loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर

लॉकडाउन: सैकड़ों लोग हैदराबाद से आंध्र प्रदेश लौटने लगे, अव्यवस्था फैली

कोरोना वायरस के फैलने के बाद पूरे देश में लॉकडाउन के बीच लोगों में अपने राज्य और घर लौटने के लिए अफरा-तफरी का माहौल है। वाहन बंद हैं तो लोग पैदल ही घरों की ओर निकल रहे हैं। लेकिन राज्यों की सीमाएँ सील होने और पुलिस परमिशन ज़रूरी होने से कई जगहों पर व्यवस्था बिगड़ती भी दिख रही है। तेलंगाना में भी गुरुवार को ऐसी ही स्थिति बन गई। हैदराबाद में सैकड़ों लोग पुलिस स्टेशनों के बाहर उस पास के लिए लाइनों में लग गए जिससे वे अपने घर जा सकें। लाइनें ऐसी लगी कि 'सोशल डिस्टेंसिंग' के नियम का पालन नहीं हो पाया। ठीक उसी तरह से जैसे सब्जी और राशन की दुकानों पर लाइनें लगी हैं।

ताज़ा ख़बरें

लॉकडाउन के फ़ैसले के बाद देश भर के शहरों से ऐसी तसवीरें आ रही हैं कि ग़रीब-मज़दूर पैदल ही अपने घरों की ओर निकल पड़े हैं। अधिकतर लोगों का कहना है कि क्योंकि काम बंद हो गया है तो हर रोज़ दिहाड़ी कर कमाने वाला कहाँ से खाना खाएगा? दिल्ली-एनसीआर से पैदल उत्तर प्रदेश में अपने घर की ओर जा रहे लोगों ने तो कहा कि 'भूखे मरने से तो अच्छा है कि पैदल चलकर घर पहुँचने की कोशिश की जाए'। 

ऐसी ही रिपोर्टें गुजरात के शहरों से हैं जहाँ से राजस्थान के हज़ारों लोग पैदल ही अपने घर के निकल गए हैं। उनको कोरोना के साथ-साथ भूखे रहने की नौबत आने का संकट दिख रहा है।

ऐसा ही संकट हैदराबाद में रह रहे आंध्र प्रदेश के लोगों को भी है। हालाँकि पुलिस स्टेशनों पर जो लाइनें लगी हैं उसमें अधिकतर छात्र दिखते हैं। उस क्षेत्र में हैदराबाद शिक्षा का केंद्र है और आसपास के राज्यों के अलावा देश के दूसरे हिस्से से भी छात्र वहाँ काफ़ी संख्या में पढ़ने जाते हैं। क्योंकि छात्रों की पढ़ाई बंद हो गई है और खाना खाने का संकट है इसलिए वे अपने घर की ओर रुख कर रहे हैं। इसी कारण पास के लिए लोगों की लाइनें लगीं। इस ख़बर पर आंध्र प्रदेश की पुलिस ने कहा कि उन्हें पहले से यह पता नहीं था कि तेलंगाना पास जारी कर रहा है।

तेलंगाना से और ख़बरें

ऐसी ही स्थिति तेलंगाना-आंध्र बॉर्डर पर बनी। घंटों तक वाहन फँसे रहे क्योंकि उन्हें हैदराबाद में जाने की इजाज़त नहीं दी गई। 

अपने घर जाने के लिए लाइन में लगे एक छात्र ने 'एनडीटीवी' से कहा, 'कई दिनों से हमारे पास और कोई चारा नहीं बचा है क्योंकि हॉस्टलों को बंद किया जा रहा है और खाने की चुनौती सामने आ रही है। खाना पकाने वाले भी नहीं आ रहे हैं।' 

रिपोर्ट के अनुसार आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीवी रमेश ने कहा, 'जब प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी को वहीं रहना चाहिए जहाँ वे हैं तो तेलंगाना के अधिकारियों ने इजाज़त कैसे दी और पास क्यों जारी किए?'

बता दें कि मंगलवार रात को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा पूरे देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किए जाने की घोषणा के बाद से लोग अपने घरों की ओर लौटना चाहते हैं। लॉकडाउन के दौरान सख़्ती के कारण खाने तक की व्यवस्था करने में दिक्कतें आ रही हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें