होता है तो इससे उनकी भावनाएं आहत होंगी। राज्य की कुल आबादी 30 लाख के आसपास है और इसमें से 41 फ़ीसदी ईसाई मतदाता हैं।

इसके लिए एक तर्क यह दिया गया था कि हाल ही में पंजाब में धार्मिक कारणों की वजह से तारीख़ में बदलाव किया गया है। हाल ही में चुनाव आयोग ने राज्य सरकार और विभिन्न राजनीतिक दलों की मांगों के बाद पंजाब चुनाव की तारीख़ 14 फरवरी से 20 फरवरी कर दी थी।

राज्य से और ख़बरें
मणिपुर में 60 सीटें हैं। मतदाता सूची के अनुसार मतदाताओं की कुल संख्या 20,56,901 है। इस बीच, उत्तर प्रदेश के ग्यारह ज़िलों में जहाँ गुरुवार को मतदान हुआ था, चुनाव आयोग के अनुसार शाम 6 बजे तक क़रीब 58 प्रतिशत मतदान हुआ। 2022 उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए मतदान संपन्न हो गया है। पहले चरण में 11 जिलों की 58 सीटों पर 73 महिलाओं सहित कुल 623 उम्मीदवार मैदान में हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें