loader
पूर्व सीएम पलानीस्वामी

तमिलनाडुः पूर्व सीएम पलानीस्वामी के खिलाफ CBI जांच पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने तमिलनाडु के पूर्व सीएम पलानीस्वामी के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश पर रोक लगा दी है। मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु में राजमार्ग विभाग में ठेके देने के मामले हुए कथित भ्रष्टाचार के आरोपों पर सीबीआई जांच का आदेश दिया था। एडप्पादी के. पलानीस्वामी एआईएडीएमके नेता भी हैं।

चीफ जस्टिस एन वी रमना और जस्टिस कृष्ण मुरारी और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने हाईकोर्ट से कहा कि वह पलानीस्वामी के खिलाफ इस मामले में पहले की टिप्पणियों या आदेशों से प्रभावित हुए बिना शिकायत पर फैसला करे। 
ताजा ख़बरें
मद्रास हाईकोर्ट ने पलानीस्वामी के खिलाफ डीएमके नेता आरएस भारती की याचिका पर अक्टूबर 2018 में टेंडर अनियमितताओं की उनकी शिकायत पर मामले को निष्पक्ष, उचित और पारदर्शी जांच के लिए सीबीआई को सौंपने का आदेश पारित किया था। पलानीस्वामी ने हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ शीर्ष अदालत का रुख किया जिस पर रोक लगा दी गई थी।

डीएमके नेता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि वह सीबीआई जांच नहीं चाहते बल्कि निष्पक्ष जांच की मांग करेंगे। हाईकोर्ट को जांच कराने दें।
इस दलील पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मामले के विवरण में जाए बिना, हम हाईकोर्ट से अनुरोध करते हैं कि वह वहां प्रस्तुत रिपोर्टों पर गौर करे और रिपोर्ट की जांच के बाद एक उचित आदेश पारित करे।

भारती ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाया था कि पलानीस्वामी ने अपने आधिकारिक पद का दुरुपयोग करके अपने रिश्तेदारों और अन्य लोगों के स्वामित्व वाली कंपनियों को विभिन्न सड़क निर्माण परियोजनाएं आवंटित की हैं।
पलानीस्वामी ने तर्क दिया था कि हाईकोर्ट ने उन्हें नोटिस जारी किए बिना और अपना बचाव करने का अवसर प्रदान किए बिना गलत तरीके से आदेश पारित किया था।

डीएमके नेता ने पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निदेशालय (डीवीएसी) को निर्देश देने की मांग की थी। डीवीएसी ने पलानीस्वामी को क्लीन चिट दे दी थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें