loader
जेयाराज और बेनिक्स।

तमिलनाडु: बाप-बेटे की मौत की जांच कर रही न्यायिक टीम को धमका रहे आरोपी पुलिसकर्मी

तमिलनाडु में बाप-बेटे की पुलिस हिरासत में मौत के आरोप के बाद इस मामले में ही पुलिसिया गुंडागर्दी की एक और तसवीर सामने आई है। मद्रास हाई कोर्ट द्वारा इस मामले की जांच के लिए नियुक्त किए गए मजिस्ट्रेट ने अदालत से कहा है कि संबंधित पुलिस स्टेशन के अफ़सरों ने मामले से जुड़े सुबूत ख़त्म कर दिए हैं। इसके अलावा ये लोग जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और इन्होंने जांच कर रही टीम को धमकाने की कोशिश भी की है। 

इस मामले के बाद से ही देश में पुलिस के द्वारा किए जाने वाले उत्पीड़न को लेकर बहस जोरों पर है। एक ओर अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ़्लायड की मौत के बाद वहां के पुलिसकर्मी घुटने के बल बैठकर अपने एक साथी की ग़लती के लिए पूरे अश्वेत समुदाय से माफी मांगते हैं, वहीं दूसरी ओर, भारत में बाप-बेटे की दर्दनाक मौत (पी. जेयाराज और जे. बेनिक्स) के बाद मामले की जांच कर रही टीम को धमकाया जा रहा है। 

कई राज्यों में आए दिन ऐसे मामलों को देखने के बाद यह कहा जा सकता है कि आम जनता के प्रति पुलिस के रवैये में किसी तरह का बदलाव होना नामुमकिन दिखता है।

आधी रात को छोड़नी पड़ी जांच 

बहरहाल, तमिलनाडु के कोविलपट्टी के न्यायिक मजिस्ट्रेट भारतीदसान ने अदालत से कहा है कि पुलिसकर्मियों के विरोध के कारण उन्हें रविवार आधी रात को जांच को बीच में ही छोड़ना पड़ा और साथनकुलम पुलिस स्टेशन से बाहर निकलना पड़ा। यह वही पुलिस स्टेशन है, जहां बाप-बेटे की कथित रूप से पुलिस हिरासत में 22 जून को मौत हो गई थी। इस मामले को लेकर तमिलनाडु में ही नहीं, भारत भर में लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। 

ताज़ा ख़बरें

सीबीआई जांच के आदेश दिए

मजिस्ट्रेट की शिकायत मिलने के बाद मद्रास हाई कोर्ट ने सोमवार को जिले के डीएम को साथनकुलम पुलिस स्टेशन का नियंत्रण अपने हाथ मे लेने के लिए राजस्व विभाग के अफ़सरों को तैनात करने के लिए कहा है। अदालत ने एएसपी डी. कुमार, डीएसपी प्रथापन और कांस्टेबल महाराजन के ख़िलाफ़ आपराधिक अवमानना की कार्रवाई प्रारंभ कर दी है। जन दबाव के बाद तमिलनाडु सरकार ने भी मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं। 

टॉर्चर किए जाने की पुष्टि 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, मजिस्ट्रेट ने अदालत को लिखे अपने शिकायती नोट में गवाहों के बयान के आधार पर बाप-बेटे को टॉर्चर किए जाने की पुष्टि की है। मजिस्ट्रेट के मुताबिक़, ‘गवाहों ने कहा है कि बाप-बेटे को पूरी रात और सुबह होने तक लाठियों से मारा गया। खून से सनी हुई लाठियों और टेबल को बाद में धो दिया गया।’ 

मजिस्ट्रेट ने कहा है कि पहले पुलिस अफ़सर इन लाठियों को सामने नहीं ला रहे थे, जोर देने के बाद उन्होंने ऐसा किया। 

अख़बार के मुताबिक़, मजिस्ट्रेट ने कहा है कि जब न्यायिक टीम ने डेली रजिस्टर और कुछ अन्य डॉक्यूमेंट्स मांगे तो एएसपी डी. कुमार और डीएसपी प्रथापन ने उनकी टीम में शामिल सहयोगियों को गालियां दीं और धमकाने की कोशिश की।

मजिस्ट्रेट ने कहा है कि थाने में सीसीटीवी कैमरे की फ़ुटेज के सिस्टम को इस तरह कन्फिगर किया गया है कि हर दिन उसका डेटा ख़त्म हो जाए और बाप-बेटे की पिटाई वाली रात का डेटा भी ख़त्म होने वाली स्टेज में दिखाया गया है। 

मजिस्ट्रेट ने लिखा है कि पूछताछ के दौरान कांस्टेबल महाराजन ने कहा कि आप यहां कुछ नहीं कर सकते। महाराजन से पूछताछ के दौरान जब एक दूसरे पुलिसकर्मी से लाठी की मांग की गई तो वह भाग गया। 

तमिलनाडु से और ख़बरें

पुलिसकर्मियों ने घेर लिया थाना 

अख़बार के मुताबिक़, मजिस्ट्रेट ने कहा है कि उस रात हेड कांस्टेबल रेवथी भी थाने में मौजूद थीं। उन्हें उनकी सुरक्षा का भरोसा दिलाए जाने के बाद ही वह अपने गवाही के बयान पर हस्ताक्षर करने के लिए तैयार हुईं। मजिस्ट्रेट कहते हैं कि इस दौरान कई पुलिसकर्मी थाने के बाहर इकट्ठा हो गए और न्यायिक टीम को गालियां देने और घटनाक्रम की रिकॉर्डिंग करने लगे। उन्होंने शिकायत में कहा कि ऐसे में टीम में शामिल लोगों ने तय किया कि यहां रुकना सही नहीं होगा। 

‘खून से भीगे थे कपड़े’ 

इससे पहले रिश्तेदारों ने कहा था कि जेयाराज और बेनिक्स बुरी तरह घायल थे और उनके कपड़े खून से भीगे हुए थे। उन दोनों के कपड़े कई बार बदले गए लेकिन फिर भी वे खून से तरबतर हो रहे थे। मामले की जांच से जुड़े एक सीनियर अफ़सर ने कहा था कि शुरुआती जांच में पता चला है कि दोनों के कपड़े उतारे गए, पूरी रात उन्हें टॉर्चर किया गया और उनके मलाशय में डंडा डाला गया। उन्होंने कहा था कि बेनिक्स का ज़्यादा खून बहा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें